अपना शहर चुनें

States

OMG! कोरोना के डर से 3 महीने से अमेरिकी एयरपोर्ट में छुपकर रह रहा था भारतीय शख्स

तीन महीने से एयरपोर्ट में छुपकर रह रहा था आदित्य. (फोटो-AP)
तीन महीने से एयरपोर्ट में छुपकर रह रहा था आदित्य. (फोटो-AP)

Man found living in Chicago airport for three months: अमेरिका के शिकागो एयरपोर्ट से एक आदमी पकड़ा गया है जो कोविड के डर से बीते तीन महीनों से वहीं छुपकर रह रहा था. भारतीय मूल के इस व्यक्ति का नाम आदित्य सिंह है और ये लॉस एंजीलिस में रहता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 19, 2021, 7:51 AM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. शिकागो एयरपोर्ट (Chicago airport) पर एक ऐसा मामला सामने आया है जिससे न सिर्फ सुरक्षा पर सवाल उठे हैं बल्कि कोरोना संक्रमण (Coronavirus) के प्रति लोगों में दहशत का नज़ारा भी देखने को मिला है. गार्जियन की रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय मूल का अमेरिकी व्यक्ति 36 वर्षीय आदित्य सिंह कोरोना संक्रमण फैलने के दौरान इतना घबरा गया था कि वो 3 महीने से एयरपोर्ट में भी छुपकर रह रहा था. आदित्य ने एयरपोर्ट ऑपरेशन मैनेजर का बैज चुराया था और यात्रियों और अन्य स्टाफ से खाना और पैसे मांगकर गुजारा कर रहा था.

रिपोर्ट के मुताबिक आदित्य शिकागो एयरपोर्ट के सिक्योर सेक्शन में छुपा हुआ था. जब पुलिस ने उसे पकड़ा तो उसने बताया कि वो कोरोना संक्रमण की चपेट में आ जाने के खतरे को सोचकर डर गया था किये यात्रा करने से परहेज कर रहा था. मिली जानकारी के मुताबिक अपने घर आदित्य लॉस एंजीलिस से शिकागो पहुंचे थे और फिर बाहर न जाकर वह तीन महीनों से यहीं था. आदित्य को एयरपोर्ट से बीते हफ्ते गिरफ्तार किया गया है और अब उस पर चोरी, जालसाजी और दुराचार का मामला चल रहा है. 36 वर्षीय आदित्य सिंह को शनिवार को तब गिरफ़्तार किया गया जब एयरलाइन स्टाफ ने उनसे अपनी पहचान बताने के लिए कहा. आदित्य ने जवाब में एक बैज की ओर इशारा किया, लेकिन ये बैज एक ऑपरेशन मैनेजर का था. उस मैनेजर ने अक्टूबर में अपना बैज खोने की शिकायत दर्ज कराई थी.

जज भी हुईं हैरान
आदित्य ने अदालत को बताया है कि उसे हवाई अड्डे पर कथित तौर पर एक बैज पड़ा मिला औरवह कोविड के चलते एयरपोर्ट से बाहर जाने से डर रहा था इसलिए उसने उसका इस्तेमाल किया था. पुलिस के मुताबिक़, आदित्य सिंह 19 अक्टूबर को एक विमान में लॉस एंजीलिस से ओ'हारे अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा पहुंचे थे. उन्होंने जज से कहा कि आदित्य दूसरे यात्रियों से मिले खाने और पैसों से अपना गुज़ारा कर रहे थे. कुक काउंटी की न्यायाधीश सुज़ाना ओर्टिज़ ने कहा, "अगर मैं आपको ठीक से समझ रही हूं तो आप कह रही हैं कि एक अनधिकृत, ग़ैर-कर्मचारी व्यक्ति 19 अक्टूबर 2020 से 16 से 2021 के बीच ओ'हारे हवाई अड्डे टर्मिनल के एक सुरक्षित हिस्से में कथित तौर पर रह रहा था, और किसी को पता नहीं चला? मैं आपको सही से समझना चाहती हूं."
आदित्य का कोई क्रिमिनल बैकग्राउंड नहीं


असिस्टेंट पब्लिक डिफेंडर कर्टनी स्मॉलवुड के अनुसार, आदित्य सिंह लॉस एंजिल्स के एक उपनगर में रहते हैं और उनका कोई क्रिमिनल बैकग्राउंड नहीं है. ये स्पष्ट नहीं है कि वो शिकागो क्यों आए थे. हालांकि उनपर एक हवाई अड्डे के प्रतिबंधित क्षेत्र में ग़लत तरीक़े से घुसने और चोरी का आरोप लगाया गया है. उन्हें ज़मानत के लिए 1,000 डॉलर भरने होंगे. तब तक के लिए उनपर हवाई अड्डे में घुसने पर रोक लगा दी गई है.

जज ओर्टिज़ ने कहा, 'अदालत इन तथ्यों और परिस्थितियों को चौंकाने वाला मानती है कि इतने वक़्त तक ये होता रहा. लोगों की सुरक्षित यात्रा के लिए एयरपोर्ट का पूरी तरह से सुरक्षित होना ज़रूरी है, इसलिए मुझे लगता है कि ऐसे कथित कामों से वो शख़्स समुदाय के लिए ख़तरा बन गया.' शहर के हवाई अड्डों की देखरेख करने वाले शिकागो विमानन विभाग ने एक बयान में कहा, "ये घटना जांच के दायरे में है, हालांकि हमने पाया कि इस सज्जन ने हवाई अड्डे या यात्रा करने वाले लोगों की सुरक्षा के लिए किसी तरह का ख़तरा पैदा नहीं किया.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज