लाइव टीवी

विमान को दुर्घटनावश गिराने की बात को कभी छुपाने की कोशिश नहीं की गई: ईरान

भाषा
Updated: January 13, 2020, 6:54 PM IST
विमान को दुर्घटनावश गिराने की बात को कभी छुपाने की कोशिश नहीं की गई: ईरान
इस हादसे में विमान में सवार सभी 176 लोगों की मौत हो गई थी

ईरान (Iran) ने अमेरिकी खुफिया जानकारी पर आधारित पश्चिमी देशों के उन दावों से पहले इनकार किया था कि यात्री विमान मिसाइल लगने से गिरा था, हालांकि शनिवार को उसने यह बात स्वीकार की.

  • Share this:
तेहरान. ईरान (Iran) की सरकार ने सोमवार को कहा कि यूक्रेन (Ukraine) के विमान को दुर्घटनावश मिसाइल से गिराए जाने की घटना को कभी छुपाने की कोशिश नहीं की गई. इस हादसे के बाद अधिकारियों के खिलाफ तेहरान (Tehran) में लगातार दूसरी रात प्रदर्शन के सिलसिले के बाद यह टिप्पणी आई है. सोशल मीडिया (Social Media) में साझा किये गए वीडियो के मुताबिक लोग सड़कों पर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे.

इस्लामिक गणराज्य ने अमेरिकी खुफिया जानकारी पर आधारित पश्चिमी देशों के उन दावों से पहले इनकार किया था कि यात्री विमान मिसाइल लगने से गिरा था, हालांकि शनिवार को उसने यह बात स्वीकार की.

सरकार की प्रवक्ता ने कही ये बात
सरकार के प्रवक्ता अली रबेई ने कहा, 'इन दुख के दिनों में, संबंधित अधिकारियों की काफी आलोचना हो रही है.... कुछ अधिकारियों पर झूठ बोलने और घटना को छुपाने के आरोप भी लगे.. लेकिन ईमानदारी से कहें तो ऐसा कुछ नहीं है.' सरकारी टेलीविजन पर उनका यह बयान प्रसारित किया गया.

उन्होंने कहा, 'झूठ इरादतन होता है और जानते बूझते सच न बोलना होता है. झूठ किसी चीज को छिपाना है. झूठ किसी तथ्य को जानना और उसे व्यक्त न करना या सच को तोड़-मरोड़कर पेश करना है.' शनिवार से पहले अधिकारियों द्वारा दी गई सभी जानकारी उन सूचनाओं पर आधारित थीं जो उस वक्त उनके पास उपलब्ध थीं.

प्लेन में सवार थे इन देशों के लोग
इस हादसे में विमान में सवार सभी 176 लोगों की मौत हो गई थी. इनमें से अधिकतर ईरानी और कनाडाई थे, जिनमें से कुछ के पास दोहरी नागरिकता थी. हादसे में मारे गए दूसरे लोग यूक्रेन, अफगानिस्तान, ब्रिटेन, स्वीडन और यूरोपीय संघ के सदस्य देशों के थे.राष्ट्रपति हसन रुहानी के दफ्तर के मुताबिक उन्होंने रविवार रात स्वीडन के प्रधानमंत्री स्टीफन लॉफवेन के साथ टेलीफोन पर बातचीत में हादसे की व्यापक जांच कराने का वादा किया है. उनके कार्यालय ने यह जानकारी दी है.

सरकारी वेबसाइट पर बयान में रुहानी को उद्धृत करते हुए कहा गया, 'हमें निश्चित रूप से यह सुनिश्चित करने का प्रयास करना चाहिए कि स्तब्ध करने वाली ऐसी दुर्घटनाएं दुनिया में कहीं और दोहराई न जाएं.'

ये भी पढ़ें-
इस्लामाबाद में मंदिर की मांग तेज, हिंदू समुदाय ने इमरान खान से की मदद की अपील

सेना की एक 'चूक' ने अयातुल्ला खामनेई को ईरान का दुश्मन बना दिया!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 13, 2020, 6:54 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर