Home /News /world /

खुलासा! भारतीय सैनिकों से हिंसक झड़प से पहले चीनी सैनिकों ने ली थी मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग

खुलासा! भारतीय सैनिकों से हिंसक झड़प से पहले चीनी सैनिकों ने ली थी मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग

झड़प से पहले चीनी सैनिकों ने ली थी मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग

झड़प से पहले चीनी सैनिकों ने ली थी मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग

15 जून को हुई हिंसक झड़प (India-China Standoff) में 20 भारतीय सैनिक (Indian Army) शहीद हो गए थे जबकि 43 चीनी सैनिक (PLA) भी हताहत हुए थे. अब चीनी मीडिया ने दावा किया है कि भारतीय सैनिकों से झड़प के लिए चीनी सेना को बाकायदा मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग दी गई थी.

अधिक पढ़ें ...
    बीजिंग. भारत-चीन के सैनिकों में 15 जून को हुई हिंसक झड़प (India-China Standoff) में 20 भारतीय सैनिक (Indian Army) शहीद हो गए थे जबकि 43 चीनी सैनिक (PLA) भी हताहत हुए थे. अब चीनी मीडिया ने दावा किया है कि भारतीय सैनिकों से झड़प के लिए चीनी सेना को बाकायदा मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग दी गई थी. इस झड़प से पहले चीनी सेना की ट्रेनिंग के लिए बीजिंग से मार्शल आर्टिस्ट और एक्सपर्ट माउंटेन क्लाइंबर भेजे गए थे. इसमें तिब्बत के एक मार्शल आर्ट क्लब के लड़ाके भी शामिल थे. हालांकि चीनी मीडिया का दावा है कि चीनी सैनिकों को फिट रखने के लिए ऐसा किया गया था.

    अल जजीरा में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक चीनी के सरकारी अखबार 'चाइना नेशनल डिफेंस न्यूज' की एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारतीय सेना की चीन की जिस टुकड़ी से झड़प हुई उन्हें कुछ ही दिन पहले तिब्बत में मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग दी गई थी. इसके मुताबिक तिब्बत की राजधानी ल्हासा में चीन ने पांच मिलिशिया डिवीजन को तैनात किया था जिसमें माउंट एवरेस्ट टॉर्च रिले टीम के पूर्व सदस्य और मार्शल आर्ट क्लब के लड़ाके भी शामिल थे. इन सभी को पहाड़ों पर बेहद ख़राब परिस्थितियों में लड़ने और जिन्दा रहने की ट्रेनिंग दी गई थी.

    ये भी पढ़ें - चीन को क्यों डरा रही है दुनिया की सबसे ऊंची हवाई पट्टी



    तिब्बत में ही हुई थी ट्रेनिंग, सरकारी चैनल पर दिखाई गई
    बता दें कि चीन की मिलिशिया डिवीजन आधिकारिक आर्मी नहीं है, यह अर्धसैनिक बलों की तरह सेना के मदद के लिए होती है. चीनी मीडिया के अख़बारों में इस ट्रेनिंग से जुड़ी काफी जानकारी दी गई थी इसके अलावा ल्हासा में सैकड़ों नए सैनिकों की सीसीटीवी फुटेज भी दिखाई गई है. तिब्बत कमांडर वांग हाईजियांग ने कहा कि फाइट क्लब के जुड़ने से सैनिकों की ताकत और तुरंत जवाब देने की क्षमता बढ़ेगी. बता दें कि तिब्बत बॉर्डर पर चीनी सेना लगातार युद्धाभ्यास कर रही है जिसे भारतीय सेना के लिए एक संदेश के तौर पर देखा जा रहा है.

     

    ये भी पढ़ें - 1967 में अटल जी ने क्या किया था ऐसा कि पूरा चीन हो गया था आगबबूला

    भारतीय सेना भी है तैयार
    बता दें कि चीन और भारत के बीच मौजूद LAC पर तनाव का माहौल अभी भी बना हुआ है. भले ही दोनों देश बातचीत के बाद सेना पीछे हटाने के फैसले पर राजी हो गए हों लेकिन दोनों ही देश सीमा पर लगातार सैनिकों और हथियारों की संख्या बढ़ा रहे हैं. लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर चीन के लड़ाकू विमान और हेलिकॉप्टर मंडरा रहे हैं. मिली जानकारी में मुताबिक भारत ने भी चीन के लड़ाकू विमान और हेलिकॉप्टर पर नजर रखने के लिए सेना ने पूर्वी लद्दाख में 'आकाश' एडवांस एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम तैनात कर दिया है.

    Tags: India and china, India China Border Tension, India-China News, India-China Rift, Indo-China Border Dispute

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर