Home /News /world /

भारतीय अर्थव्यवस्था बहुत बुरा प्रदर्शन कर रही है: अभिजीत बनर्जी

भारतीय अर्थव्यवस्था बहुत बुरा प्रदर्शन कर रही है: अभिजीत बनर्जी

अभिजीत बनर्जी का मानना है कि 'अब अर्थव्यवस्था में मांग एक बड़ी समस्या है.'

अभिजीत बनर्जी का मानना है कि 'अब अर्थव्यवस्था में मांग एक बड़ी समस्या है.'

आगे अभिजीत बनर्जी (Abhijit Banerjee) ने कहा, 'लेकिन मुझे लगता है कि सरकार (Government) भी अब यह मानने लगी है कि कुछ समस्या है. अर्थव्यवस्था बहुत तेजी से धीमी हो रही है.'

    न्यूयार्क: अर्थशास्त्र के नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize) के लिए चयनित भारतीय-अमेरिकी (Indian-American) अभिजीत बनर्जी (Abhijit Banerjee) ने सोमवार को कहा कि सरकार द्वारा तेजी से समस्या की पहचान करने के बावजूद भारतीय अर्थव्यवस्था 'बहुत बुरा (प्रदर्शन) कर' रही है. नोबेल पुरस्कार के लिए नाम की घोषणा के बाद बनर्जी ने एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान कहा, "मेरे विचार से अर्थव्यवस्था बहुत खराब कर रही है."

    जब उनसे भारतीय अर्थव्यवस्था की स्थिति और उसके भविष्य के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, "यह बयान भविष्य में क्या होगा, उस बारे में नहीं है, बल्कि जो हो रहा है उसके बारे में है. मैं इसके बारे में एक राय रखने का हकदार हूं." भारत के शहरी और ग्रामीण इलाकों में औसत खपत के अनुमान बताने वाले राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण के आंकड़ों का हवाला देते हुए उन्होंने कहा, "हम जो तथ्य देख रहे हैं, उसके मुताबिक 2014-15 और 2017-18 के बीच आंकड़े थोड़े कम हुए हैं."

    'सरकार भी अब यह मानने लगी है कि कुछ समस्या है'

    उन्होंने कहा, "ऐसा कई, कई सालों में पहली बार हुआ है, तो यह एक बहुत ही बड़ी चेतावनी का संकेत है." उन्होंने कहा कि भारत में एक बहस चल रही है कि कौन सा आंकड़ा सही है और सरकार का खासतौर से यह मानना है कि वो सभी आंकड़े गलत हैं, जो असुविधाजनक हैं. उन्होंने कहा, "लेकिन मुझे लगता है कि सरकार भी अब यह मानने लगी है कि कुछ समस्या है. अर्थव्यवस्था बहुत तेजी से धीमी हो रही है. कितनी तेजी से, यह हमें नहीं पता है, आंकड़ों को लेकर विवाद हैं, लेकिन मुझे लगता है कि ये तेज है."

    'अब अर्थव्यवस्था में मांग एक बड़ी समस्या है'

    उन्होंने कहा कि उन्हें ठीक-ठीक नहीं पता है कि क्या करना चाहिए. उन्होंने कहा कि उनके विचार में जब अर्थव्यवस्था "अनियंत्रित गिरावट" की ओर जा रही है, तो ऐसे में आप मौद्रिक स्थिरता के बारे में इतनी चिंता नहीं करते हैं और इसकी जगह मांग के बारे में थोड़ा अधिक चिंता करने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि अब अर्थव्यवस्था में मांग एक बड़ी समस्या है.

    Tags: America, Economic Reform, India economy, Nobel Prize

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर