अपना शहर चुनें

States

भारतीय ने अमेरिकी बुजुर्गों से की 58 करोड़ रुपये की ठगी, अब 20 साल की होगी जेल!

गुजरात के शहजाद ने काॅल सेंटर के जरिये अमेरिकी बुजुर्गों से 58 करोड़ रुपये से ज्यादा की ठगी की. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
गुजरात के शहजाद ने काॅल सेंटर के जरिये अमेरिकी बुजुर्गों से 58 करोड़ रुपये से ज्यादा की ठगी की. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Indian Caught for Online Fraud: अमेरिका में आॅनलाइन तरीके से फ्राॅड (Online Fraud) करने का एक बहुत बड़ा मामला सामने आया है. इस व्यक्ति का नाम शहजाद खान पठान (Shahjad Khan Pathan) है और वह गुजरात के अहमदाबाद में एक काॅल सेंटर (Call Centre run in Gujrat) चलाता था. आरोपी व्यक्ति कम्प्यूटर के माध्यम से अमेरिका के बुजुर्गों से 80 लाख डाॅलर यानि 58. 52 करोड़ रुपये से ज्यादा की धोखाधड़ी की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 16, 2021, 8:30 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. गुजरात के एक व्यक्ति ने फोन काॅल के जरिये अमेरिकी बुजुर्गों (American Old Man Cheated) से करोड़ों रुपये की ठगी की. फ्राॅड करने वाला व्यक्ति और कोई नहीं एक भारतीय व्यक्ति है. इस व्यक्ति का नाम शहजाद खान पठान (Shahjad Khan Pathan) है और वह गुजरात के अहमदाबाद में एक काॅल सेंटर (Call Centre run in Gujrat) चलाता था. शहजाद ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है. आरोपी व्यक्ति कम्प्यूटर के माध्यम से अमेरिका के बुजुर्गों से 80 लाख डाॅलर यानि 58. 52 करोड़ रुपये से ज्यादा की धोखाधड़ी की. इस मामले में 14 मई 2021 को सजा सुनाई जाएगी. उसे धोखाधड़ी और साजिश रचने के लिए कम से कम 20 साल तक की जेल की सजा हो सकती है.

पैसे वसूलने के लिए शहजाद ने कई लोगों को किया था भर्ती

39 वर्षीय शहजाद कम्प्यूटर के जरिये अमेरिका में रहने वाले बुजुर्गों से काॅल करता था. वह उन्हें मीठी-मीठी बातों में फंसा लेता था और कई तरह की स्पाॅन्जी स्कीमों के झांसे में लेकर उनसे पैसे वसूलता था. कई मामलों में जहां पैसे भेजने में आनाकानी करता तो उसे वह कानून प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा कार्रवाई करने की धमकी भी देता था. शहजाद ने ठगी से पैसे वसूलने के इस गोरखधंधे में कई लोगों को भर्ती कर रखा था.




ये भी पढ़ेंः बिल गेट्स बने अमेरिका के ‘सबसे बड़े किसान’,  खरीदी 2.42 करोड़ एकड़ खेती की जमीन 

अमेरिका से 13 हजार किमी. की उड़ान भरकर ऑस्ट्रेलिया पहुंचे कबूतर की नहीं ली जाएगी अब जान

वर्जीनिया, न्यूजर्सी, मिनिसोटा, टेक्सॉस, कैलिफोर्निया, दक्षिणी कैरोलिना और इलिनोइस में पठान का नेटवर्क था. भर्ती किए गए लोग पहले पीडि़तों से पैसे लेते थे अैर बाद में पठान को भेजते थे. भारत पैसे भेजने के लिए ना केवल फर्जी दस्तावेजों के सहारे खोले गए बैंक अकाउंट का सहारा लिया गया बल्कि हवाला का भी इस्तेमाल किया गया. न्याय विभाग ने कहा कि पठान ने पांच हजार से अधिक व्यक्तियों से धोखाधड़ी करके उन्हें कम से कम अस्सी लाख डॉलर की चोट पहुंचाई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज