ट्रंप को ईरान का जवाब, कहा- हज़ारों साल से हम सिर उठा कर खड़े हैं, बर्बाद करने की धमकी मत देना

जरीफ ने ट्विटर पर लिखा कि ईरानी हजारों साल से सिर ऊंचा करके खड़े हैं जबकि सारे हमलावरों का नामोनिशान मिट चुका है. आर्थिक आतंकवाद और नरसंहार के तंज से ईरान का अंत नहीं होने वाला है. एक ईरानी को कभी धमकी मत दें, सम्मान दीजिए, यह काम करेगा.

News18Hindi
Updated: May 21, 2019, 3:20 PM IST
ट्रंप को ईरान का जवाब, कहा- हज़ारों साल से हम सिर उठा कर खड़े हैं, बर्बाद करने की धमकी मत देना
जरीफ ने ट्विटर पर लिखा कि ईरानी हजारों साल से सिर ऊंचा करके खड़े हैं जबकि सारे हमलावरों का नामोनिशान मिट चुका है. आर्थिक आतंकवाद और नरसंहार के तंज से ईरान का अंत नहीं होने वाला है. एक ईरानी को कभी धमकी मत दें, सम्मान दीजिए, यह काम करेगा.
News18Hindi
Updated: May 21, 2019, 3:20 PM IST
अमेरिका और ईरान के बीच तनाव लगातार बढ़ता जा रहा है. दोनों देशों के बीच शुरू हुई तनातनी थमने का नाम नहीं ले रही है. आलम ये है कि दोनों देशों के राजनेता लगातार एक-दूसरे पर वार-पलटवार कर रहे हैं. ऐसे में ईरान के विदेश मंत्री जावेद जरीफ ने सोमवार को कहा है कि यूएस राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की हिंसक टिप्पणी से ईरान खत्म नहीं हो जाएगा.

जरीफ ने ट्विटर पर लिखा कि ईरानी हजारों साल से सिर ऊंचा करके खड़े हैं जबकि सारे हमलावरों का नामोनिशान मिट चुका है. आर्थिक आतंकवाद और नरसंहार के तंज से ईरान खत्म नहीं होने वाला है. एक ईरानी को कभी धमकी मत दें, सम्मान दीजिए, यह काम करेगा.



ट्रंप की कड़ी चेतावनी

जरीफ का ये बयान तब आया है जब ट्रंप ने ईरान को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा कि अगर उसने अमेरिका के हितों पर हमला किया तो उसे तबाह कर दिया जाएगा. डोनाल्ड ट्रंप ने रविवार को ट्वीट किया कि अगर ईरान लड़ाई चाहता है तो उसका आधिकारिक तौर पर अंत हो जाएगा. संयुक्त राज्य को फिर कभी धमकी देने की कोशिश मत करना.

अमेरिका ने भेजा विमानवाहक पोत

बता दें अमेरिका और ईरान के बीच तनाव की स्थिति तब और बढ़ गई जब अमेरिका ने ईरान के खिलाफ फारस की खाड़ी में अपने विमानवाहक पोत भेज दिए. इस महीने की शुरुआत में अमेरिका ने ईरान से खतरों के मद्देनजर खाड़ी में एक विमानवाहक पोत और बी-52 बमवर्षक तैनात किए हैं.

इसके बाद सऊदी अरब समेत गल्फ कोऑपरेशन काउंसिल ने अमेरिका के अनुरोध को स्वीकार करते हुए अरेबियन गल्फ में और सैनिकों की तैनाती को मंज़ूरी दे दी थी.
Loading...

ईरान नहीं चाहता जंग

इससे पहले ज़रीफ ने अपनी चीन की यात्रा के अंत में शनिवार को कहा था, हम इस बात को लेकर निश्चित हैं. कोई युद्ध नहीं होगा क्योंकि न तो हम जंग चाहते हैं और न ही किसी को इस बात का भ्रम है कि वह क्षेत्र में ईरान का सामना कर सकता है.

ये भी पढ़ें--

क्राइस्टचर्च के हमलावर पर लगाए गए आतंकवाद के आरोप

इथियोपिया में आयोजित हुआ दुनिया का सबसे महंगा डिनर, हर शख्स को चुकाने पड़े 1 करोड़ साढ़े 21 लाख रुपये

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...