लाइव टीवी

लंदन में दीवाली के दिन कश्मीर मुद्दे पर प्रदर्शन की तैयारी, भारत ने जताई चिंता

भाषा
Updated: October 24, 2019, 5:00 AM IST
लंदन में दीवाली के दिन कश्मीर मुद्दे पर प्रदर्शन की तैयारी, भारत ने जताई चिंता
ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन.

भारतीय उच्चायोग (Indian High Commission) के बाहर पाकिस्तान (Pakistan) समर्थित प्रदर्शन की योजना पर भारत (India) ने ब्रिटिश सरकार से चिंता जाहिर की है.

  • Share this:
लंदन. ब्रिटेन (Britain) में भारतीय उच्चायोग (Indian High Commission) के बाहर पाकिस्तान (Pakistan) समर्थित प्रदर्शन की योजना पर भारत (India) ने ब्रिटिश सरकार से चिंता जाहिर की है. साथ ही भारतीय दूतवास के आसपास खास सुरक्षा के प्रबंध करने के लिए कहा है. इस पर ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन(Boris Johnson) ने कहा कि यहां हिंसा और डराने धमकाने जैसी चीजें अस्वीकार्य हैं.

संसद में प्रधानमंत्री के साप्ताहिक प्रश्नकाल के दौरान कंजर्वेटिव पार्टी के सांसद बॉब ब्लैकमैन ने 'पाकिस्तान समर्थित' समूहों द्वारा भारत के स्वतंत्रता दिवस के मौके पर भी भारतीय उच्चायोग के बाहर प्रदर्शन को लेकर सवाल किया था. जॉनसन ने कहा, 'इस सदन में यह स्पष्ट हो जाना चाहिए कि हिंसा और धौंस किसी भी जगह देश में पूरी तरह से अस्वीकार्य है.'

ब्लैकमैन ने सरकार से किया सवाल
जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को खत्म करने के समर्थन में ब्लैकमैन ने अपनी बात रखी. ब्लैकमैन ने सरकार से पूछा, 'इस रविवार को 10,000 लोग भारतीय उच्चायोग के बाहर प्रदर्शन के लिए लाए जा रहे हैं. यह दिन हिंदू, सिख और जैन के लिए बेहद पवित्र दिन है. इस रविवार को हिंसक घटनाओं को रोकने के लिए सरकार क्या कदम उठाने जा रही है ?

सोशल मीडिया में क्या चल रहा है
इस प्रदर्शन को तथाकथित 'फ्री कश्मीर' रैली कहा जा रहा है और इसका प्रचार सोशल मीडिया के जरिए 'काले दिवस' के रूप में किया जा रहा है. प्रचार में कहा जा रहा है कि 27 अक्टूबर 1947 को भारतीय सेना ने कथित रूप से तत्कालीन कश्मीर में प्रवेश किया था. रविवार को इस प्रदर्शन में पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के 'राष्ट्रपति' सरदार मसूद खान और 'प्रधानमंत्री' राजा मुहम्मद फारूक हैदर खान के भी इस मार्च में आने की संभावना है.

ये भी पढ़ें- किसान और आम आदमी के हित में मोदी सरकार ने लिए ये 5 बड़े फैसले

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 24, 2019, 4:51 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...