लाइव टीवी
Elec-widget

भारत ने अफगानिस्‍तान में पूरे किए 400 सोशल इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर प्रोजेक्‍ट, अमेरिका ने की तारीफ

News18Hindi
Updated: November 22, 2019, 12:31 PM IST
भारत ने अफगानिस्‍तान में पूरे किए 400 सोशल इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर प्रोजेक्‍ट, अमेरिका ने की तारीफ
अमेरिका ने कहा कि भारत और संयुक्‍त राष्‍ट्र शांतिपूर्ण व स्थिर अफगानिस्‍तान को लेकर प्रतिबद्ध हैं.

सभी भारतीय परियोजनाओं (Indian Projects) में अफगानिस्‍तान की सरकार (Afghan Government) साझेदार थी. अफगानिस्‍तान के सभी 34 प्रांतों (Provinces) में अलग-अलग परियोजनाओं पर भारत काम कर रहा था. अमेरिका (US) में भारतीय राजदूत (Indian Ambassador) हषवर्धन श्रृंगला ने बताया कि इनमें शिक्षा, स्‍वास्‍थ्‍य, इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर, प्रशासकीय क्षमता, बाढ़ नियंत्रण, सिंचाई, कृषि और खेल से जुड़ी परियोजनाएं शामिल थीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 22, 2019, 12:31 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. भारत के साथ रणनीतिक साझेदारी (Strategic Partnership) बढ़ाना अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप (President Donald Trump) की दक्षिण एशिया रणनीति का खास हिस्‍सा है. उनकी इस रणनीति के नतीजे भी प्रोत्‍साहित करने वाले रहे हैं. अमेरिका के विदेश मंत्रालय में अफगानिस्‍तान मामलों की उप सहायक सचिव नैंसी जैक्‍सन (Nancy Jackson) ने कहा कि संयुक्‍त राष्‍ट्र (UN) ने अफगानिस्‍तान में भारत (India) की ओर से किए गए अहम निवेश की काफी तारीफ की है. अमेरिका भी अफगानिस्‍तान (Afghanistan) में अच्‍छे नतीजों के लिए लगातार समर्थन देता रहेगा. इससे अफगानिस्‍तान के बेहतर भविष्‍य के लिए हमारी ओर से किया जा रहा है हर तरह का निवेश भी सुरक्षित रहेगा.

अफगानिस्‍तान में अभी भी 150 भारतीय परियोजनाओं पर चल रहा काम
अमेरिका (US) में भारतीय राजदूत (Indian Ambassador) हर्षवर्धन श्रृंगला (Harsh Vardhan Shringla) ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि अफगानिस्‍तान के पुनर्निर्माण (Reconstruction) और विकास (Development) के लिए भारत 2001 से सक्रिय भूमिका निभा रहा है. उन्‍होंने बताया कि भारत युद्ध से बर्बाद हो चुके देश के चौतरफा विकास से जुड़े 400 सोशल इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर प्रोजेक्‍ट पूरे कर चुके हैं. इसके अलावा 150 परियोजनाएं अभी भी चल रही हैं. अफगानिस्‍तान के सभी 34 प्रांतों (Provinces) में अलग-अलग परियोजनाओं पर भारत काम कर रहा था. श्रृंगला ने बताया कि इनमें शिक्षा, स्‍वास्‍थ्‍य, इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर, प्रशासकीय क्षमता, बाढ़ नियंत्रण, सिंचाई, कृषि और खेल से जुड़ी परियोजनाएं शामिल थीं.

श्रृंगला ने कहा - भारत अफगानिस्‍तान को फिर खड़ा करने को प्रतिबद्ध है

श्रृंगला ने बताया कि अब भारत अफगानिस्‍तान में शहतूत डैम, काबूल में पेयजल सुविधा, ननगढ़हर प्रांत में लौट रहे अफगान शरणार्थियों के लिए सस्‍ते मकान जैसी परियोजनाओं पर ध्‍यान दे रहा है. उन्‍होंने कहा कि ये परियोजनाएं भारत की अफगानिस्‍तान के पुनर्निर्माण की प्रतिबद्धता को दर्शाते हैं. भारत अफगानिस्‍तान की संयुक्‍त, संप्रभु, लोकतांत्रिक, शांतिपूर्ण, स्‍थायी, समृद्ध और एकीकृत राष्‍ट्र बनने की यात्रा में हर तरह से मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है. थिंक टैंक हडसन इंस्‍टीट्यूट (Hudson Institute) की ओर से आयोजित 'द इंडिया-अफगानिस्‍तान रिलेशनशिप: एग्‍जामनिंग हिस्‍टॉरिकल, पॉलिटिकल, इकोनॉमिक एंड कल्‍चरल टाइज' चर्चा के दौरान जैक्‍सन ने कहा, सभी को समझना होगा कि हमारा लक्ष्‍य अफगान समेत पूरे क्षेत्र को फायदा पहुंचाना है.

अमेरिकी अधिकारी नैंसी जैक्‍सन और US में भारतीय राजदूत हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा कि दोनों देश अफगानिस्‍तान के पुनर्निर्माण को लेकर प्रतिबद्ध हैं.


'भारत-संयुक्‍त राष्‍ट्र शांतिपूर्ण और स्थिर अफगानिस्‍तान को लेकर प्रतिबद्ध'
Loading...

जैक्‍सन ने कहा, 'अमेरिकी प्रशासन (US Administration) समझता है कि हमारे देश के लोग अफगानिस्‍तान में युद्ध (War) खत्‍म करने को तैयार हैं. साथ ही अमेरिका के लोग दुनिया के किसी भी क्षेत्र में आतंकवाद (Terrorism) से लड़ने को भी प्रतिबद्ध हैं. उन्‍होंने कहा कि ट्रंप दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत के साथ रणनीतिक साझेदारी बढ़ाने को लेकर उत्‍साहित हैं. भारत संयुक्‍त राष्‍ट्र का प्रमुख सुरक्षा व आर्थिक साझेदार है. इस दौरान नैंसी ने अफगानिस्‍तान में स्‍थायित्‍व के लिए भारत की ओर से किए जा रहे प्रयासों की तारीफ की. भारत 2001 से अब तक अफगानिस्‍तान में नागरिक मदद के लिए 3 अरब डॉलर का निवेश कर चुका है. भारत और संयुक्‍त राष्‍ट्र शांतिपूर्ण व स्थिर अफगानिस्‍तान को लेकर प्रतिबद्ध हैं.

ये भी पढ़ें:

राजदूत रहमानी ने कहा, भारत के साथ हमारे संबंधों की अहम कड़ी बॉलीवुड और क्रिकेट

भारतीय मूल के चार सांसद कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो की कैबिनेट में शामिल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 22, 2019, 12:31 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...