Home /News /world /

सूअर की किडनी को मानव शरीर से जोड़ा, करने लगी काम, वैज्ञानिकों का सबसे बड़ा चमत्कार

सूअर की किडनी को मानव शरीर से जोड़ा, करने लगी काम, वैज्ञानिकों का सबसे बड़ा चमत्कार

एनवाईयू लैंगन हेल्थ सेंटर (NYU) में डॉक्टरों की एक विशेषज्ञ टीम ने इस सर्जरी अंजाम दिया.

एनवाईयू लैंगन हेल्थ सेंटर (NYU) में डॉक्टरों की एक विशेषज्ञ टीम ने इस सर्जरी अंजाम दिया.

न्यूयॉर्क सिटी में स्थित एनवाईयू लैंगन हेल्थ सेंटर (NYU) में डॉक्टरों की एक विशेषज्ञ टीम ने इस सर्जरी (Pig's kidney to human body) अंजाम दिया. इस सर्जरी को बेहद चरणबद्ध तरीके से किया गया है. इसकी तैयारी भी काफी ठोस तरीके से की गई थी.

अधिक पढ़ें ...

    न्यूयॉर्क. अमेरिका में वैज्ञानिकों (Scientists) ने अस्थाई रूप से एक सूअर की किडनी को मानव शरीर से (Pig’s kidney to human body) जोड़ने में सफलता हासिल की है. इतना ही नहीं, यह किडनी ठीक से काम भी कर रही है. वैज्ञानिकों के इस ट्रांसप्लांट (Transplant) को बड़ी खोजों में से एक देखा जा रहा है. इससे भविष्य में जानवरों के अंगों (Animal organs) का मानव शरीर में इस्तेमाल कर जानें बचाए जाने की संभावना बढ़ी है. हालांकि इस केस में विस्तृत रिपोर्ट का अभी इंतजार है.

    मामला अमेरिका के न्यूयॉर्क का है. रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, न्यूयॉर्क सिटी में स्थित एनवाईयू लैंगन हेल्थ सेंटर (NYU) में डॉक्टरों की एक विशेषज्ञ टीम ने इस सर्जरी अंजाम दिया. इस सर्जरी को बेहद चरणबद्ध तरीके से किया गया है. इसकी तैयारी भी काफी ठोस तरीके से की गई थी. किडनी ट्रांसप्लांट से पहले सूअर के जीन को बदल दिया गया था, ताकि मानव शरीर उसके अंग को तत्काल खारिज न कर पाएं.

    रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रांसप्लांट की यह प्रक्रिया एक ब्रेन डेड हो चुके पेशेंट पर की गई. पेशेंट की किडनी ने काम करना बंद कर दिया था, लेकिन उसे लाइफ सपोर्ट से हटाने से पहले डॉक्टरों ने उनके परिवारों से इस टेस्ट की अनुमति मांगी थी, जिसके बाद उन्होंने यह प्रयोग किया. तीन दिन तक सूअर की किडनी ब्रेन डेड मरीज की रक्त वाहिकाओं से जुड़ा हुआ था. किडनी को शरीर के बाहर ही रखा गया था.

    डॉक्टरों ने ट्रांसप्लांट की इस पूरी प्रकिया को सामान्य करार दिया है. ऐसा पहली बार हुआ है जब मानव शरीर में किसी दूसरे प्राणी की किडनी का सफल ट्रांसप्लांट किया गया है. हालांकि, इससे पहले भी कई तरह के परीक्षण हो चुके हैं, लेकिन हर बार प्रत्यारोपण असफल रहा. अमेरिकी डॉक्टरों की यह कामयाबी किडनी ट्रांसप्लांट की दिशा में वरदान साबित हो सकती है.

    रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र है कि एक किडनी ट्रांसप्लांट कराने के लिए औसतन करीब 3 से 5 साल का इंतजार करना पड़ता है. दुनियाभर में एक लाख से ज्यादा लोग ऑर्गन ट्रांसप्लांट का इंतजार कर रहे हैं. इसमें भी करीब 90 हजार ऐसे लोग हैं, जो सिर्फ किडनी ट्रांसप्लांट कराना चाहते हैं.

    Tags: Kidney transplant, Medical, Pig, Science, Science facts, Science news, World news, World news in hindi

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर