ईरान ने बढ़ाई इजराइल की टेंशन, दो घातक मिसाइलों का किया सफल परीक्षण

ईरान ने बढ़ाई इजराइल की टेंशन, दो घातक मिसाइलों का किया सफल परीक्षण
फोटो सौ. (ईरानी रक्षा मंत्रालय)

ईरान (Iran) ने अमेरिका (America) के साथ जारी तनाव के बीच दुनिया को पहली बार अपनी 2 नई मिसाइलों का दीदार कराया है. इन मिसाइलों का नाम ईरान के दिवंगत जनरल कासिम सुलेमानी और इराक के मिलिशिया नेता दिवंगत अबू मेहदी अल-मुहंदिस के नाम पर रखा गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 21, 2020, 6:14 PM IST
  • Share this:
तेहरान. ईरान ने शुक्रवार को दो नई मिसाइलों (News Missiles) का सफल परीक्षण किया है. करीब 1400 किलोमीटर तक मार करने में सक्षम पहली मिसाइल का नाम ईरान (Iran) ने अपने शीर्ष कमांडर के नाम पर 'शहीद कासिम सुलेमानी' रखा है. वहीं दूसरी क्रूज मिसाइल का नाम ईरान ने शहीद अबू महदी रखा है. ईरान की नेवी की इस मिसाइल की रेंज करीब 1000 किलोमीटर है. कमांडर कासिम सुलेमानी और अबू महदी की इराक में अमेरिकी मिसाइल हमले में मौत हो गई थी. इसके बाद से ही अमेरिका और ईरान के बीच तनाव अपने चरम पर है. अमेरिका लगातार ईरान से अपने मिसाइल परीक्षण को रोकने की मांग कर रहा है. अब दो नई मिसाइलों का परीक्षण करके ईरान ने अमेरिका और उसके सहयोगी देशों इजरायल, सऊदी अरब और यूएई को सख्‍त चेतावनी देने की कोशिश की है. ईरान के रक्षा मंत्री अमीर हातमी ने इन दोनों मिसाइलों के सफल परीक्षण का ऐलान किया.

इन मिसाइलों के परीक्षण की तस्‍वीरें ईरान के सरकारी टीवी चैनल पर दिखाई गई और दावा किया गया कि यह ईरान के प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाएगा. ईरान के राष्‍ट्रपति हसन रुहानी ने कहा कि ये मिसाइलें खासतौर पर क्रूज मिसाइल हमारे लिए बहुत महत्‍वपूर्ण है. हमने मात्र दो साल के अंदर इसकी रेंज को 300 से बढ़ाकर 1000 किलोमीटर तक कर लिया है जो एक बड़ी उपलब्धि है. रुहानी ने यह भी कहा कि उनके देश की सैन्‍य ताकत और मिसाइल कार्यक्रम किसी हमले से रक्षा करने के लिए है न कि हमला करने के लिए. इसके अलावा ईरान ने गुरुवार को ही अपने उन्नत ड्रोनों के लिये चौथी पीढ़ी के हल्के टर्बो-फैन इंजनों का भी अनावरण किया है. यह घोषणा ऐसे समय पर की गई है जब अमेरिका संयुक्‍त राष्‍ट्र पर ईरान के खिलाफ प्रतिबंधों को बढ़ाए जाने की मांग कर रहा है. यह प्रतिबंध इस साल अक्‍टूबर में खत्‍म होने जा रहे हैं. ट्रंप प्रशासन एक बार फिर से ईरान के खिलाफ सभी प्रतिबंधों को लगाए जाने की मांग करने जा रहा है. हालांकि अमेरिका के इस कदम का सुरक्षा परिषद के अन्‍य सदस्‍य विरोध कर रहे हैं. ईरान और अमेरिका के बीच रिश्‍तों में यह ताजा तनाव वर्ष 2018 में उस समय शुरू हुआ जब ट्रंप ईरान के साथ डील से हट गए थे और दोबारा प्रतिबंध लगा द‍िया था.

ये भी पढ़ें: बाइडेन का वो मुंबई वाला रिश्तेदार, जिसके सहारे भारत में लड़ना चाहते थे चुनाव



इजराइल और यूएई दोनों का सबसे बड़ा शत्रु ईरान
ईरान ने इन म‍िसाइलों का परीक्षण इजरायल और यूएई के बीच शांति डील के बाद किया है. इजराइल और यूएई दोनों का सबसे बड़ा शत्रु ईरान है. ईरान ने नई मिसाइलों का परीक्षण करके अपनी बढ़ती क्षमता का दुनिया के सामने प्रदर्शन किया है. इन मिसाइलों की बढ़ती क्षमता से पश्चिम एशिया में समुद्र और जमीन दोनों पर ही हमला करने की ईरानी ताकत बढ़ गई है. रक्षा विशेषज्ञों का कहना है कि इजराइल और यूएई ने ईरान के बढ़ते खतरे को देखते हुए साथ आने का फैसला किया है. ईरान और चीन के बीच बड़ी डील हुई है. चीन और ईरान के इस गठजोड़ का जवाब देने के लिए यूएई ने इजराइल से हाथ‍ मिलाया है. इजराइल की अब यूएई और सऊदी अरब को काफी जरूरत पड़ रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज