लाइव टीवी

भारतीय टीम ने आईबीएम का 5,000 डॉलर का जीता ईनाम, दिया था बाढ़ रोकने का संभावित सुझाव

News18Hindi
Updated: October 14, 2019, 4:40 PM IST
भारतीय टीम ने आईबीएम का 5,000 डॉलर का जीता ईनाम, दिया था बाढ़ रोकने का संभावित सुझाव
भारतीय टीम ने आईबीएम का 5,000 डॉलर का ईनाम जीता

आईबीएम ऐंड डेविड क्लार्क कॉज फाउंडेशन के ‘कॉल फॉर कोड 2019’ (Call for Code 2019) पुरस्कार की घोषणा शनिवार को की गई जिसकी विजेता भारतीय सॉफ्टवेयर की टीम थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 14, 2019, 4:40 PM IST
  • Share this:
न्यूयॉर्क. भारतीय उप महाद्वीप (Indian Subcontinent) में आने वाली व्यापक बाढ़ को रोकने का संभावित उपाय खोजने वाले भारतीय सॉफ्टवेयर पेशेवरों (Indian Software Professionals) की एक टीम को आईबीएम (IBM) ने 5,000 डॉलर के पुरस्कार से सम्मानित किया है. एशिया प्रशांत क्षेत्र के लिए आईबीएम ऐंड डेविड क्लार्क कॉज फाउंडेशन के ‘कॉल फॉर कोड 2019’ (Call for Code 2019) पुरस्कार की घोषणा शनिवार को यहां की गई जिसका विजेता पूर्व सूचक रहा.

विजेता टीम में शामिल हैं ये लोग
पुरस्कार जीतने वाली इस टीम में पुणे के कॉग्निजेंट के सॉफ्टवेयर पेशेवर हैं सिद्धमा तिगाड़ी, गणेश कदम, संगीता नायर और श्रेयस कुलकर्णी. पूर्व सूचक प्रोजेक्ट के टीम लीडर तिगाड़ी ने बताया कि जब हमने आईबीएम कॉल फॉर कोड के लिए तैयारी शुरू की थी तो सबसे पहले प्राकृतिक आपदाओं को पहचानने की कोशिश की जिनका भारतीय उप महाद्वीप पर बहुत असर होता है.

कैसे लगाते हैं बाढ़ का पता

आईबीएम की ओर से जारी बयान में कहा गया कि जलाशयों, बांधों आदि पर लगातार नजर रखकर तथा मौसम पूर्वानुमान जानकारी के आधार पर प्रोजेक्ट पूर्व सूचक डेटा संग्रहित कर सकता है. इसकी मदद से वह बाढ़ का अनुमान लगाने वाला डेटा तैयार कर सकते हैं. इस डेटा का इस्तेमाल सरकारी एजेंसियां, आपदा प्रबंधन दल कर सकते हैं. लगातार नवीन होने वाले और सुगमता से उपलब्ध डेटा बाढ़ को रोकने में मददगार हो सकते हैं जिससे जानमाल का नुकसान रोका जा सकता है.

हमने महसूस किया कि इनमें से बाढ़ एक मुद्दा है एक ऐसा मुद्दा जिसमें प्रभावी प्रबंधन की कमी है और इसमें अनुमान तथा गंभीरता को कम करने के लिए प्रयास करने की सख्त जरूरत है. कॉल फॉर कोड 2019 एशिया प्रशांत में क्षेत्र से 15 देश शामिल हुए. अमेरिका के बाद दुनिया में सबसे अधिक संख्या में डेवलपर भारत में हैं. (भाषा इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें : सुरक्षा को खतरे के बावजूद चुनाव अभियान जारी रखेंगे ट्रूडो

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 14, 2019, 4:40 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...