तंजानिया में पूर्व राष्ट्रपति के अंतिम दर्शन के दौरान भगदड़, 45 की मौत

तंजानिया में दिवंगत राष्ट्रपति जॉन मागुफुली (John Magufuli) के पार्थिव शरीर के दर्शन के दौरान भगदड़ होने से 45 लोगों की मौत हो गयी.

तंजानिया में दिवंगत राष्ट्रपति जॉन मागुफुली (John Magufuli) के पार्थिव शरीर के दर्शन के दौरान भगदड़ होने से 45 लोगों की मौत हो गयी.

तंजानिया (tanzania) के पुलिस ने मंगलवार को बताया कि पूर्व राष्‍ट्रपति जॉन पोम्बे जोसेफ मागुफुली (John Magufuli) के पार्थिव शरीर को आम जनता के दर्शन के लिए एक स्‍टेडियम में रखा गया था. इसे देखने के लिए कई लोग स्‍टेडियम की दीवार पर चढ़ गए थे. दीवार के गिर जाने से वहां भगदड़ मची और इससे कम से कम 45 लोगों की मौत हो गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 30, 2021, 11:19 PM IST
  • Share this:
नैरोबी. तंजानिया में दिवंगत राष्ट्रपति जॉन पोम्बे जोसेफ मागुफुली (जॉन मागुफुली, John Magufuli) के पार्थिव शरीर के दर्शन के दौरान भगदड़ होने से 45 लोगों की मौत हो गयी. पुलिस ने मंगलवार को यह जानकारी दी, जबकि यह घटना पिछले सप्ताह हुई थी. अब देश की पूर्व उपराष्ट्रपति और वर्तमान राष्ट्रपति सामिया सुलुहू हसन (Samia Suluhu Hassan) हैं. उन्होंने मांगुफुली के निधन के बाद ये पद संभाला है. वह तंजानिया की पहली महिला राष्ट्रपति हैं.

शहर के पुलिस प्रमुख लजारो मम्बोसा ने बताया कि  पूर्व राष्ट्रपति जॉन पोम्बे जोसेफ मागुफुली के शव को देखने के लिए बड़ी संख्‍या में समर्थक पहुंचे थे. उनका पार्थिव शरीर दार एस सलाम में एक स्टेडियम में रखा गया था. लोग दीवार फांंद कर अंंदर जाने की कोशिश  कर रहे थे कि दीवार ढह गई, इससे वहां भगदड़ मच गई. इसमें कम से कम 45 लोगों की मौत हो गई.

ये भी पढ़ें  तंजानिया के राष्‍ट्रपति ने पहली बार मानी देश में Corona की बात, कहा- बरतें एहतियात



ये भी पढ़ें  उत्तराखंड सरकार का बड़ा फैसला, इन 12 राज्यों से आने वालों के लिए कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट जरूरी, वरना नहीं मिलेगी एंट्री
सरकार के अनुसार हृदय संबंधी जटिलताओं के कारण मागुफुली का निधन हो गया. हालांकि विपक्षी नेताओं का कहना है कि कोरोना वायरस से संक्रमण को लेकर पैदा हुई जटिलताओं के कारण उनकी मृत्यु हुई. भ्रष्टाचार के खिलाफ अभियान और अपनी नेतृत्व शैली को लेकर मागुफुली लोगों के एक तबके के बीच काफी लोकप्रिय थे.

कोरोना को प्रार्थना के जरिए मात देने का दावा किया था 

जॉन मागुफुली ने कई महीनों तक प्रार्थना के जरिए कोविड-19 (Covid-19) को मात देने का दावा किया था, लेकिन फिर फरवरी 2021 में  उन्‍हें यह स्‍वीकार करना पड़ गया था कि देश में वायरस संक्रमण है. इसके बाद जारी अपील में राष्‍ट्रपति मागुफुली ने पूर्वी अफ्रीकी देश के लोगों से एहतियाती उपाय करने और मास्क पहनने का अनुरोध किया था. मागुफुली ने महामारी के दौरान कोविड-19 टीकों सहित विदेश में निर्मित सामानों को लेकर आगाह भी किया. राष्ट्रपति का यह बयान जांजीबार के उपराष्ट्रपति के निधन के कुछ दिन बाद आया था. उनकी पार्टी ने नेता के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि की थी. राष्ट्रपति के मुख्य सचिव का भी हाल ही में निधन हो गया था, लेकिन मौत के कारण का खुलासा नहीं किया गया. तंजानिया ने पिछले साल अप्रैल से ही देश में कोविड-19 के मामलों को लेकर कोई जानकारी नहीं दे रहा था. राष्ट्रपति लगातार इस बात का दावा करते रहे हैं कि इसे मात दी जा चुकी है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टेड्रोस अधानोम ने एक बयान में कहा था कि तंजानिया का वायरस की समस्या को स्वीकार करना उसके नागरिकों, पड़ोसी देशों और विश्व के लिए काफी अच्छा होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज