• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • एस्ट्राजेनेका का ब्लूप्रिंट चुराकर रूस ने बना ली स्पूतनिक-V वैक्सीन- रिपोर्ट

एस्ट्राजेनेका का ब्लूप्रिंट चुराकर रूस ने बना ली स्पूतनिक-V वैक्सीन- रिपोर्ट

 ट्रायल के नतीजों के आधार पर स्पुतनिक V की एफिकेसी रेट 91.6 फीसदी है. (AP)

ट्रायल के नतीजों के आधार पर स्पुतनिक V की एफिकेसी रेट 91.6 फीसदी है. (AP)

कथिततौर पर सुरक्षा सूत्रों ने मंत्रियों को बताया कि उनके पास सबूत हैं कि रूसी राष्ट्रपति कार्यालय क्रेमलिन के जासूसों ने ऑक्सफोर्ड/एस्ट्राजेनेका (Oxford/AstraZeneca) वैक्सीन का खाका चुराया और इसका इस्तेमाल अपनी खुद की स्पूतनिक V वैक्सीन (Sputnik V) डिजाइन करने के लिए किया.

  • Share this:

    मॉस्को. कोरोना वायरस (Coronavirus) से लड़ने के लिए रूस ने सबसे पहले स्पूतनिक V नाम से वैक्सीन बनाई थी. लेकिन इस वैक्सीन को बनाने वाली कंपनी गेमालेया नेशनल रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी पर चोरी का आरोप लगा है. एक रिपोर्ट के मुताबिक, यूके की ऑक्सफोर्ड/एस्ट्राजेनेका वैक्सीन (Oxford/AstraZeneca) का ब्लूप्रिंट रूसी जासूसों ने चुरा लिया था. फिर इस्तेमाल स्पूतनिक V वैक्सीन (Sputnik V) बनाने में किया गया था.

    ‘द सन’ की रिपोर्ट के मुताबिक, कथिततौर पर सुरक्षा सूत्रों ने मंत्रियों को बताया कि उनके पास सबूत हैं कि रूसी राष्ट्रपति कार्यालय क्रेमलिन के जासूसों ने ऑक्सफोर्ड/एस्ट्राजेनेका वैक्सीन का खाका चुराया और इसका इस्तेमाल अपनी खुद की वैक्सीन डिजाइन करने के लिए किया.

    यूएन महासचिव ने चेताया- कोरोना का करोड़ों लोगों के मानसिक स्वास्थ्य पर भयानक असर, वर्षों तक रह सकती है समस्या

    यह समझा जाता है कि ब्लूप्रिंट और महत्वपूर्ण जानकारी एक विदेशी एजेंट द्वारा व्यक्तिगत रूप से चुराई गई थी. व्लादिमीर पुतिन का कहना है कि उन्होंने स्पूतनिक V की दोनों डोज ले ली हैं. उन्होंने अन्य रूसियों को भी ये वैक्सीन लेने का आग्रह किया था. हालांकि, ये वैक्सीन अभी तक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्वीकृत नहीं है. इसके बावजूद 70 देशों ने इसके इस्तेमाल की मंजूरी दी है.

    कोवैक्सीन और कोविशील्ड वैक्सीन की तरह ही स्पूतनिक V (Sputnik V) भी पूरी तरह से सुरक्षित है. ट्रायल के नतीजों के आधार पर स्पूतनिक V की एफिकेसी रेट 91.6 फीसदी है. स्पूतनिक V वैक्सीन के अभी तक कोई गंभीर साइड इफेक्ट सामने नही आए हैं. कोई भी वैक्सीन लगने के बाद होने वाले सामान्य बुखार, थकान जैसे आम साइड इफेक्ट ही नजर आते हैं. ये जरूरी नही है कि ये साइड इफेक्ट सभी लोगों में दिखाई दें.

    कितनी डोज लेनी होगी?
    स्पूतनिक V वैक्सीन की दो डोज दी जाती हैं. यह कोविशील्ड वैक्सीन की तरह ही वायरल वेक्टर प्लेटफॉर्म में एडेनोवायरस का इस्तेमाल कर बनाई गई है. वैक्सीन की दो डोज के बीच में 21 दिनों का अंतर रखा जाएगा. इस वैक्सीन को 2 से 8 डिग्री सेल्सियस के तापमान में आसानी से स्टोर किया जा सकता है.

    कोरोना की वजह से समाज और दिमाग में आ रहे कैसे बदलाव, कैम्ब्रिज की नई रिसर्च में चौंकाया

    किन्हें दी जा सकती है वैक्सीन?
    स्पूतनिक V वैक्सीन का टीका 18 साल से ऊपर के किसी भी व्यक्ति को दिया जा सकता है. इस वैक्सीन के टीके बच्चों और गर्भवती महिलाओं को देने के बारे में अभी तक कोई जानकारी सामने नहीं आई है. स्पूतनिक V के ट्रायल में बच्चों और गर्भवती महिलाओं को शामिल नहीं किया गया था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज