होम /न्यूज /दुनिया /

स्टडी में दावा- कोरोना संक्रमण के बाद वैक्सीन न लगवाने वालों को खतरा ज्यादा

स्टडी में दावा- कोरोना संक्रमण के बाद वैक्सीन न लगवाने वालों को खतरा ज्यादा

सीडीसी के डायरेक्टर रोशेल वालेंस्की ने कहा कि अगर आप पहले कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं तो वैक्सीन जरूर लगवा लें.

सीडीसी के डायरेक्टर रोशेल वालेंस्की ने कहा कि अगर आप पहले कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं तो वैक्सीन जरूर लगवा लें.

अमेरिका की सेंटर फॉर डिसीज एंड प्रिवेंशन नाम की वैज्ञानिकों ने लोगों से अपील की है कि अगर उन्हें कोरोना हो चुका है, तो तय समय पर वैक्सीन लगवा लें. क्योंकि एक बार संक्रमित (Coronavirus) होने के बाद डेल्टा वेरिएंट (Reinfection) का खतरा उन्हें ज्यादा है.

अधिक पढ़ें ...

    न्यूयॉर्क. कोरोना वायरस (Coronavirus) से दुनियाभर के देशों की जंग जारी है. कोरोना को हराने के लिए वैक्सीनेशन (Covid Vaccination) भी किया जा रहा है. इस बीच एक नई स्टडी में दावा किया गया है कि कोरोना वायरस के संक्रमण से ठीक होने के बाद जो लोग वैक्सीन नहीं लगवा रहे हैं, उन्हें दोबारा इंफेक्शन (Reinfection) का खतरा ज्यादा है.

    अमेरिका की सेंटर फॉर डिसीज एंड प्रिवेंशन नाम की वैज्ञानिकों ने लोगों से अपील की है कि अगर उन्हें कोरोना हो चुका है, तो तय समय पर वैक्सीन लगवा लें. क्योंकि एक बार संक्रमित होने के बाद डेल्टा वेरिएंट का खतरा उन्हें ज्यादा है. रिपोर्ट में कहा गया है कि लैब में इस बात के सबूत मिले हैं कि वैक्सीन से लोगों में नैचुरल इम्यूनिटी बूस्ट हो रही है.

    वैक्सीन की 2 डोज ले चुके लोगों में दिख रहे हैं कोरोना के ये लक्षण, पढ़ें ये स्टडी
    सीडीसी के डायरेक्टर रोशेल वालेंस्की ने कहा कि अगर आप पहले कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं तो वैक्सीन जरूर लगवा लें. वैक्सीन लगवाना अपनी और अपने आसपास के लोगों की सुरक्षा का सबसे बेहतर तरीका है और विशेष तौर पर यह इसलिए भी जरूरी है क्योंकि देश में कोरोना वायरस का डेल्टा वैरिएंट तेजी से फैल रहा है.

    दुनिया में कोरोना से हुए मौतों में 21% का इजाफा, नए केस में 8 प्रतिशत का उछाल

    नए वेरिएंट से होने वाले रीइंफेक्शन को लेकर जानकारियां अभी कम हैं. लेकिन यूएस हेल्थ अधिकारियों ने ब्रिटेन के आंकड़ों से इस बात के आसार जताए हैं कि डेल्टा वेरिएंट से दोबारा संक्रमित होने का खतरा ज्यादा है. अगर आप बीते छह महीने में कोरोना से संक्रमित हुए हैं तो अल्फा वेरिएंट के मुकाबले डेल्टा से दोबारा संक्रमित होने का खतरा ज्यादा है.

    Tags: Coronavirus breaking news, Coronavirus Case in India, Coronavirus Delta Variant

    अगली ख़बर