चाबहार प्रोजेक्ट के लिए ईरान ने पाक और चीन को दिया न्यौता!

ईरान ने ये भी कहा है कि चाबहार से ग्वादर पोर्ट के बीच लिंक के विकास के लिए भी पाकिस्तान आगे आए.


Updated: March 14, 2018, 10:37 AM IST
चाबहार प्रोजेक्ट के लिए ईरान ने पाक और चीन को दिया न्यौता!
ईरान के विदेश मंत्री जावेद ज़रीफ

Updated: March 14, 2018, 10:37 AM IST
चाबहार प्रोजेक्ट को लेकर अपनी विदेश नीति में बड़ा परिवर्तन करते हुए ईरान ने इस प्रोजेक्ट में भागीदारी निभाने के लिए पाकिस्तान को न्यौता दिया है. पाक मीडिया का दावा है कि ईरान ने इस प्रोजेक्ट में शामिल होने के लिए पाकिस्तान व चीन को प्रस्ताव दिया है. यह पोर्ट अफगानिस्तान, मध्य एशिया व पूर्वी यूरोप को जोड़ता है. 2016 में भारत, अफगानिस्तान व ईरान ने चाबहार पोर्ट प्रोजेक्ट पर एग्रीमेंट किया था.

पाकिस्तान के 'डॉन' अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक ईरान के विदेश मंत्री जवाद ज़रीफ ने सोमवार को पाक और चीन को चाबहार सीपोर्ट प्रोजेक्ट में शामिल होने का न्योता दिया. इतना ही नहीं, ईरान ने चाबहार से ग्वादर पोर्ट के बीच लिंक के विकास के लिए भी पाकिस्तान आगे आने को कहा. जरीफ 3 दिनों के लिए पाकिस्तान के दौरे पर हैं दरअसल, ज़रीफ ईरानी पोर्ट में भारत के शामिल होने को लेकर जताई गई पाकिस्तान की चिंताओं को दूर करना चाहते हैं.

डॉन के मुताबिक ज़रीफ ने इस्लामाबाद में 'इंस्टिट्यूट ऑफ स्ट्रैटिजिक स्टडीज' में एक लेक्चर के दौरान कहा, 'हमने चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (CPEC) में शामिल होने की बात कही है. इसके साथ ही हमने पाकिस्तान और चीन को भी चाबहार में शामिल होने का ऑफर दिया है.' गौरतलब है कि चाबहार को भारत और ईरान के संबंधों में काफी महत्त्वपूर्ण फैक्टर माना जा रहा है. दक्षिण-पूर्व ईरान में भारत द्वारा विकसित किए जा रहे चाबहार पोर्ट के पहले फेज का उद्घाटन पिछले साल दिसंबर में किया गया था.

इस रूट का सबसे बड़ा फायदा भारत को व्यापार को लेकर होने वाला है. क्योंकि इस रूट के माध्यम से कम समय व कम खर्च में अफगानिस्तान, ईरान व दूसरे मध्य एशिया के देशों तक पाकिस्तान को बाईपास करके पहुंच बन जायेगी. दरअसल, अब तक पाकिस्तान इन दोनों देशों के साथ ट्रेड के लिए नई दिल्ली को रास्ता देने से मना करता रहा है.

ईरान के विदेश मंत्री का यह बयान भारत की चिंता को बढ़ाने वाला है. ईरान की समाचार एजेंसी मेहर न्यूज के मुताबिक ज़रीफ ने कहा कि ईरान के भारत के साथ संबंधों का पाकिस्तान व ईरान के संबंधों पर नकारात्मक असर नहीं पड़ेगा. उन्होंने आगे कहा कि पाकिस्तान में ग्वादर पोर्ट सिटी और चाबहार ट्रांजिट एग्रीमेंट (भारत, ईरान और अफगानिस्तान के बीच) एक-दूसे के पूरक हैं, प्रतिस्पर्धी नहीं.

ये भी पढ़ेंः
चाबहार पर चीन ने साधी चुप्पी, कहा- क्षेत्रीय शांति में योगदान करेगा नया बंदरगाह
भारत की ताकत, पाक की परेशानी का सबब- पढ़ें चाबहार पोर्ट की 10 ख़ास बातें


 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर