ईरान की धमकी: अमेरिका के गलती करते ही सभी खाड़ी देशों में फैलेगा युद्ध, मारे जाएंगे अमेरिकी सैनिक

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के ईरान पर और प्रतिबंध लगाने की बात कहे जाने के बाद ईरान के एक वरिष्ठ मिलिट्री कमांडर ने कहा है कि खाड़ी में होने वाली कोई भी लड़ाई अनियंत्रित तरीके से बढ़ सकती है.

News18Hindi
Updated: June 23, 2019, 10:42 PM IST
ईरान की धमकी: अमेरिका के गलती करते ही सभी खाड़ी देशों में फैलेगा युद्ध, मारे जाएंगे अमेरिकी सैनिक
अमेरिकी मानवरहित ड्रोन के मार गिराए जाने के बाद अमेरिका ने ईरान पर प्रतिबंध बढ़ा दिए हैं (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: June 23, 2019, 10:42 PM IST
अमेरिका ने रविवार को कहा कि न ही ईरान और न ही किसी दूसरी विरोधी शक्ति को हमारी सावधानी और दिमाग काबू में रखकर काम करने के तरीके को हमारी कमजोरी नहीं समझना चाहिए. अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन ने कहा है कि अमेरिका ने कहा है कि ईरान पर पाबंदियों का असर हुआ है... उन्हें कभी भी परमाणु हथियार बनाने नहीं दिए जाएंगे.

वहीं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के इस इस्लामिक राष्ट्र पर और प्रतिबंध लगाने की बात कहे जाने के बाद ईरान के एक वरिष्ठ मिलिट्री कमांडर ने कहा है कि खाड़ी में होने वाली कोई भी लड़ाई अनियंत्रित तरीके से बढ़ सकती है और इससे अमेरिकी सैनिकों की जान को खतरा हो सकता है.

ईरान पर को लगातार धमका रहे हैं ट्रंप
ईरान पर और प्रतिबंध लगाने के साथ ही, ट्रंप ने शनिवार को यह भी कहा था कि हम ईरान की अर्थव्यवस्था को नियंत्रित करेंगे ताकि अमेरिका के मानवरहित ड्रोन को पिछले हफ्ते निशाना बनाने के ईरान के कदम का जवाब दिया जा सके.

ट्रंप ने यह भी कहा था कि उन्होंने अमेरिकी सैनिकों के जरिए ईरान पर एक हमले की तैयारी को इसलिए रोक दिया गया था क्योंकि अमेरिकी सुरक्षा अधिकारियों ने इस हमले में 150 लोगों के मारे जाने की आशंका जताई थी. जिसके बाद ट्रंप ने कहा था कि हम एक मानवरहित ड्रोन के बदले इतने लोगों की जान नहीं ले सकते.

ईरान ने भी आर या पार के दिए हैं संकेत
वहीं ईरान ने कहा है कि वह किसी भी ऐसी धमकी का जवाब कड़ाई से देगा. इसके अलावा रविवार को ईरान ने सेनाओं के आमने-सामने आने की बात भी कही.
Loading...

अर्धसरकारी न्यूज एजेंसी फार्स के मुताबिक ईरान के मेजर जनरल घोलामाली राशिद ने कहा, अगर इलाके में कोई लड़ाई छिड़ती है तो कोई भी देश इसके प्रभाव से बच नहीं सकेगा. इतना ही नहीं ईरान ने यह भी कहा है कि अमेरिकी सैनिकों की जान बचाने के लिए अमेरिकी सरकार को जिम्मेदारी से पेश आना चाहिए और इस इलाके में किसी गड़बड़ी से बचना चाहिए.

ईरान के परमाणु कार्यक्रम के चलते छिड़ी जंग
2015 में ईरान और छह देशों के बीच हुए समझौते के रद्द हो जाने के बाद से इस इलाके में तेजी से परिस्थितियां बिगड़ने लगी थीं. तेहरान के अपने परमाणु कार्यक्रम पर रोक लगाने के एवज में उसपर लगाए गए प्रतिबंधों को हटा लिया गया था. अमेरिका ने आरोप लगाया था कि ईरान ने अपना परमाणु कार्यक्रम पूरी तरह से बंद नहीं किया है.

यह भी पढ़ें: आतंकी वित्त पोषण को लेकर FATF ने ईरान पर बढ़ाए प्रतिबंध
First published: June 23, 2019, 9:10 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...