इंस्टाग्राम पर तस्वीरें डालना इन खूबसूरत बालाओं को पड़ा भारी, स्टिंग के बाद गिरफ्तार

इरान की मशहूर मॉडल एलनाज गोलरोख ने इंटरनेट पर अपनी हसीन तस्वीरें डाल कर ये गुनहगार करार दी गई कि इरान के धार्मिक नेता आयतुल्ला खमनेई के वफादार रिवॉल्यूशनरी गार्ड्स ने इसपर पहरा डाल दिया।

News18India
Updated: May 18, 2016, 10:51 PM IST
News18india.com
News18India
Updated: May 18, 2016, 10:51 PM IST
नई दिल्ली। इरान एक ऐसा मुल्क जो खूबसूरत बिंदास बालाओं को जहन्नुम की बलाएं बता रहा है! और उनकी खूबसूरती पर ग्रहण लगाने के लिए उसने मिशन मकड़ी! छेड़ा है। वो चेहरे जो कभी इरान की पहचान हुआ करते थे, लेकिन अब इस्लामिक सरकार के गुलाम हैं। मिशन मकड़ी पर पढ़िए ये खास रिपोर्ट--

मिशन मकड़ी की पहली शिकार: एलनाज गोलरोख

इरान की मशहूर मॉडल एलनाज गोलरोख ने इंटरनेट पर अपनी हसीन तस्वीरें डाल कर ये गुनहगार करार दी गई कि इरान के धार्मिक नेता आयतुल्ला खमनेई के वफादार रिवॉल्यूशनरी गार्ड्स ने इसपर पहरा डाल दिया। एलनाज और उसके पति हामिद फदेई को धर दबोचा। इस खूबसूरत दंपति को पूरी दुनिया में इरान के रोमियो जूलियट कहा जाता था, लेकिन दोनों की सोशल नेटवर्किंग साइट इंस्टाग्राम पर डाली गईं मॉडलिंग की तस्वीरों को इस्लाम विरोधी करार देकर इस्लाम का दुश्मन बता दिया गया। दोनों पर अदालत में केस चलता है, सजा सुनाई जाती है। शायद ताउम्र बाल ढंकने का फरमान सुना दिया जाता, लेकिन उससे पहले ही दोनों निकल भागे और दुबई में शरण ली।

इरान में हुस्न पर धड़ाधड़ केस किए जा रहे हैं। इस इस्लामिक देश की सरकार ने फैशनजादों के खिलाफ बाकायदा एक स्टिंग ऑपरेशन शुरू किया। ये स्टिंग ऑपरेशन पूरे दो साल तक चला, जिसे स्पाइडर  2  स्पाइडर यानि मकड़ी नाम दिया गया। इस मकड़ी के जाल में 170 चेहरे फंस चुके हैं। पूरी दुनिया में फैशनजादों के खिलाफ ये सबसे बड़ा स्टिंग ऑपरेशन है।

मिशन मकड़ी की पहली शिकार: एलहाम अरब

एलहाम अरब का गुनाह ये है कि इसने बिना हिजाब पहने शादी की पोशाक में तस्वीरें खिंचवाईं, मॉडलिंग की और वो तस्वीरें इंटरनेट पर आ गईं। ऐसा करना इरान की धरती पर किसी भी कीमत पर मंजूर नहीं है। इरान के स्पाइडर  2 यानि मिशन मकड़ी ने उसकी तस्वीरें उसके खिलाफ सबूत बना कर पेश कीं।  उसे गिरफ्तार कर लिया गया। रिवॉल्यूशनरी गार्ड्स की विशेष अदालत में उसे सफाई देनी पड़ी। पूछताछ के वक्त डरी सहमी एलहाम अरब ने अपने बाल काले स्कार्फ में छिपा रखे थे। एलहाम अरब पर अश्लील पश्चिमी सभ्यता को बढ़ावा देने, हिजाब न पहन कर गैर इस्लामिक हरकतें करने का इल्जाम लगा।

गिरफ्तार मॉडल एलहाम अरब के मुताबिक मैं चाहती थी कि लोगों के बीच में मैं देखी जाऊं। इरान में मॉडलिंग में अच्छा पैसा मिलता है। हर महीने एक अच्छा मॉडल करीब 2 हजार यूरो कमा लेता है। सभी लोग खूबसूरती और शोहरत चाहते हैं, वो चाहते हैं कि उन्हें देखा जाए, सराहा जाए। लेकिन ये जानना अहम है कि आखिर आपको इसकी क्या कीमत चुकानी पड़ती है।

इरान में स्पाइडर-2 यानि मिशन मकड़ी के तहत अब तक 170 लोगों को शिकंजे में लिया जा चुका है। इन सभी लोगों के इंस्टाग्राम अकाउंट पर तेहरान पुलिस की स्पेशल विंग पिछले दो सालों से नजर रख रही थी।

तेहरान के प्रॉसीक्यूटर जनरल अब्बास जाफरी दौलताबादी का कहना है कि पिछले दो सालों में हमने दो स्टिंग ऑपरेशन चलाए हैं। हमारे खुफिया विंग ने सबूत जुटाए और अदालत के कहने पर गिरफ्तारियों हुई हैं और कई इंस्टाग्राम और फेसबुक एकाउंट ब्लॉक किए गए हैं। दुश्मन हमारी संस्कृति पर हमला कर रहा है ताकि हमारे नौजवानों के दिमाग को काबू कर सके। ये लोग इंटरनेट पर हमला करते हैं और सेक्स और पैसे का लालच देते हैं।

इरान में ऐसी खूबसूरत बालाओं पर कानूनी शिकंजा कसता जा रहा है।यहां बिना हिजाब के चेहरा दिखाने के गुनाह में 8 मॉडल गिरफ्तार की जा चुकी हैं जबकि 21 के खिलाफ आपराधिक केस दर्ज किए गए हैं। कुल 170 लोगों में 58 इरानी मॉडल , 59 फोटोग्राफर और मेकअप आर्टिस्ट, 51 फैशन मैनेजर और डिजाइनर हैं जबकि 2 फैशन संस्थान हैं। एलहाम अरब, मलिका जमानी, नीलोफर बेहबूदी, डॉन्या मोगादम, डाना निक और शबनम मोलावी गिरफ्तार की गई मॉडल हैं।

इरान में साबयर क्राइम के हेड जावेद बबेई के मुताबिक हमें पता चला कि इरान में इंस्टाग्राम का इस्तेमाल करने वाले कम से कम 20 फीसदी लोग मॉडलिंग सर्किल में घुसे हुए हैं। ये लोग गैर मजहबी, गैस इस्लामिक संस्कृति को बढ़ावा देकर व्याभिचारी मानसिकता फैला रहे हैं। इरान की अदालत का ये फर्ज बनता है कि वो ऐसे लोगों को पकड़े जो ये गुनाह कर रहे हैं।

इरान ने फैशन की दो दुनियाएं देखी हैं। एक दुनिया 1979 की इस्लामिक क्रांति से पहले की जब इरान बिंदास मुल्क हुआ करता था। सड़कों पर आधुनिक और रंगीन कपड़ों में घूमती महिलाएं देखी जा सकती थीं। तेहरान को फैशन कैपिटल तक कहा जाता था और एक आज की दुनिया जिसकी नींव 1979 में पड़ी। 1979 में इरान में इस्लामिक क्रांति हुई और इस्लामिक सत्ता आई। उसी के बाद से महिलाओं के लिए काले और मटमैले रंगों के पहनावे तय कर दिए गए जबकि हिजाब के बिना उनके तस्वीरें खिंचवाने पर पाबंदी लगा दी गई।

इरानी फैशन डिजाइनर सदफ का कहना है कि साल 2000 में मैंने फैशन में काम करना शुरू किया था। उस वक्त औरतों के पहनावे बेहद सीमित थे। इस्लामिक क्रांति से पहले इरान के लोग अपने आकर्षक पहनावे के लिए जाने जाते थे। फैशन चरम पर था, लेकिन उसके बाद जैसे सबकुछ खत्म हो गया। संकुचित विचार हावी हो गए और औरतों को हिजाब और बुरके में कैद कर दिया गया।

दो-तीन सालों में डरी हुई फैशन इंडस्ट्री में मैंने अपनी एक टीम जरूर बना ली है। चाहे धार्मिक सरकार का डर हो या फिर उनके खुद के परिवारों की अस्वीकृति और शर्म हो, इरान में आज की तारीख में सेमी-प्रोफेशनल मॉडल ही मिलती हैं। वो भी अपने बायोडाटा में कुछ दिखा नहीं सकतीं हैं, कोई फोटो लगा नहीं सकती हैं।

जाहिर है अपने परमाणु हथियारों के लिए अमेरिका से झगड़ा मोल लेने वाले इस मुल्क में तालिबान और इस्लामिक स्टेट की मानसिकता तेजी से पनप रही है। जानकारों का कहना है कि इरान कट्टर विचार थोपने का काम कर रहा है, ऐसे काम अक्सर बगावत पैदा करते हैं।

इस्लाम के जानकार वदूद साजिद के मुताबिक ईरान में जो रिवोल्यूशन आया, जिसे वो इस्लामिक रिवोल्यूशन कहते हैं। जिसके बाद वहां वहां के कल्चर में, समाज और सामाजिक व्यवस्थाओं में रातों रात बदलाव हो गए। वो बहुत जल्दी और तेजी के साथ-साथ गई और वही शायद खराबी की बुनियाद है क्योंकि समाज में इस बदलाव के लिए जेहन नहीं बन पाया। समझा बुझा कर माहौल बनाकर ऐसा करते तो शायद बेहतर होता। इसकी मिसाल दूंगा कि ईरान में आप जाएं तो देखेंगे कि बहुत सारी महिलाएं बुरके में हैं। मगर बुर्के के नीचे युवतियां, लड़कियां टाइट कपड़े पहनती हैं जींस पहनती हैं जो बताता है कि बदलाव थोपा गया है।

ऑपरेशन स्पाईडर -2 अभी जारी है। नैतिकता के नाम पर तेहरान में धड़ाधड़ छापे मारे जा रहे हैं। और देश के सर्वोच्च धार्मिक नेता आयतुत्ला अली खमनेई सफाई दे रहे हैं। ये खमनेई ही थे जिन्होंने दो साल पहले मॉडलिंग पर पाबंदी हटाई थी। और अब जब वहां फैशन फैलने लगा तो ये वही खमनेई हैं जिन्होंने मिशन मकड़ी शुरू करवा कर खूबसूरत चेहरों को जेल का रास्ता दिखाया है।

और भी देखें

Updated: September 19, 2018 12:01 PM ISTVIDEO- CM ममता बनर्जी ने पियानो पर छेड़ी 'हम होंगे कामयाब' की धुन
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर