• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • 23000 साल पुराने पैरों के निशान ने बताई अपनी कहानी, हैरत में वैज्ञानिक, बदल जाएगा अमेरिका का इतिहास!

23000 साल पुराने पैरों के निशान ने बताई अपनी कहानी, हैरत में वैज्ञानिक, बदल जाएगा अमेरिका का इतिहास!

होमो सेपियंस इससे भी पहले यानी 23 हजार साल पहले ही पहुंच चुके थे.

होमो सेपियंस इससे भी पहले यानी 23 हजार साल पहले ही पहुंच चुके थे.

अभी तक माना जाता रहा है कि अमेरिकी महाद्वीप में इंसान सबसे पहले 13 हजार से 16 हजार साल पहले पहुंचे थे, लेकिन इस नई खोज से मालूम चलता है कि होमो सेपियंस इससे भी पहले यानी 23 हजार साल पहले ही पहुंच चुके थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    न्यू मैक्सिकाे. मानव इतिहास में उत्पत्ति को लेकर कई तरह खोजें वैज्ञानिक करते रहे हैं. इसमें सबसे ज्यादा एक महाद्वीप से दूसरे महाद्वीप के बीच इंसानों के पलायन को लेकर खोजें अब भी जारी हैं. हाल ही में अमेरिका (US) के न्यू मैक्सिको (New Mexico) में खोजे गए जीवाश्म वाले पैरों के निशान (Fossilised footprints) से संकेत मिलता है कि शुरुआती इंसान लगभग 23,000 साल पहले उत्तरी अमेरिका (North America) में घूमते थे.

    दरअसल, अभी तक माना जाता रहा है कि अमेरिकी महाद्वीप में इंसान सबसे पहले 13 हजार से 16 हजार साल पहले पहुंचे थे, लेकिन इस नई खोज से मालूम चलता है कि होमो सेपियंस इससे भी पहले यानी 23 हजार साल पहले ही पहुंच चुके थे. अब इस खोज को एक बड़ी पुरातत्व उपलब्धि माना जा रहा है. बोर्नमाउथ यूनिवर्सिटी (Bournemouth University) ने इसकी जानकारी साझा की है.

    एपी की रिपोर्ट के मुताबिक, ब्रिटेन और अमेरिका के पुरातत्वविदों ने अलकाली फ्लैट (Alkali Flat) नाम की सूखी हुई झील में इंसानी पैरों के निशान के आधार पर यह खोज की है. न्यू मेक्सिको के वाइट सैंड्स नेशनल पार्क में ये निशान मिट्टी में मिले. अमेरिकी जियोलॉजिकल सर्वे के एक्सपर्ट्स ने रेडियोकार्बन डेटिंग की मदद से ट्रैक के ऊपर और नीचे की परतों की स्टडी की और पाया कि करीब दो हजार साल के दौरान यहां पैरों के निशान बने.

    सबसे पुराने ट्रैक 23 हजार साल पहले के हैं. इस दौरान उत्तरी अमेरिका का ज्यादातर हिस्सा बर्फ से ढका हुआ था और समुद्रस्तर आज की तुलना में 400 फीट कम था. अभी तक माना जाता था कि उत्तरी अमेरिका की बर्फ पिघलने के बाद अब से करीब 13 हजार से 16 हजार साल पहले के बीच इंसान यहां पहुंचा था.

    2000 सालों तक इंसानों का ठिकाना था इलाका
    व्हाइट सैंड्स अब ज्यादातर एक रेगिस्तानी इलाका है. लेकिन जिस समय पैरों के निशान बनाए गए थे, उस समय ये इलाका पानी की बड़ी मौजूदगी वाला क्षेत्र था. यहां पर मैमथ, ग्राउंड स्लॉथ, मवेशी और जंगली ऊंटों का घर हुआ करता था. उस समय पाषाण युग के इंसानों द्वारा इन जानवरों का शिकार किया जाता था. कॉर्नेल विश्वविद्यालय के थॉमस अर्बन ने कहा कि पैरों के निशान जानवरों के जाने वाले रास्तों से जुड़े हुए हैं. इससे ये पता चलता है कि यहां पर इंसान कम से कम 2000 साल तक रहा करते होंगे.

    oldest human footprints north america new research

    व्हाइट सैंड्स अब ज्यादातर एक रेगिस्तानी इलाका है. लेकिन जिस समय पैरों के निशान बनाए गए थे, उस समय ये इलाका पानी की बड़ी मौजूदगी वाला क्षेत्र था.

    रिसर्च ने साबित है इंसान की मौजूदगी
    अधिकतर वैज्ञानिकों का मानना है कि प्राचीन समय में इंसानों का प्रवास एक जमीनी पुल के जरिए हुआ होगा. ये पुल अब पानी में डूब चुका है. उनका मानना है कि जमीनी पुल एशिया को अलास्का से जोड़ता होगा. पत्थर के औजारों, जीवाश्म हड्डियों और जेनेटिक एनालिसिस जैसे चीजों के आधार पर रिसर्चर्स ने अमेरिका में इंसानों के प्रवास को लेकर संभावित तारीखों की जानकारी दी है. उनका कहना है कि अमेरिका में 13,000 से 26,000 साल पहले या उससे अधिक समय पहले इंसानों का आगमन हुआ था. वर्तमान अध्ययन एक अधिक ठोस आधार रेखा मुहैया करता है कि इंसान उत्तर अमेरिका में मौजूद थे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज