लाइव टीवी

इस्‍लामिक स्‍टेट का नया सरगना बना आमिर सल्‍बी, जानें उसके आतंक का पूरा चिट्ठा

News18Hindi
Updated: January 21, 2020, 1:48 PM IST
इस्‍लामिक स्‍टेट का नया सरगना बना आमिर सल्‍बी, जानें उसके आतंक का पूरा चिट्ठा
इंटेलिजेंस सर्विसेस के मुताबिक, आमिर सल्‍बी ही है आतंकी संगठन आईएस का नया सरगना.

ब्रिटेन के समाचारपत्र 'द गार्जियन' की रिपोर्ट के मुताबिक, दो स्‍पाई सर्विसेस (Spy Services) के अधिकारियों ने इस्‍लामिक स्‍टेट (IS) के नए सरगना आमिर मोहम्‍मद अब्‍दुल रहमान अल-मवली अल-सल्‍बी (Amir Mohammed Abdul Rahman al-Mawli al-Salbi) को आतंकी संगठन (Terrorist Group) के संस्‍थापक सदस्‍यों में एक बताया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 21, 2020, 1:48 PM IST
  • Share this:
लंदन. आतंकी संगठन इस्‍लामिक स्‍टेट (IS) का नया सरगना आमिर मोहम्‍मद अब्‍दुल रहमान अल-मल्‍वी अल-सल्‍बी (Amir Mohammed Abdul Rahman al-Mawli al-Salbi) ही है. इंटेलिजेंस सर्विसेस ने पुष्टि कर दी है. ब्रिटेन के अखबार 'द गार्जियन' की रिपोर्ट के मुताबिक, दो खुफिया एजेंसियों (Spy Services) के अधिकारियों ने आमिर सल्‍बी को आतंकी संगठन (Terrorist Group) के संस्‍थापक सदस्‍यों में एक बताया है. अधिकारियों के मुताबिक, उसने इराक (Iraq) में यजीदी अल्‍पसंख्‍यकों (Yazidi Minority) के जनसंहार को जायज ठहराया था. इसके अलावा वह आतंकी संगठन के दुनिया भर में अभियानों की निगरानी करता है.

बगदादी की मौत के कुछ ही घंटों में सल्‍बी को चुन लिया गया था सरगना
आतंकी संगठन आईएस ने अक्‍टूबर, 2019 में अमेरिका की स्‍पेशल फोर्सेस के हमले में सरगना अबु बकर अल-बगदादी (Abu Bakr al-Baghdadi) की मौत के बाद अबु इब्राहिम अल-कुरैशी (Abu Ibrahim al-Hashimi al-Quraishi) को नया मुखिया घोषित किया था. हालांकि, कुछ विश्‍लेषकों ने सुझाव दिया कि आईएस के नए सरगना की वास्‍तविक पहचान अब भी अनिश्चित है. द गार्जियन की रिपोर्ट के मुताबिक, सल्‍बी को बगदादी की मौत के कुछ ही घंटों के भीतर नया सरगना चुन लिया गया था. वह बगदादी की ही तरह कट्टरपंथी आतंकी है. वह लंबे समय से आतंकी संगठन के साथ जुड़ा हुआ है. दरअसल, कुरैशी आतंकी संगठन के कुछ शीर्ष नेताओं की पसंद नहीं था.

इराक की एक जेल में बगदादी और आमिर सल्‍बी की हुई थी मुलाकात

आमिर सल्‍बी का जन्‍म तलअफार (Tal Afar) कस्‍बे में ईराकी तुर्की परिवार में हुआ था. वह आईएस के गैर-अरबी (Non-Arabs) शीर्ष नेताओं में एक है. उसने मोसुल विश्‍वविद्यालय से शरई (Sharia Law) में डिग्री हासिल की है. वह इस्‍लाम का बड़ा जानकार होने के कारण संगठन में धीरे-धीरे आगे बढ़ता रहा. सल्‍बी ने आईएस के यजीदी अल्‍पसंख्‍यकों के नरसंहार (Genocide of Yazidis) को धार्मिक नियमों के तहीत जायज ठहराया. द गार्जियन की रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिकी बलों ने उसे 2004 में दक्षिण इराक की कैंप बका जेल में हिरासत में रखा, जहां उसकी मुलाकात बगदादी से हुई.

ये भी पढ़ें- रजनीकांत फिर बोले- पेरियार ने रैली में दिखाई थी राम-सीता की आपत्तिजनक तस्वीरें

'बग्गा, बग्गा हर जगह'... BJP का टिकट मिलने के बाद तेजिंदर ने ऐसे किया शुक्रिया 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 21, 2020, 1:07 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर