Home /News /world /

mars reconnaissance orbiter mysterious cracks on the surface black blue mist

मंगल की सतह पर दिख रहीं ऐसी दरारें, क्यों निकला काला-नीला धुंआ?

नासा की टीम ने कहा कि सतह पर स्प्रे और ज़िग-ज़ैग बसंत आने के संकेतों में से एक हैं. (AP)

नासा की टीम ने कहा कि सतह पर स्प्रे और ज़िग-ज़ैग बसंत आने के संकेतों में से एक हैं. (AP)

फोटो में दिख रहा है कि मंगल की सतह पर सफेद दाग जैसे पैचवर्क हैं. कई बार इनसे काला और नीले रंग का धुंध भी निकलता है. वैज्ञानिकों का कहना है कि मंगल की सतह पर ये बर्फ है. बर्फ अब मौसम में बदलाव के साथ गैस बन रही है.

वॉशिंगटन. हमारे सौर मंडल में लाल ग्रह यानी मंगल (MARS) हमेशा से आकर्षित करता रहा है. इंसान इस ग्रह पर जाकर जीवन की शुरुआत करना चाहता है. इसी बीच अमेरिका की स्पेस एजेंसी NASA की एक सैटेलाइट ने मंगल ग्रह की तस्वीर खींची है, जिससे एक रहस्यमय घटना सामने आई है. मंगल ग्रह पर ठंड का मौसम खत्म हो रहा है और बसंत का महीना आ रहा है. ऐसे में वहां सतह पर कई तरह के निशान देखने को मिले हैं.

अब तक की गई रिसर्च के मुताबिक, मंगल ग्रह पर चार ऋतुएं होती हैं. ये ऋतुएं पृथ्वी की तुलना में लगभग दोगुनी होती हैं. यहां बसंत 190 दिनों तक रहता है जो पृथ्वी का दोगुना है. फोटो में दिख रहा है कि मंगल की सतह पर सफेद दाग जैसे पैचवर्क हैं. कई बार इनसे काला और नीले रंग का धुंध भी निकलता है. वैज्ञानिकों का कहना है कि मंगल की सतह पर ये बर्फ है. बर्फ अब मौसम में बदलाव के साथ गैस बन रही है.

चीन के स्पेसक्राफ्ट ने 1344 चक्कर लगाकर खींची मंगल की खूबसूरत तस्वीरें

मिट्टी में जमा बर्फ के कारण बनीं दरारें
एरिज़ोना यूनिवर्सिटी मंगल ग्रह की कक्षा में इस यान के ऑर्बिट को मैनेज करता है. यूनिवर्सिटी की ओर से कहा गया, ‘कई भुजाओं वाले ये पैच मिट्टी में जमे हुए बर्फ का परिणाम हैं जो अब अलग हो रही है. बसंत ऋतु आते ही इन भुजाओं में दरारें आने लगती हैं, क्योंकि पानी गैस बन रहा होता है. इस प्रक्रिया को सब्लिमेशन (Sublimation) कहते हैं.’

लैंडिंग साइट खोजेगा ऑर्बिटर
टीम ने कहा कि सतह पर स्प्रे और ज़िग-ज़ैग बसंत आने के संकेतों में से एक हैं. अंतरिक्ष यान ने इसके अलावा लाइट टोन वाले आउटक्रॉप को भी कैप्चर किया है, जिनमें क्लोराइड जमा दिख रहे हैं. NASA की रिकॉनिसेंस ऑर्बिटर के हाई रेजिल्यूशन कैमरे ने इन तस्वीरों को खींचा है. 2005 में इस ऑर्बिटर को मंगल के लिए लॉन्च किया गया था. ये सबसे बेहतर कैमरों में से एक है. इस ऑर्बिटर की ही मदद से भविष्य की लैंडिंग साइट के चुनाव में मदद मिलेगी.

Tags: International Space Station, Mars, Science, Science news, Space Exploration, Space tourism

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर