लाइव टीवी

आतंकवाद को लेकर भारतीयों ने पाकिस्तान को अमेरिका में घेरा, कहा-अब सुधर जाओ

News18Hindi
Updated: December 9, 2019, 6:59 AM IST
आतंकवाद को लेकर भारतीयों ने पाकिस्तान को अमेरिका में घेरा, कहा-अब सुधर जाओ
आतंकवाद को लेकर अमेरिका में पाक दूतावास के बाहर भारतीयों ने निकाली रैली.

रैली में शामिल कुछ लोग एक बड़ा सा बैनर लहरा रहे थे, इस बैनर में लिखा था, 'पिछले 20 सालों में अमेरिका समेत जितने भी आतंकी हमले हुए हैं, उनमें 90% हमलों में पाकिस्तान का हाथ है'

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 9, 2019, 6:59 AM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. भारत (Indian) के लोगों ने आतंकवाद (Terrorism) के मुद्दे को लेकर पाकिस्तान (Pakistan) को अमेरिका में घेरा है. रविवार को भारतीय समुदाय के लोगों ने वाशिंगटन स्थित पाकिस्तानी दूतावास के बाहर रैली निकाली और पाकिस्तान आतंकवाद को समर्थन देना बंद करे के नारे लगाए.

इस रैली में अमेरिकी कांग्रेस के दो सांसद भी शामिल हुए. रैली में शामिल लोग हाथ में तख्तियां लिए हुए आगे बढ़ रहे थे. इनमें पाकिस्तान समर्थित आतंकवाद को बंद करने की बात लिखी थी. रैली में शामिल कुछ लोग एक बड़ा सा बैनर लहरा रहे थे, इस बैनर में लिखा था, 'पिछले 20 सालों में अमेरिका समेत जितने भी आतंकी हमले हुए हैं, उनमें 90% हमलों में पाकिस्तान का हाथ है' रैली में आए लोगों ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को चाहिए की वो पाकिस्तान आधारित आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई करे. लोगों ने मुंबई में हुए 26/11 हमले में भी न्याय मांगा.



मुंबई हमले का गुनाहगार है पाकिस्तान26 नवंबर 2008 को भारत की आर्थिक राजधानी मुंबई में पाकिस्तान से आए 10 आतंकियों ने हमला किया था. इस हमले में 166 लोगों की जान चली गई थी. जिसमें 26 विदेशी नागरिक भी शामिल थे. देश के इतिहास में 26/11 मुंबई हमला सबसे भयावह आतंकी हमला था जिसने सभी की रूह को कंपा दिया था.

हमले के पीछे भारत ने पाकिस्तान के हाथ होने का दावा किया था. इसके लिए अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में सुबूत भी सौंपे थे. पाकिस्तान को खुद दस्तावेज सौंपे गए थे कि पाकिस्तान में बैठकर भारत में हमले की साजिश रची गई थी. भारत ने पाकिस्तान से हाफिज सईद और अन्य आतंकियों को खिलाफ सुबूत सौंपकर कार्रवाई की मांग की थी, लेकिन पाकिस्तान ने कोई एक्शन नहीं लिया था.

पाक समर्थित लोग लंदन में भारतीय दूतावास के बाहर जुटे थे
अक्टूबर के आखिरी माह में लंदन में भारतीय उच्चायोग के बाहर पाकिस्तान समर्थित प्रदर्शनकारी एकत्र हुए थे और हंगामा करने की कोशिश की थी. इसको देखते हुए स्थानीय प्रशासन ने भारतीय उच्चायोग के बाहर पहले से भारी सुरक्षा बलों को तैनात कर दिया था, जिसके कारण पाकिस्तान समर्थित भीड़ प्रदर्शन नहीं कर पाई थी.

ये लोग जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाने का विरोध कर रहे थे.लंदन में भारतीय उच्चायोग के बाहर पाकिस्तान समर्थित प्रदर्शन की योजना पर भारत ने ब्रिटिश सरकार से चिंता जाहिर की थी. साथ ही भारतीय दूतवास के आसपास खास सुरक्षा के प्रबंध करने के लिए कहा था. इस पर ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा था कि यहां हिंसा और डराने धमकाने वाली चीजें अस्वीकार्य हैं.

ये भी पढ़ें- EXCLUSIVE: ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन बोले- हिन्दू या भारत विरोधी भावनाएं पनपने नहीं देंगे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 9, 2019, 6:59 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर