• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • चीन के मन में क्या? तिब्बत में सेना से बोले जिनपिंग- युद्ध की तैयारी रखें मजबूत

चीन के मन में क्या? तिब्बत में सेना से बोले जिनपिंग- युद्ध की तैयारी रखें मजबूत

जिनपिंग का पहला तिब्बत दौरा पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच जारी सैन्य गतिरोध के बीच हुआ है.(फाइल फोटो)

जिनपिंग का पहला तिब्बत दौरा पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच जारी सैन्य गतिरोध के बीच हुआ है.(फाइल फोटो)

जिनपिंग चीनी सेना की तिब्बत कमान के शीर्ष अधिकारिभारत-चीन सीमा विवाद, तिब्बत, चीनी सेना, शी चिनपिंग, चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग, तिब्बत में से मिले और सैनिकों के प्रशिक्षण कार्य तथा युद्ध तैयारी को पूरी तरह मजबूत करने का आह्वान किया. राष्ट्रपति के रूप में जिनपिंग का यह पहला तिब्बत दौरा था जो बुधवार से शुक्रवार तक चला.

  • Share this:
    बीजिंग. चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने ल्हासा में शीर्ष सैन्य अधिकारियों से मुलाकात की और उनसे युद्ध की तैयारी को पूरी तरह से मजबूत करने को कहा है. भारत की सीमा के करीब तिब्बत की पहली बार यात्रा करने वाले जिनपिंग के इस बयान से ड्रैगन की मंशा पर सवाल खड़े हो रहे हैं. बता दें कि भारत और चीन के बीच पिछले एक साल से ज्यादा वक्त से वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर तनातनी चल रही है.

    भारत के अरुणाचल प्रदेश से लगते न्यिंगची सहित सामरिक रूप से महत्वपूर्ण क्षेत्र के जिनपिंग के अघोषित दौरे की खबर उजागर करने के एक दिन बाद सरकारी मीडिया ने ल्हासा में उनके शीर्ष सैन्य अधिकारियों से मिलने की खबर दी है. खबरों के मुताबिक जिनपिंग ने तिब्बत में दीर्घकालिक स्थिरता एवं समृद्धि के महत्व को रेखांकित किया है.

    ग्लोबल टाइम्स ने अपनी खबर में कहा कि जिनपिंग चीनी सेना की तिब्बत कमान के शीर्ष अधिकारियों से मिले और सैनिकों के प्रशिक्षण कार्य तथा युद्ध तैयारी को पूरी तरह मजबूत करने का आह्वान किया. राष्ट्रपति के रूप में जिनपिंग का यह पहला तिब्बत दौरा था जो बुधवार से शुक्रवार तक चला. लेकिन चीन की आधिकारिक मीडिया ने शुक्रवार को इसके संपन्न होने तक इससे संबंधित खबर को गोपनीय रखा.

    जिनपिंग अपनी इस यात्रा के तहत पहले न्यिंगची गए जो भारत के अरुणाचल प्रदेश से लगती सीमा पर सामरिक रूप से महत्वपूर्ण एक नगर है. गुरुवार को वह न्यिंगची रेलवे स्टेशन पहुंचे और इससे संबंधित चीजों के बारे में जानकारी ली. सरकारी मीडिया ने कहा कि उनकी यह यात्रा तिब्बत में तैनात सैन्य अधिकारियों से मुलाकात के साथ शुक्रवार को संपन्न हुई. अधिकारियों के साथ मुलाकात में उन्होंने तिब्बत में दीर्घकालिक स्थिरता एवं समृद्धि के महत्व को रेखांकित किया.

    ये भी पढ़ेंः- 'डोम' की जॉब के लिए इंजीनियर और पोस्ट ग्रेजुएशन वालों ने किया अप्लाई, सैलरी 15 हजार रुपये

    बता दें कि जिनपिंग का पहला तिब्बत दौरा पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच जारी सैन्य गतिरोध के बीच हुआ है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज