• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • कुपोषण का शिकार हो चुके लोगों को Corona वायरस से मौत का खतरा ज्यादा

कुपोषण का शिकार हो चुके लोगों को Corona वायरस से मौत का खतरा ज्यादा

कॉन्सेप्ट इमेज.

कॉन्सेप्ट इमेज.

कैलिफोर्निया चिल्ड्रेंस हॉस्पिटल ऑफ ऑरेंज कंट्री के शोधकर्ताओं ने रिसर्च में दावा किया कि ऐसे बच्चे और वयस्क जो जीवन में कभी कुपोषण (Malnutrition) से परेशान हो चुके हैं उनमें संक्रमण हुआ तो मौत (Death) का खतरा ज्यादा है.

  • Share this:
    कैलिफोर्निया. नई रिसर्च कहती है, कुपोषण कोरोना (Corona) के रिस्क को बढ़ाता है. ऐसे बच्चे और वयस्क जो जीवन में कभी कुपोषण से परेशान हो चुके हैं उनमें संक्रमण हुआ तो मौत (Death) का खतरा ज्यादा है. इसमें संक्रमण गंभीर रूप ले सकता है और वेंटिलेटर की जरूरत पड़ सकती है. यह दावा कैलिफोर्निया चिल्ड्रेंस हॉस्पिटल ऑफ ऑरेंज कंट्री के शोधकर्ताओं ने रिसर्च में किया है. शोधकर्ताओं का कहना है, कुपोषण रोगों से लड़ने वाले इम्यून सिस्टम के काम करने की क्षमता पर बुरा असर डालता है. इसलिए जब वायरस शरीर को संक्रमित करता है तो हालत नाजुक हो सकती है. रिसर्च कहती है कि कुपोषण का असर शरीर पर लम्बे समय तक रहता है इसलिए इससे इम्यून सिस्टम भी नहीं बच पाता.

    जीवन में एक बार भी कुपोषण से जूझने 5 साल से कम उम्र के बच्चों और 18 से 78 साल के वयस्क लोगों में कोरोना के गंभीर संक्रमण का खतरा ज्यादा है. शोधकर्ताओं के मुताबिक, बच्चों और बुजुर्गों में कुपोषण एक बड़ी समस्या है, जो कोरोना के रिस्क को बढ़ाने वाली है. कुपोषण और कोरोना के कनेक्शन को समझने के लिए 8,604 बच्चों और 94,495 वयस्कों पर रिसर्च की गई. ये सभी कोरोना के संक्रमण के बाद अमेरिका के अस्पतालों में मार्च और जून में भर्ती किए गए थे. 2015 से 2019 के बीच आए कुपोषण के मरीजों से तुलना के बाद रिसर्च के नतीजे जारी किए गए हैं.

    ये भी पढ़ें: 4 घंटे से ज्यादा देखते हैं TV तो हार्वर्ड के वैज्ञानिकों की इस रिसर्च को जरूर पढ़ें

    इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूट्रीशन की 2019 में आई रिपोर्ट कहती है, राज्यों में 5 साल तक के बच्चों की मौत का सबसे बड़ा कारण कुपोषण होगा। यानी यहां कुपोषण के मामले कम नहीं है. 2017 में कुपोषण के कारण देश में पांच साल की उम्र वाले 10.4 लाख बच्चों ने दम तोड़ दिया. भूख को दूर करने में बाधा और प्रगति को समझाने वाली ग्लोबल हंगर इंडेक्स 2020 की रिपोर्ट कहती है, भूख से निपटने में भारत की स्थिति अच्छी नहीं है. यह अलार्मिंग स्टेज में है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज