ईरान में नमाज़ के लिए दोबारा खोली जा सकती हैं मस्जिदें लेकिन चुनिंदा जगहों पर

ईरान में नमाज़ के लिए दोबारा खोली जा सकती हैं मस्जिदें लेकिन चुनिंदा जगहों पर
ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने लोगों से हेल्थ प्रोटोकॉल का पालन करने की अपील की है.

राष्ट्रपति हसन रूहानी (Hasan Ruhani) ने बताया कि ईरान (Iran) को व्हाइट, येलो और रेड, तीन लेबल में बांटा जाएगा

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 26, 2020, 10:13 PM IST
  • Share this:
ईरान (Iran) में कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से बंद की गई मस्जिदों (Mosques) में फिर से नमाज़ पढ़ी जा सकेगी. ईरान सरकार बंद मस्जिदों को फिर से खोलने की योजना बना रहा है. लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से देश की मस्जिदों में नमाज़ पढ़ने पर प्रतिबंध लगा हुआ है. लेकिन अब ईरान सरकार ऐसे इलाकों को चिन्हित कर रही हैं जो लगातार कोरोना वायरस के संक्रमण से मुक्त रहे और वहां अब तक कोरोना से कोई मौत न हुई हो. ऐसे इलाकों को व्हाइट लेबल दिया जाएगा और वहां  शुक्रवार की नमाज़ पढ़ने की शुरुआत हो सकती है.

मिडिल ईस्ट देशों में ईरान सबसे ज्यादा कोरोना से प्रभावित हुआ है. ईरान में कोरोनावायरस के संक्रमण के मामले बड़ी तेजी से सामने आए थे. जिस वजह से संक्रमण फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन के तहत मस्जिदों में नमाज पर पाबंदी लगा दी गई थी. लेकिन अब शर्तों के साथ ईरान के राष्ट्रपति हसन रुहानी ने मस्जिदों में नमाज़ पढ़ने के प्रतिबंध पर ढील देने का संकेत दिया है.

राष्ट्रपति हसन रूहानी ने बताया कि ईरान को व्हाइट, येलो और रेड लेबल में बांटा जाएगा. इन इलाकों को कोरोना संक्रमण और मौत के आंकड़ों के आधार पर बांटा जाएगा और लेबल दिया जाएगा. व्हाइट लेबल के तहत वो इलाके आएंगे जहां अब तक कोरोना संक्रमण का न तो कोई मामला सामने आया हो और न ही किसी की मौत हुई हो. ऐसे इलाकों में शुक्रवार की नमाज़ के साथ मस्जिदों को फिर से शुरू किया जा सकता है.



वहीं दूसरी तमाम गतिविधियों पर अंकुश भी इसी आधार पर जारी रहेगा. साथ ही राष्ट्रपति हसन रूहानी ने बताया कि क्षेत्रों की कलर-कोडिंग जरूरत के हिसाब से बदली भी जा सकती है. हालांकि उन्होंने ये नहीं बताया कि कलर कोडिंग सिस्टम कब से लागू होगा.
ईरान में कोरोना कहर के बाद से अब धीरे-धीरे रोज़मर्रा की ज़िंदगी पटरी पर लौट रही है. इसकी बड़ी वजह ये है कि ईरान में संक्रमण से मौत के मामलों में लगातार कमी देखने को मिल रही है. 14 अप्रैल के बाद से ही ईरान में रोज़ होने वाली मौत की तादाद 100 से कम रहने लगी है. जिस वजह से लॉकडाउन में हल्की रियायत दी जाने लगी है. ईरान के बाज़ारों में पिछले हफ्ते से रौनक देखने को मिलने लगी है. प्रतिबंध में छूट मिलने के बाद लोग दुकानों, बाज़ार और पार्क जैसे सार्वजनिक स्थल का रुख करते दिख रहे हैं.

ईरान में पिछले 24 घंटों में 60 लोगों की मौत से आंकड़ा 5710 पहुंच गया है जबकि 90481 कुल संक्रमित मामले अब तक दर्ज हुए हैं. कोरोना महामारी और अमेरिकी प्रतिबंधों से प्रभावित हुई अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए ईरान सरकार ने दूसरे देशों की तरह शहरों में पूर्ण लॉकडाउन से बचने की कोशिश की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज