लाइव टीवी

2019 में और मजबूत हुई भारत-अमेरिका की दोस्ती, कई मुद्दों पर साथ आए दोनों देश

भाषा
Updated: December 30, 2019, 10:09 PM IST
2019 में और मजबूत हुई भारत-अमेरिका की दोस्ती, कई मुद्दों पर साथ आए दोनों देश
साल 2019 में दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देशों भारत और अमेरिका के बीच रणनीतिक साझेदारी तेजी से आगे बढ़ी

अमेरिका (America) ने मालदीव (Maldives) पर भारत (India) के इस रूख का भी समर्थन किया कि कोई तीसरा देश उसके अंदरूनी मामलों में हस्तक्षेप नहीं करे. इस साल आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई के मोर्चे पर दोनों देशों के बीच अप्रत्याशित सहयोग नजर आया.

  • भाषा
  • Last Updated: December 30, 2019, 10:09 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. रक्षा प्रौद्योगिकी के हस्तांतरण पर भारत (India) और अमेरिका (America) द्वारा अहम करार करने और मई में चुनाव के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) एवं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के एक दूसरे से रिकार्ड चार भेंटवार्ता करने के साथ ही वर्ष 2019 में दुनिया के सबसे बड़े इन दोनों लोकतांत्रिक देशों के बीच रणनीतिक साझेदारी तेजी से आगे बढ़ी.

रणनीतिक साझेदारी की मजबूती साल के आखिर में दूसरी ‘टू प्लस टू’ वार्ता के समापन पर जारी किये गये भारत और अमेरिका के संयुक्त बयान में परिलक्षित हुई. यह निश्चित रूप से वर्ष 2019 की अहम घटना है.

द्विपक्षीय व्यापार में आई तेजी
वाशिंगटन (Washington) में दिसंबर में दूसरी ‘टू प्लस टू’ बैठक में दोनों देशों ने प्रौद्योगिकी के हस्तांतरण पर हस्ताक्षर किये. इस बैठक में दोनों देशों के रक्षा एवं विदेश मंत्रियों ने हिस्सा लिया. सभी संबंधों को व्यापार के नजरिये से देखने वाले ट्रंप के लिए सुकून की बात यह है कि द्विपक्षीय व्यापार में भी तेजी आयी और सामने आ रहे साल की दूसरी छमाही के अनुमानित आंकड़ों से आगामी समय में व्यापार घाटे में कमी आने का अनुमान है.



बीते साल में भारत ने अमेरिका से अत्याधुनिक सैन्य उपरकणों की खरीद के लिए अरबों डॉलर का आर्डर दिया, सेना के तीनों अंगों की भागीदारी वाला सैन्य अभ्यास ‘टाइगर ट्रिम्फ’ शुरू किया और रक्षा प्रौद्योगिकी एवं व्यापार पहल की गति तेज की. यह सैन्य अभ्यास अब हर साल होगा.

america, india

नई ऊंचाई तक पहुंचे दोनों देश
हिंद प्रशांत में भारत और अमेरिका के बीच सहयोग नयी ऊंचाई तक पहुंचा. दोनों देशों हिंद प्रशांत क्षेत्र में यह सुनिश्चित करने के लिए समान सोच वाले अन्य साझेदारों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं कि संसाधन संपन्न इस क्षेत्र में नौवहन की स्वतंत्रता हो और शांति रहे. इस क्षेत्र में चीन अपना पैर पसारने में जुटा है.

अमेरिका खुश है कि भले ही शुरू मे भारत अनिच्छुक रहा हो लेकिन अब वह अनौपचारिक परामर्श तंत्र ‘‘क्वाड’’ को संस्थागत रूप देने में मदद कर रहा है. उसमें अन्य दो देश जापान और आस्ट्रेलिया हैं.

आतंकवाद पर लड़ाई में साथ
अमेरिका ने मालदीव पर भारत के इस रूख का भी समर्थन किया कि कोई तीसरा देश उसके अंदरूनी मामलों में हस्तक्षेप नहीं करे. इस साल आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई के मोर्चे पर दोनों देशों के बीच अप्रत्याशित सहयोग नजर आया. जब फरवरी में पुलवामा में नृशंस आतंकवादी हमले में 40 सुरक्षाकर्मी शहीद हो गये तो अमेरिका यह कहने वाला पहला देश था कि भारत को आत्मरक्षा का अधिकार है.

जब भारत में आमचुनाव का दौर था, तब भी अमेरिका ने ब्रिटेन और फ्रांस जैसे अपने सहयोगियों के साथ मिलकर यह सुनिश्चित किया कि चीन संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा जैश ए मोहम्मद को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने की राह से वीटो रूपी अवरोध हटा ले.

हालांकि अमेरिका ने कश्मीर में इंटरनेट पर रोक लगाने, नेताओं को बंदी बनाने पर चिंता जरूर प्रकट की लेकिन उसने भारत को इस संबंध में गैर लोकतांत्रिक देशों के साथ रखने से इनकार कर दिया.

‘हाउडी मोदी’ एक ऐतिहासिक कार्यक्रम रहा जहां मोदी के साथ ट्रंप ने भी भारतीय मूल के करीब 50,000 अमेरिकियों को संबोधित किया.

ये भी पढ़ें-
CAA के समर्थन में न्यूयॉर्क की सड़कों पर उतरे भारतीय

न्यूयॉर्क में यहूदियों के प्रार्थना स्थल पर हमला, कई लोग घायल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 30, 2019, 7:14 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर