अपना शहर चुनें

States

बाइडन की कैबिनेट में हो सकते हैं कई भारतवंशी, विवेक मूर्ति बनाए जा सकते हैं हेल्थ मिनिस्टर

जो बाइडन की कैबिनेट में हो सकते हैं कई भारतवंशी
जो बाइडन की कैबिनेट में हो सकते हैं कई भारतवंशी

Joe Biden Cabinate: अमेरिका ने प्रेजिडेंट इलेक्ट जो बाइडन की कैबिनेट में कई भारतवंशियों को मंत्रिपद दिया जा सकता है. वाशिंगटन पोस्ट के मुताबिक बाइडन के शीर्ष भारतीय-अमेरिकी सलाहकार मूर्ति स्वास्थ्य एवं मानव सेवा मंत्री बनाए जा सकते हैं और स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर अरुण मजूमदार को ऊर्जा मंत्री बनाया जा सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 18, 2020, 1:29 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका के पूर्व सर्जन जनरल विवेक मूर्ति समेत (Vivek Murthy) दो प्रमुख भारतीय-अमेरिकियों को अगले बाइडन-हैरिस (Jo Biden) प्रशासन की कैबिनेट में शामिल किया जा सकता है. मीडिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है. 'द वाशिंगटन पोस्ट' और 'पॉलिटिको' ने मंगलवार को कहा कि कोविड-19 से निपटने को लेकर निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन के शीर्ष भारतीय-अमेरिकी सलाहकार मूर्ति स्वास्थ्य एवं मानव सेवा मंत्री बनाए जा सकते हैं और स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर अरुण मजूमदार (Arun Majumdar) को ऊर्जा मंत्री बनाया जा सकता है.

विवेक मूर्ति सत्ता हस्तांतरण के कोविड-19 सलाहकार बोर्ड के सह अध्यक्ष हैं. वह कोरोना वायरस संबंधी मामलों को लेकर बाइडन के निकट सहयोगी रहे हैं. खबरों में में कहा गया है कि इसी प्रकार, ‘एडवांस रिसर्च प्रोजेक्ट्स एजेंसी-एनर्जी’ के पहले निदेशक मजूमदार ऊर्जा संबंधी मामलों पर बाइडन के शीर्ष सलाहकार रहे हैं. मजूमदार के अलावा ऊर्जा मंत्री पद के लिए पूर्व ऊर्जा मंत्री अर्नेस्ट मोनिज, स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के शोधार्थी डैन रीचर और पूर्व उप ऊर्जा मंत्री एलिजाबेथ शेरवुड रैंडल भी दावेदार हैं. स्वास्थ्य एवं मानव सेवा मंत्री पद के लिए मूर्ति के अलावा उत्तरी कैरोलाइना की स्वास्थ्य एवं मानव सेवा मंत्री मैंडी कोहेन और न्यू मैक्सिको की गवर्नर मिशेल लुजान ग्रीशम को भी दावेदार माना जा रहा है.






बाइडन की ATR टीम में 20 भारतवंशी
बता दें कि बाइडन ने 20 से अधिक भारतवंशियों को अपनी एजेंसी रिव्यू टीम (ART) में शामिल किया है. इनमें से तीन भारतवंशी टीम का नेतृत्व कर रहे हैं. यह टीम प्रमुख संघीय एजेंसियों की मौजूदा प्रशासन में कार्यप्रणाली की समीक्षा करेगी ताकि सत्ता का हस्तांतरण सुचारु रूप से सुनिश्चित किया जा सके. बाइडन की हस्तांतरण टीम ने कहा कि अब तक के राष्ट्रपति हस्तांतरण टीम के इतिहास में यह टीम सबसे अधिक विविधता लिए हुए है. अमेरिका में सत्ता हस्तांतरण के लिए बनाई गई आर्ट टीम में सैकड़ों सदस्य हैं जिनमें से आधी से अधिक महिलाएं हैं. 40 प्रतिशत उन समुदायों से हैं जिनका संघीय सरकार में ऐतिहासिक रूप से कम प्रतिनिधित्व रहा है. इनमें गैर श्वेत, एलजीबीटी और विकलांग शामिल हैं. इस टीम में राहुल गुप्ता राष्ट्रीय औषधि नियंत्रण नीति के मामले में नेतृत्व कर रहे हैं. किरण आहूजा को कार्मिक प्रबंधन को लेकर बनी टीम की कमान सौंपी गई है. पुनीत तलवार को विदेश विभाग से जुड़ी टीम में जगह दी गई है. पाव सिंह को राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी की टीम में नामित किया गया है.



इसी प्रकार अरुण वेंकटरमण को वाणिज्य और यूएसटीआर मामलों की दो टीमों में शामिल किया गया है. अन्य प्रमुख भारतवंशियों जिन्हें बाइडन की आर्ट में शामिल किया गया है, वे हैं प्रवीण राघवन और आत्मन त्रिवेदी वाणिज्य विभाग मामले की टीम में , शिक्षा विभाग में शीतल शाह, ऊर्जा विभाग में आर रमेश और रामा जाकिर, आतंरिक सुरक्षा विभाग संबंधी टीम में शुभश्री रामनाथन, न्याय विभाग के लिए राज डे, श्रम विभाग के लिए सीमा नंदा और राजनायक शामिल हैं. फेडरल रिजर्व और बैंकिंग व प्रतिभूति नियामक मामलों के लिए रीना अग्रवाल और सत्यम खन्ना, नासा के लिए भव्या लाल, राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के लिए दिलप्रीत सिद्धू, प्रबंधन एवं बजट कार्यालय के लिए दिव्य कुमारियाह, कृषि विभाग के लिए कुमार चंद्रण और पोस्टल सेवा के लिए अनीष चोपड़ा. आर्ट में सभी सदस्य स्वयंसेवी के तौर पर शामिल किए गए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज