लाइव टीवी

सदाबहार दोस्त शी की शरण में इमरान खान, CPEC प्रोजेक्ट पर चीन से वार्ता करेगा पाक

भाषा
Updated: October 7, 2019, 1:08 PM IST
सदाबहार दोस्त शी की शरण में इमरान खान, CPEC प्रोजेक्ट पर चीन से वार्ता करेगा पाक
प्रधानमंत्री इमरान खान मंगलवार को बीजिंग पहुंचेंगे.

प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) दो दिवसीय चीन यात्रा के दौरान राष्ट्रपति शी चिनफिंग (Xi Jinping) समेत देश के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात करेंगे और क्षेत्रीय एवं द्विपक्षीय महत्व के मामलों पर चर्चा करेंगे.

  • Share this:
इस्लामाबाद. पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) चीन (China) की दो दिवसीय यात्रा में मंगलवार को रवाना होंगे. इस दौरान इमरान 60 अरब डॉलर की महत्वाकांक्षी परियोजना चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (EPEC) पर बातचीत करेंगे. परियोजना से जुड़े पन बिजली, तेल रिफाइनरी और इस्पात उद्योगों के क्षेत्र में कई बड़ी परियोजनाओं पर भी चीन के साथ उच्च स्तरीय वार्ता होगी.

एक वरिष्ठ मंत्री के हवाले से आई खबर के अनुसार प्रधानमंत्री खान मंगलवार को बीजिंग पहुंचेंगे. इस दौरान खान चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग समेत देश के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात करेंगे और क्षेत्रीय एवं द्विपक्षीय महत्व के मामलों पर चर्चा करेंगे.

इमरान खान की यात्रा में सीपीईसी परियोजनाओं पर चीन के साथ वार्ता होगी.


सीपीईसी पर शीर्ष चीनी नेतृत्व के साथ वार्ता करेंगे

खान सीपीईसी की उन परियोजनाओं को आगे बढ़ाने के लिए शीर्ष चीनी नेतृत्व के साथ वार्ता करेंगे, जो सरकार के सामने मौजूद वित्तीय संकट और भ्रष्टाचार रोधी संस्था राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो के डर से रुकी हुई है. बता दें कि इमरान खान प्रधानमंत्री का कार्यभार संभालने के बाद से  चीन की यह उनकी तीसरी यात्रा होगी. इमरान खान की यह यात्रा इसलिए और महत्व रखती है, क्योंकि इसके कुछ ही दिनों बाद अगले सप्ताह शी चेन्नई के निकट मामल्लापुरम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ दूसरी अनौपचारिक शिखर वार्ता के लिए भारत जाएंगे.

खान की चीन यात्रा से पहले संघीय योजना, विकास एवं सुधार मंत्री मखदुम खुसरो बख्तियार ने संवाददाता सम्मेलन में रविवार को कहा कि पाकिस्तान पनबिजली, तेल रिफाइनरी और इस्पात कारखानों के क्षेत्र में कई बड़ी परियोजनाओं को लेकर चीन में उच्च स्तरीय वार्ता करेगा. डॉन समाचार पत्र के अनुसार बख्तियार ने कहा, ‘पाकिस्तान व्यापार, विज्ञान एवं तकनीक में संयुक्त उपक्रमों के अलावा एक प्रमुख एलएनजी टर्मिनल, 7000 मेगावाट बुंजी पनबिजली परियोजना, पाकिस्तान स्टील मिल्स, तेल रिफाइनरियों समेत अतिरिक्त परियोजनाओं पर समझौतों के लिए औपचारिक वार्ता आरंभ करेगा.’

सीपीईसी परियोजना

Loading...

काम में किसी प्रकार की ढील नहीं
अमेरिका और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के साथ इस्लामाबाद की हाल में बातचीत के बाद कुछ परियोजनाओं का काम ढीला होने की हालिया रिपोर्ट का स्पष्ट रूप से जिक्र करते हुए मंत्री ने कहा, ‘सीपीईसी पोर्टफोलियो के तहत सभी मौजूदा परियोजनाएं पटरी पर हैं और काम में किसी प्रकार की ढील नहीं आई है.’ बख्तियार ने कहा, ‘इस यात्रा के दौरान पाकिस्तान-चीन संबंधों के सभी पहलुओं पर अर्थपूर्ण वार्ता होगी.’ उन्होंने उम्मीद जताई कि इससे सीपीईसी सहयोग नई ऊंचाइयों पर पहुंचेगा.

तकनीकी पहलुओं पर चर्चा होगी
रिपोर्ट के अनुसार मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री खान, राष्ट्रपति शी और चीन के प्रधानमंत्री ली केकियांग के साथ बैठकों में कई परियोजनाओं पर बात करेंगे और इस महीने बाद में संयुक्त कार्य समूह स्तर और नवंबर में संयुक्त समन्वय समिति की बैठक में तकनीकी पहलुओं पर चर्चा होगी. पाकिस्तान में चीन के राजदूत याओ जिंग ने 30 सितंबर को कहा था कि सीपीईसी परियोजनाओं का काम धीमा नहीं हुआ है.

गौरतलब  है कि चीन के शिजियांग प्रांत को बलूचिस्तान के ग्वादर बंदरगाह से जोड़ने वाली सीपीईसी शी की महत्वाकांक्षी बेल्ट एंड रोड पहल की मुख्य परियोजना है. 3,000 किलोमीटर की इस परियोजना का मकसद चीन और पाकिस्तान को रेल, सड़क, पाइपलाइनों और ऑप्टिकल फाइबर केबल नेटवर्कों से जोड़ना है. भारत सीपीईसी का कड़ा विरोधी रहा है क्योंकि यह परियोजना पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से होकर गुजरती है.

ये भी पढ़ें: 

अंतरिक्ष से ऐसा दिखता है मक्‍का, पहले अरबी एस्ट्रोनॉट ने शेयर की तस्वीर

अमेरिका के एक बार में फायरिंग, चार की मौत, पांच घायल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 7, 2019, 1:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...