• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • इन 2 लक्षणों को बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें कोरोना मरीज, पढ़ें ये स्टडी

इन 2 लक्षणों को बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें कोरोना मरीज, पढ़ें ये स्टडी

दुनिया में अब तक कोरोना के 20 करोड़ केस हो चुके हैं (AP)

दुनिया में अब तक कोरोना के 20 करोड़ केस हो चुके हैं (AP)

इंफ्लूएंजा एंड अदर रेस्पिरेटरी वायरसेस जर्नल (Influenza and Other Respiratory Viruses journal) में प्रकाशित हुए एक अध्ययन के अनुसार, कोरोना मरीजों में दो संकेत नजर आएं, तो घातक हो सकता है. पहला संकेत है, सांस लेने की दर कम होना और दूसरा खून में ऑक्सीजन लेवल कम होना, ये दोनों संकेत हो सकते हैं खतरनाक, अगर सही समय पर ना दिया गया ध्यान.

  • Share this:
    नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमित होने पर व्यक्ति में कई लक्षण (Corona symptoms) नजर आते हैं, जिन्हें नजरअंदाज करना घातक हो सकता है. कुछ गंभीर संकेत ऐसे भी होते हैं, जिन्हें घर पर कोरोना का इलाज कर रहे लोग पहचान लें, तो जान बचाना या स्थिति को कंट्रोल में रख पाने में आसानी हो सकती है.

    अमेरिका में हुई एक स्टडी में यह बात सामने आई है कि कोरोना मरीजों में दो संकेत बता सकते हैं कि वे कब अधिक गंभीर हो सकते हैं. पहला संकेत है जब आपको सांस लेने में तकलीफ (Breathing problem in corona) हो, उसके बाद सीने में लगातार दर्द (Chest pain) होना. ये दो ऐसे संकेत हैं, जो बताते हैं कि कोरोना गंभीर हो रहा है. इन दोनों लक्षणों पर समय रहते ध्यान दिया जाए, तो जान बच सकती है.

    फाइजर-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन से बढ़ने के बाद घटने लगता है एंटीबॉडी लेवल- लैंसेट स्टडी

    इंफ्लूएंजा एंड अदर रेस्पिरेटरी वायरसेस जर्नल (Influenza and Other Respiratory Viruses journal) में प्रकाशित हुए एक अध्ययन के अनुसार, कोरोना मरीजों में दो संकेत नजर आएं, तो घातक हो सकता है. पहला संकेत है, सांस लेने की दर कम होना और दूसरा खून में ऑक्सीजन लेवल कम होना, ये दोनों संकेत हो सकते हैं खतरनाक, अगर सही समय पर ना दिया गया ध्यान.

    6 कप से ज्यादा कॉफी पीने पर 53% तक याद्दाश्त घटने का खतरा, पढ़ें ये रिसर्च

    सीने में लगातार दर्द को भी ना करें नजरअंदाज
    यदि आप कोरोना से संक्रमित हैं और घर पर आपका इलाज हो रहा है, तो इस लक्षण को भी नजरअंदाज ना करें. सीने में लगातार दर्द या दबाव इस बात की तरफ इशारा करता है कि वायरस फेफड़ों में पहुंच गया है. स्टडी में कहा गया है कि बुजुर्ग और मोटापे से ग्रस्त लोगों को इसका खतरा अधिक होता है. (एजेंसी इनपुट के साथ)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज