Home /News /world /

भारतीय प्रोफेसर ने माल्या की टीम की कानूनी समझ पर उठाए सवाल

भारतीय प्रोफेसर ने माल्या की टीम की कानूनी समझ पर उठाए सवाल

विजय माल्‍या (फाइल फोटो)

विजय माल्‍या (फाइल फोटो)

भारतीय मूल के एक ब्रिटिश प्रोफेसर ने विजय माल्या की टीम की कानूनी समझ पर सवाल उठाए हैं.

    भारतीय मूल के एक ब्रिटिश प्रोफेसर ने विजय माल्या की टीम की कानूनी समझ पर सवाल उठाए हैं. उनका कहना है कि विजय माल्या के बचाव पक्ष ने उनके द्वारा किए गए जिस अध्ययन का हवाला दिया है, उन्होंने उसे सही ढंग से नहीं समझा है.

    प्रोफेसर ने कहा कि शराब कारोबारी माल्या के वकीलों ने उनके अध्ययन के निष्कर्ष की गलत तरीके से व्याख्या की और इसके विश्लेषण को गलत समझा. डैम ने इस अध्ययन का सह लेखन का कार्य किया है.

    पोर्ट्समाउथ विश्वविद्यालय में लोक विधि और शासन के प्रोफेसर शुभांकर डैम माल्या के भारत प्रत्यर्पण के लिए भारत की ओर से दलील दे रहे ‘क्राउन प्रॉसीक्यूशन सर्विस’(सीपीएस) को एक ईमेल किया था.

    सीपीएस के वकील मार्क समर्स ने डैम के ईमेल को पढ़कर यहां वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में प्रत्यर्पण सुनवाई की शुरुआत की. डैम ने भारतीय विधि व्यवस्था को ‘‘स्वतंत्र एवं निष्पक्ष’’ बताया.

    सीपीएस ने जस्टिस एम्मा अरबुथनोट से कहा कि माल्या के बचाव पक्ष द्वारा दक्षिण एशियाई कानून के विशेषज्ञ के रूप में मार्टिन लाउ द्वारा दिए गए गवाह के रूप में बयान पर खबरों के बाद कल रात यह ईमेल भेजा गया.

    लाउ ने एक शैक्षणिक अध्ययन का हवाला देते हुए सेवानिवृत्ति के पास वाले सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों की तटस्थता पर सवाल उठाए थे.

    डैम ने ईमेल में कहा, ‘‘हम शोधपत्र को लेकर बचाव पक्ष की समझ को खारिज करते हैं.’’

    ये भी पढ़ें:  महिला सांसदों का ट्रंप पर लगे यौन दुर्व्यवहार के आरोपों की जांच की मांग

    माल्या के वकीलों ने भारत की कानून व्यवस्था पर उठाए सवाल

    Tags: Vijay Mallya

    अगली ख़बर