अमेरिका पहले प्रतिबंध हटाए फिर होगी बातचीत: ईरान

भाषा
Updated: August 29, 2019, 6:18 PM IST
अमेरिका पहले प्रतिबंध हटाए फिर होगी बातचीत: ईरान
ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने कहा है कि बातचीत के लिए अमेरिका को पहले प्रतिबंधों को हटाने की जरूरत है.

ईरान (Iran) के राष्ट्रपति हसन रूहानी (Hassan Rouhani) ने कहा है कि अमेरिका (America) को पहले प्रतिबंधों को हटाने की जरूरत है. विदेश मंत्री मोहम्मद जावद जरीफ ने भी इस संदेश को दोहराया है.

  • Share this:
ईरान (Iran) के विदेश मंत्री जावद जरीफ (Javad Zarif) ने गुरुवार को कहा कि अगर अमेरिका (America), ईरान के साथ वार्ता करना चाहता है तो उसे आवश्यक रूप से ऐतिहासिक परमाणु समझौते (Nuclear Deal) का अनुपालन करना होगा और उसके खिलाफ 'आर्थिक आतंकवाद' को रोकना होगा.

पिछले साल से ईरान और अमेरिका के बीच तीखी तकरार चल रही है, जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने 2015 के इस समझौते से वाशिंगटन को एकपक्षीय तरीके से बाहर कर लिया था. गौरतलब है कि इस समझौते के तहत ईरान को उसके परमाणु कार्यक्रम पर रोक के एवज में प्रतिबंधों से राहत दी गई थी.

ट्रंप ने सोमवार को कहा कि वह ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी से कुछ हफ्तों में मिलने को तैयार हैं. फ्रांस के तटीय शहर बियारित्ज में जी 7 शिखर सम्मेलन के दौरान यह घोषणा की गई थी. जावद जरीफ भी फ्रांस गए थे और उन्होंने जी 7 शिखर सम्मेलन से इतर बैठकें की थी.

पहले प्रतिबंध हटाए अमेरिका

हालांकि, रूहानी ने कहा है कि अमेरिका को पहले प्रतिबंधों को हटाने की जरूरत है. विदेश मंत्री मोहम्मद जावद जरीफ ने भी इस संदेश को दोहराया है. ईरान के विदेश मंत्री जावद जरीफ ने मलेशिया की अपनी यात्रा पर संवाददाताओं से कहा, "अमेरिका ईरानी अवाम के खिलाफ आर्थिक युद्ध कर रहा है और हमारे लिए वाशिंगटन से बात करना तब तक संभव नहीं होगा, जब तक कि वे ईरानियों पर युद्ध थोपना बंद नहीं करते और ईरान के लोगों के खिलाफ आर्थिक आतंकवाद नहीं रोकते."

उन्होंने कहा, "हमने अमेरिका से लंबी बात की, हम एक समझौते पर पहुंचे और उन्हें समझौते को लागू करने की जरूरत है जो हमारे बीच हुआ था, इसके बाद ही वे आगे की वार्ता की उम्मीद करें."

अमेरिका को करना होगा समझौते का अनुपालन
Loading...

जावद जरीफ ने कहा कि ईरान इस समझौते में शामिल विश्व की अन्य शक्तियों से वार्ता कर रहा है. यदि अमेरिका इसमें लौटना चाहता है तो उसे समझौते का अनुपालन करना होगा. अमेरिकी रक्षा मंत्रा मार्क एस्पर ने खाड़ी क्षेत्र में तनाव दूर करने के लिए बुधवार को ईरान से वार्ता की अपील की थी. उन्होंने कहा, "हम ईरान के साथ संघर्ष नहीं चाहते हैं. हम उनसे कूटनीतिक वार्ता चाहते हैं."

ये भी पढ़ें: अमेरिका में एक बार फिर अलर्ट, डोनाल्ड ट्रम्प ने किया ट्वीट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 29, 2019, 6:18 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...