लाइव टीवी
Elec-widget

अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन के सभी टॉयलेट हुए खराब, डायपर पहनकर काम कर रहे अंतरिक्ष यात्री

News18Hindi
Updated: November 28, 2019, 9:17 AM IST
अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन के सभी टॉयलेट हुए खराब, डायपर पहनकर काम कर रहे अंतरिक्ष यात्री
आईएसएस के सभी टॉयलेट खराब होने से बढ़ी नासा की मुश्किलें

अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन (ISS) में रूस (Russia) में बने दो टॉयलेट फिट किए गए हैं. इन दोनों टॉयलेट में एक अमेरिकी (America) हिस्से में आता है, जबकि दूसरा रूसी हिस्से में लगाया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 28, 2019, 9:17 AM IST
  • Share this:
मॉस्को. अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन (ISS) में अंतरिक्ष यात्रियों (Astronaut) को इन दिनों खासी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है. नासा (NASA) के मुताबिक, आईएसएस का कोई भी टॉयलेट (Toilet) काम नहीं कर रहा है, जिसके चलते अंतरिक्ष यात्रियों को डायपर का इस्तेमाल करना पड़ रहा है. आईएसएस के कमांडर लूसा परमिटानो के मुताबिक, अमेरिकी हिस्से में लगा टॉयलेट पिछले कुछ दिनों से खराबी का सिग्नल दे रहा है, जबकि रूसी हिस्से में लगा टॉयलेट पूरी क्षमता तक भर चुका है, जिसके कारण इसका इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है.

रिसर्च राइटअप्स के मुताबिक अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन (आईएसएस) के सभी टॉयलेट खराब हो चुके हैं, जिसके कारण अंतरिक्ष यात्रियों को काफी परेशानी हो रही है. आईएसएस में रूस में बने दो टॉयलेट फिट किए गए हैं. इन दोनों टॉयलेट में एक अमेरिकी हिस्से में आता है जबकि दूसरा रूसी हिस्से में लगाया गया है. इसके अलावा अंतरिक्ष स्टेशन से जुड़े सोयूज अंतरिक्ष यान में भी टॉयलेट बना है, लेकिन इसका इस्तेमाल केवल अंतरिक्ष यान की उड़ान के दौरान किया जाता है. सोयूज अंतरिक्ष यान पर स्थिर रहता है तो इसमें लगे टॉयलेट का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है. ऐसे में एक टॉयलेट पूरी तरह से भर चुका है जबकि दूसरे में खराबी आ गई है, जिसके कारण अंतरिक्ष यात्री इसका इस्तेमाल नहीं कर पा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :- धरती को खत्म कर सकता है 'गड़बड़ी का भगवान' कहा जाने वाला उल्कापिंड

बता दें कि इस समय अंतरिक्ष में दो स्पेस स्टेशन काम कर रहे हैं. इसमें से एक अमेरिका, रूस, यूरोपीय संघ, कनाडा और जापान की मदद से चलाया जा रहा है. इस स्पेस स्टेशन को ही 'अंतरराष्‍ट्रीय स्‍पेस स्‍टेशन' (आईएसएस) के नाम से जाना जाता है. वहीं दूसरा स्पेस स्टेशन चीन का है. इस स्पेस स्टेशन को तिआनागोंगा-2 नाम दिया गया है. आईएसएस लगातार पृथ्वी की परिक्रमा करता रहता है.

इसे भी पढ़ें :- नासा की तस्वीरों ने दिखाया सच, पंजाब-हरियाणा में 2900 जगहों पर जल रही पराली

आईएसएस से पहले मीर करता था पृथ्वी की परिक्रमा
आईएसएस से पहले रूस का स्टेशन स्टेशन मीर पृथ्वी की परिक्रमा करता था, लेकिन खर्च बढ़ने और सुरक्षा कारणा से इसे साल 2001 में दक्षिण प्रशांत सागर में गिरा दिया गया था. मीर के खत्म होने के बाद रूस ने आईएसएस से ही अपने अंतरिक्ष मिशन पर काम करना शुरू कर दिया था.
Loading...


 

 

इसे भी पढ़ें :- ISRO ने चुन लिए वो 12 नाम जो अंतरिक्ष में बन सकते हैं 'गगनयान' का हिस्सा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 28, 2019, 8:23 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...