India China Faceoff: LAC पर क्या है चीन का वॉर प्लान? वायुसेना के अधिकारी ने किया खुलासा

चीन को जवाब देने के लिए भारत सीमा क्षेत्रों में सड़कें बना रहा है.

भारत-चीन (India China Faceoff) के बीच इस साल मई से ही जारी गतिरोध के बीच भारतीय वायुसेना (Indian Airforce) के अधिकारी ने सबसे खराब स्थिति में चीनी पोजिशनिंग और वॉर प्लानिंग के बारे में बताया.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:
    नई दिल्ली. भारत और चीन सीमा (India China faceoff) पर जारी गतिरोध बीते पांच महीने से चल रहा पूर्वी लद्दाख में LAC और अक्साई चिन (LAC )में चीन की पीपुल लिबरेशन आर्मी (PLA) के कम से कम 50 हजार सैनिक तैनात हैं. सैनिकों के साथ ही चीन ने सीमा पर भारी हथियार और मिसाइलें भी जमा कर रखी हैं. भारतीय वायुसेना (IAF) के एक सीनियर ऑफिसर ने दावा किया है कि सीमा पर तैनाती और सैन्य उपकरणों की मौजूदगी ही नहीं, बल्कि युद्ध की रणनीति बनाने और उसे लागू करने में रूस के प्रभाव का संकेत दिख रहा है.

    नाम न छापने की शर्त वायुसेना के अधिकारी ने सबसे खराब स्थिति में चीनी पोजिशनिंग और वॉर प्लानिंग के बारे में बताया. अधिकारी ने कहा कि चीन द्वारा युद्ध की परिस्थिति में आर्टिलरी और रॉकेट के एक बैराज के साथ आगे बढ़ने वाले सैनिकों को शामिल करने की संभावना है. अधिकारी ने कहा, 'युद्ध लड़ने का यह पुराना सोवियत तरीका है, जिसमें सैनिक ज्यादा अंदर के क्षेत्रों में तैनात होते हैं (इस मामले में, वास्तविक नियंत्रण रेखा से हॉटन एयरबेस 320 किलोमीटर दूर है) और इन्हें एयर डिफेंस मिलता है.

    यह भी पढ़ें: China ने Galwan में सैनिकों की मौत कबूली लेकिन सर्दी में देख लेने की धमकी भी दी



    40 दिनों  तक के लिए गोला बारूद मौजूद
    अंग्रेजी अखबार हिन्दुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार अधिकारी ने भरोसा दिलाया कि भारतीय सेना सबसे खराब स्थिति में चीनी हमले का मुकाबला कर सकती है और कहा कि सेना 10 दिनों के युद्ध के लिए तैयार है. नरेंद्र मोदी सरकार ने 2016 के उरी सर्जिकल स्ट्राइक के बाद महत्वपूर्ण गोला बारूद और मिसाइलों की आपातकालीन खरीद की अनुमति दी और 2019 बालाकोट में पाकिस्तान के खिलाफ हमले हुए.

    अधिकारी ने कहा कि 'भारत-चीन  के बीच बिना वैश्विक हस्तक्षेप के युद्ध   10 दिनों से अधिक जारी रहने की संभावना नहीं है. देश में गोला बारूद 40 दिनों और पारंपरिक बम 60 दिनों के लिए उपलब्ध है.'

    लेफ्टिनेंट जनरल पीजीके मनने भी टेक ओवर करने को तैयार
    उन्होंने कहा कि चार या पांच और राफेल पर फ्रांस में वायुसेना के पायलट ट्रेनिंग ले रहे हैं. यह भी अगले महीने अंबाला स्क्वाड्रन में शामिल होने को तैयार है. उन्होंने बताया कि न्यू लद्दाख कॉप्स कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल पीजीके मनने भी टेक ओवर करने को तैयार हैं.

    भारतीय सेना ने पैंगोंग त्सो के उत्तरी तट की प्रमुख ऊंचाइयों पर भी नियंत्रण हासिल कर लिया है, जहां प्रतिद्वंद्वी सैनिकों को एक-दूसरे से लगभग सौ मीटर की दूरी पर तैनात किया गया है. यहां से फिंगर 4 रिजलाइन पर पीएलए के सैनिकों की तैनाती भी देखी जा सकती है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.