इंडोनेशिया के मोलुक्का सागर में भूकंप, सुनामी की चेतावनी जारी

इंडोनेशिया की भूभौतिकी एजेंसी द्वारा ट्विटर पर पोस्ट किए गए एक ग्राफिक ने उत्तर सुलावेसी और उत्तरी मालुकु के कुछ हिस्सों के लिए आधा मीटर (1.6 फीट) की लहरों की भविष्यवाणी की.

News18Hindi
Updated: July 7, 2019, 9:54 PM IST
इंडोनेशिया के मोलुक्का सागर में भूकंप, सुनामी की चेतावनी जारी
फाइल फोटो
News18Hindi
Updated: July 7, 2019, 9:54 PM IST
उत्तरी सुलावेसी और मालुकु द्वीपसमूह के बीच मोलुक्का सागर में रविवार देर रात आए तेज भूकंप के बाद इंडोनेशियाई अधिकारियों ने सुनामी की चेतावनी जारी की. अमेरिकी भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण ने कहा कि 6.9 रिक्टर का भूकंप 24 किलोमीटर (15 मील) की गहराई पर 185 किलोमीटर (115 मील) दक्षिण-पूर्व में मनाडो में केंद्रित था.

इंडोनेशिया की भूभौतिकी एजेंसी द्वारा ट्विटर पर पोस्ट किए गए एक ग्राफिक ने उत्तर सुलावेसी और उत्तरी मालुकु के कुछ हिस्सों के लिए आधा मीटर (1.6 फीट) की लहरों की भविष्यवाणी की.

एएफपी के अनुसार द एसोसिएटेड प्रेस को बताया कि भूकंप के कारण मलूकु द्वीप श्रृंखला में टर्नेट शहर में दहशत फैल गई. रेडियो एल शिंटा ने बताया कि उत्तरी सुलावेसी की प्रांतीय राजधानी मनाडो के निवासी घबराहट में अपने घरों से बाहर आ गए.

यह भी पढ़ें:  'रिंग ऑफ फायर' जहां आते हैं सबसे ज्यादा भूकंप, फिर घेर लेती है सुनामी

क्यों आते हैं यहां इनते भूकंप

इंडोनेशिया में सबसे ज्यादा प्राकृतिक तबाही आने का कारण है इसका 'रिंग ऑफ फायर' में होना. इंडोनेशिया के अलावा जावा और सुमात्रा भी इसी इलाके में आते हैं. प्रशांत महासागर के किनारे-किनारे स्थित यह इलाका दुनिया का सबसे खतरनाक भू-भाग है.

रिंग ऑफ फायर एक एक्टिव भूकंप जोन है. यहां पर ज्वालामुखी फटने से तगड़े भूकंप से झटके आते हैं. इससे आस-पास के इलाकों में सुनामी भी आती है. यह इलाका करीब 40 हज़ार वर्ग किमी के इलाके में फैला हुआ है. विश्व के कुल एक्टिव ज्वालामुखी में से 75% यहीं पर हैं.
First published: July 7, 2019, 9:51 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...