इंडोनेशिया में चर्च के बाहर आत्मघाती हमला, कई लोग जख्मी, पाम संडे के मौके पर जुटे थे लोग

इंडोनेशिया में चर्च के बाहर घटनास्थल पर जांच करने पहुंची पुलिस. (AFP/28 March 2021)

इंडोनेशिया में चर्च के बाहर घटनास्थल पर जांच करने पहुंची पुलिस. (AFP/28 March 2021)

Indonesia Suicide Bombing at Church: दक्षिण सुलावेसी पुलिस के प्रमुख ने कहा कि विस्फोट सुबह 10 बजकर 35 मिनट पर हुआ.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 28, 2021, 12:58 PM IST
  • Share this:

जकार्ता. इंडोनेशिया में रविवार की प्रार्थना के दौरान एक रोमन कैथोलिक गिरजाघर के बाहर कम से कम एक आत्मघाती हमलावर ने विस्फोट कर दिया, जिसमें कई लोग घायल हो गए. इंडोनेशिया की राष्ट्रीय पुलिस ने बताया कि रविवार को मकास्सर शहर में एक कैथोलिक चर्च के बाहर दो संदिग्ध आत्मघाती हमलावरों ने खुद विस्फोट से उड़ा दिया, जिसमें करीब 14 लोग जख्मी हो गए हैं.



यह घटना ईस्टर के पवित्र सप्ताह के पहले दिन (पाम संडे) को हुआ है. ईसाईयों के लिए यह सप्ताह बेहद खास महत्व रखता है. पुलिस ने बताया धमाका के वक्त सुलावेसी आइलैंड स्थित चर्च के अंदर प्रार्थना चल रही थी और प्रार्थना खत्म होते ही विस्फोट हो गया. एक वीडियो में दक्षिण सुलावेसी प्रांत के मकास्सर शहर में ‘सैक्रेड हार्ट ऑफ जीजस कैथेड्रल’ के प्रवेश द्वार पर जली हुई मोटरसाइकिल के पास शरीर के बिखरे हुए अंग देखे गए.



इससे पहले स्थानीय पुलिस ने बताया था कि दक्षिण सुलावेसी प्रांत के मकास्सर शहर में प्रार्थना में शामिल हुए लोगों में से कोई हताहत नहीं हुआ. उन्होंने बताया था कि हमले में एक व्यक्ति मारा गया है और माना जा रहा है कि उसी ने हमला किया था. दक्षिण सुलावेसी पुलिस प्रमुख के मुताबिक चर्च के बाहर यह विस्फोट सुबह 10 बजकर 35 मिनट पर हुआ.



इंडोनेशिया की राष्ट्रीय पुलिस के प्रवक्ता अरगो युवोनो ने कहा कि संबंधित एजेंसी देख रही है कि हमलावर किस उग्रवादी नेटवर्क से आए थे या फिर कहीं यह हमला हाल ही में संदिग्ध आतंकियों की हुई गिरफ्तारी से तो नहीं जुड़ी है. इसी साल जनवरी में देश की आतंक-रोधी ईकाई ने मकास्सर में आतंकियों के एक ठिकाने पर छापा मारा था और दो संदिग्ध लोगों ने पुलिस ने मार गिराया था जो कि 2019 में फिलिपींस के चर्च में हुए दोहरे धमाके से जुड़े थे. इस हमले में 20 से अधिक लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी.


कैथोलिक पादरी विलहेल्मस तुलक ने पत्रकारों को बताया कि प्रार्थना के दौरान धमाके की तेज आवाज आई. पूर्वाह्न साढ़े दस बजे जब बम विस्फोट हुआ, तब वह प्रार्थना सभा का नेतृत्व कर रहे थे. तुलक ने बताया कि गिरजाघर के सुरक्षाकर्मियों को संदेह है कि मोटरसाइकिल पर आए दो लोग गिरजाघर में प्रवेश करना चाहते थे. उनमें से एक ने खुद को विस्फोट से उड़ा लिया.



उन्होंने बताया कि हमले में प्रार्थना में शामिल हुए लोगों में से कोई हताहत नहीं हुआ. दुनिया के सबसे अधिक मुस्लिम आबादी वाला देश इंडोनेशिया 2002 में बाली द्वीप पर बमबारी में 202 लोगों के मारे जाने के बाद से चरमपंथियों से संघर्ष कर रहा है. इस हमले में मारे गए ज्यादातर लोग विदेशी पर्यटक थे.



(इनपुट रॉयटर्स से भी)


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज