खुफिया रिपोर्ट में खुलासा, पाकिस्तान की मदद से जम्मू-कश्मीर में तालिबान आतंकियों के हमले की आशंका

खुफिया रिपोर्ट में खुलासा, पाकिस्तान की मदद से जम्मू-कश्मीर में तालिबान आतंकियों के हमले की आशंका
जम्मू-कश्मीर में 8 जुलाई तक बढ़ाई गईं 2 जी सेवाएं. (File Photo)

पाकिस्तान (Pakistan) की कोशिश है कि तालिबान के इन आतंकियों को ट्रेनिंग के बाद कश्मीर (Kashmir) में घुसपैठ कराई जाए.

  • Share this:
इस्लामाबाद/ नई दिल्ली. भारत के पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान की एक और साजिश का खुलासा हुआ है. एक खुफिया रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि पाकिस्तान कश्मीर में हमले कराने के लिए तालिबान को ट्रेनिंग दे रहा है. रिपोर्ट में इसका भी खुलासा हुआ है कि इस काम में खुद पाकिस्तान की सेना लगी हुई है. रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान की एसएसजी ने तालिबान से ताल्लुक़ रखने वाले 20 आतंकियों को जलालाबाद में ट्रेनिंग दी है.

पाकिस्तान की कोशिश है कि ट्रेनिंग के बाद इनकी कश्मीर में घुसपैठ कराई जाए. बता दें अफगानी आतंकी वीबीआईईडी बनाने में माहिर होते हैं. खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक़ आतंकियो की घुसपैठ के लिंए पाकिस्तान लगातार कोशिश में लगा है. गुरेज के दूसरी ओर पीओके में सरदारी के पाकिस्तान पोस्ट में दो ग्रुप मौजूद है.

वहीं जैश आतंकियो के दो गुट मच्छिल सेक्टर के दूसरी ओर केल और तिजिआन इलाके में घुसपैठ के लिेए मौजूद हैं. रिपोर्ट के अनुसार केजी सेक्टर के दूसरी ओर पीओके के नाट्टर और पाकिस्तान सेना के पोस्ट में लश्कर के दो ग्रुप घुसपैठ और बैट एक्शन के लिए तैयार बैठे हैं. इसके साथ ही खुलासा हुआ है कि घाटी में हथियारों की कमी से जूझ रहे आतंकी अनन्तनाग के बिजबेहारा में हथियार छीनने की घटना को अंजाम दे सकते हैं.



पुलवामा में कार से आईईडी विस्फोट की साजिश नाकाम: पुलिस
बता दें जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में सुरक्षाबलों ने एक कार में मौजूद विस्फोटक का पता लगाकर आईईडी विस्फोट की साजिश को नाकाम कर दिया था. इस कार में करीब 45 किलोग्राम विस्फोटक रखा हुआ था. कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने कहा कि हिज्बुल मुजाहिद्दीन और जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) एक साथ मिलकर पिछले साल फरवरी के आत्मघाती हमले की तरह ही सुरक्षाबलों को निशाना बनाने की साजिश रच रहे थे.

पिछले साल हुए आत्मघाती हमले में सीआरपीएफ के 40 से ज्यादा जवान शहीद हो गए थे. कुमार ने कहा, ‘पुलिस को एक सप्ताह से हिज्बुल और जैश के आतंकवादियों द्वारा कार बम का इस्तेमाल करते हुए सुरक्षाबलों पर बड़े हमले की साजिश की जानकारी मिल रही थी. जब बुधवार को इस विषय में पर्याप्त जानकारी मिल गई तो हमने और चीजें भी जुटाईं और सुरक्षा बलों ने पुलवामा में नाकेबंदी की.’

कुमार ने कहा कि बुधवार शाम को जब एक कार जांच चौकी पर पहुंची तो सुरक्षाबलों ने चेतावनी के लिए कुछ गोलियां चलाई क्योंकि पहले से ही इस कार के संबंध में जानकारी उपलब्ध थी. इसके बाद आतंकवादी कार मोड़कर फरार हो गया. उन्होंने कहा, ‘ इसके बाद अन्य जांच चौकी पर भी सुरक्षाबलों ने चेतावनी में गोलियां चलाईं और आतंकवादी अपनी कार छोड़कर अंधेरे का फायदा उठाते हुए वहां से फरार हो गये. सुरक्षाबलों ने कुछ दूरी से ही रोशनी करके वाहन की जांच की और उन्हें कुछ संदिग्ध मिला. इसके बाद घेराबंदा कर दी और सुबह होने की प्रतीक्षा करने लगे.’

आईजीपी ने कहा कि पुलिस को जैश द्वारा जंग-ए-बदर दिवस (रमजान महीने का 17वां दिन) की वर्षगांठ पर हमले के संबंध में खुफिया जानकारी थी लेकिन सुरक्षाबलों की मुस्तैदी और सतर्कता की वजह से आतंकवादी ऐसा करने में नाकाम रहे.

(एजेंसी इनपुट के साथ)

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading