इस काम के लिए लंदन में एक साथ आ गए भारतीय और पाकिस्तानी

कंजर्वेटिव फ्रेंड्स ऑफ इंडिया, पाकिस्तान और बांग्लादेश ने पाकिस्तानी मूल के साजिद जावेद की गृह मंत्री पद पर ऐतिहासिक नियुक्ति को लेकर लंदन में एक ख़ास कार्यक्रम का आयोजन

भाषा
Updated: September 16, 2018, 4:47 PM IST
इस काम के लिए लंदन में एक साथ आ गए भारतीय और पाकिस्तानी
लंदन में एक साथ जुटे भारतीय-पाकिस्तानी मूल के लोग
भाषा
Updated: September 16, 2018, 4:47 PM IST
लंदन में भारत और पाकिस्तान समेत दक्षिण एशियाई मूल के लोगों के बीच एकजुटता का एक दुर्लभ मौका सामने आया. ये मौका था जब इस हफ्ते ब्रिटेन के पहले ब्रिटिश एशियाई गृह मंत्री साजिद जावेद का स्वागत किया गया. जिसके लिए भारतीय, पाकिस्तानी और बांग्लादेशी समूह एक साथ आए. ये दक्षिण एशियाई लोगों को एक साथ देखने का एक अच्छा मौका था.

ब्रिटेन की सत्ताधारी कंजर्वेटिव पार्टी ने दक्षिण एशियाई मूल के मतदाताओं के बीच पैठ के लिए भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेशी समूह बनाया है. इसी समूह कंजर्वेटिव फ्रेंड्स ऑफ इंडिया, पाकिस्तान एंड बांग्लादेश ने पाकिस्तानी मूल के साजिद जावेद की गृह मंत्री पद पर ऐतिहासिक नियुक्ति को लेकर गुरूवार को एक ख़ास कार्यक्रम का आयोजन किया था.



48 वर्षीय साजिद जावेद ने कार्यक्रम में अपने संबोधन के दौरान कहा, "यह एक उदाहरण है कि हमारे सभी समुदाय एक बेहद अच्छे दोस्त की तरह साथ काम कर रहे है." इस मौके पर जावेद के साथ उनकी मां, भाई, पत्नी और बच्चे भी मौजूद थे.



यह भी पढ़ें - पाकिस्तानी ट्रक ड्राइवर के बेटे साजिद बने ब्रिटेन के पहले मुस्लिम गृह मंत्री

जावेद एक पाकिस्तानी बस ड्राइवर के बेटे हैं. उनके पिता 1960 के दशक में ब्रिटेन आ गए थे. जावेद ने कहा, "यह मेरे माता-पिता की बदौलत है कि मैं यहां आपके सामने खड़ा हूं. हम जिस सांस्कृतिक विरासत का प्रतिनिधित्व करते हैं उससे कहीं बड़े हैं. हम इस देश की पेशकश का एक मुख्य हिस्सा हैं और ब्रिटिश समाज की एक अनिवार्य संपदा हैं."

साजिद जावेद ने अपनी पूर्ववर्ती अंबर रूड के इस्तीफे के बाद इसी साल अप्रैल के अंत में ब्रिटेन के गृह मंत्री की जिम्मेदारी संभाली है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर