लाइव टीवी

अमेरिका-तालिबान के बीच आज होगा शांति समझौता, 30 देशों में पहली बार भारत भी होगा गवाहों में शामिल

News18Hindi
Updated: February 29, 2020, 12:25 PM IST
अमेरिका-तालिबान के बीच आज होगा शांति समझौता, 30 देशों में पहली बार भारत भी होगा गवाहों में शामिल
इस समझौते के साथ ही करीब 18 साल बाद अमेरिकी सैनिकों की वापसी का रास्ता भी साफ हो गया है.

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने शुक्रवार को घोषणा की कि अमेरिका तालिबान के साथ इस ऐतिहासिक शांति समझौते (Peace Deal) पर हस्ताक्षर करने वाला है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 29, 2020, 12:25 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका (America) और तालिबान (Taliban) के बीच आज शाम एक अहम शांति समझौता होने जा रहा है. यह समझौता कतर के दोहा में होगा. अमेरिका, अफगानिस्तान में पिछले एक हफ्ते में हिंसा में आई कमी की स्थिति बने रहने पर शनिवार को तालिबान के साथ इस ऐतिहासिक शांति समझौते (Peace Deal) पर हस्ताक्षर करने वाला है. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने शुक्रवार को इसकी घोषणा की. इसके साथ ही करीब 18 साल बाद अमेरिकी सैनिकों की वापसी का रास्ता भी साफ हो गया है. इस समझौते के गवाह के तौर पर 30 देश शामिल होंगे. इसकी खास बात यह है कि यह पहला मौका होगा जब भारत तालिबान से जुड़े किसी मामले में आधिकारिक तौर पर शामिल होगा.

ट्रंप के निर्देश पर हो रहा समझौता
ट्रंप ने एक बयान में कहा, 'जल्द ही, मेरे निर्देश पर विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ तालिबान के प्रतिनिधियों के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर करेंगे जबकि रक्षा मंत्री मार्क एस्पर अफगानिस्तान की सरकार के साथ संयुक्त घोषणा-पत्र जारी करेंगे. अगर तालिबान और अफगानिस्तान सरकार अपनी प्रतिबद्धताओं को पूरा कर पाती है तो हम अफगानिस्तान में युद्ध खत्म करने की दिशा में मजबूती से आगे बढ़ सकेंगे और अपने सैनिकों को घर वापस ला पाएंगे.



शांति के लिए यह कदम महत्वपूर्ण है
ट्रंप ने कहा कि ये प्रतिबद्धताएं अल कायदा, आईएसआईएस और अन्य आतंकवादी संगठनों से मुक्त नये अफगानिस्तान में दीर्घकालिक शांति स्थापित करने की दिशा में महत्त्वपूर्ण कदम को दर्शाती हैं. साथ ही कहा कि अपने भविष्य के लिए सोचने का काम अंतत: अफगानिस्तान के लोगों पर निर्भर है. हम अफगान लोगों से शांति स्थापित करने और उनके देश के लिए नया भविष्य बुनने के अवसर का लाभ लेने की अपील करते हैं.

ये भी पढ़ें: अफगानिस्तान पर भारत अपना रुख करेगा नरम, तालिबान से होगी बात

उन्होंने याद दिलाया कि करीब 19 वर्ष पहले अमेरिकी सैनिक 9/11 हमलों के लिए जिम्मेदार आतंकवादियों के खात्मे के लिए अफगानिस्तान गए थे.

अमेरिका और तालिबान के बीच शांति समझौते के दौरान गवाहों में भारत भी शामिल हो रहा है. हस्ताक्षर से एक दिन पहले विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला शुक्रवार को काबुल पहुंचे और शांतिपूर्ण व स्थिर अफगानिस्तान के लिए भारत का निर्बाध समर्थन व्यक्त किया. विदेश सचिव ने अफगानिस्तान के कार्यवाहक विदेश मंत्री हारून चाखनसुरी से बातचीत की और विकास को लेकर उसकी प्रतिबद्धता की भी जानकारी दी.

ये भी पढ़ें: पहली बार अमेरिकी चुनाव प्रचार में थीम बन रहा है भारत, जानें कैसे?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 29, 2020, 11:58 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,218

     
  • कुल केस

    5,865

     
  • ठीक हुए

    477

     
  • मृत्यु

    169

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 09 (05:00 PM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,135,668

     
  • कुल केस

    1,577,445

    +59,485
  • ठीक हुए

    348,111

     
  • मृत्यु

    93,666

    +5,211
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर