इराक के सैन्य अड्डे पर रॉकेट से हमला, 2 अमेरिकी और 1 ब्रिटिश सैनिक की मौत

इराक के सैन्य अड्डे पर रॉकेट से हमला, 2 अमेरिकी और 1 ब्रिटिश सैनिक की मौत
इराक के सैन्य ठिकानों पर रॉकेट से हमला हुआ है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

इराक (Iraq) में गठबंधन बलों की ओर से जारी बयान में कहा गया कि रॉकेट हमले में 3 सैनिकों की मौत हो गई और 12 अन्य घायल हुए हैं..

  • Share this:
बगदाद: इराक (Iraq) के एक सैन्य अड्डे (military base) पर बुधवार को रॉकेट से हमला हुआ, जिसमें दो अमेरिकी सैनिक और एक ब्रिटिश सैनिक की मौत हो गई. इस अड्डे पर विदेशी सैनिक ठहरे हुए थे. बीते कुछ वर्षों में सैन्य अड्डे पर हुआ यह सबसे बड़ा हमला है.

युद्ध पर निगरानी रखने वाली एक संस्था ने कहा कि इससे लड़ाई और बढ़ने का खतरा पैदा हो गया है. पड़ोसी सीरिया में ईरान समर्थित इराकी लड़ाकों को निशाना बनाकर कुछ हवाई हमले किए गए हैं, जिनके बारे में संदेह है कि इनके पीछे अमेरिका की अगुआई वाले गठबंधन बलों का हाथ है. बताया जा रहा है कि कम से कम 18 लड़ाके मारे गए हैं.

बुधवार शाम को बगदाद के उत्तर में स्थित ताजी हवाईअड्डे पर कई रॉकेटों से हमला किया गया. यहां अमेरिका के नेतृत्व वाले गठबंधन बलों के सैनिक ठहरे हैं, जो जिहादियों से लड़ाई में स्थानीय बलों की मदद करते हैं.



गठबंधन बलों की ओर से जारी बयान में कहा गया कि इसके तीन सैनिकों की मौत हो गई और 12 अन्य घायल हो गए. हालांकि इसमें यह नहीं बताया गया है कि मारे गए सैनिक किन देशों के हैं.
हालांकि एक अमेरिकी अधिकारी ने एएफपी को बताया कि मारे गए सैनिकों में दो अमेरिकी और एक ब्रिटेन का सैनिक है. इराक की सेना ने कहा कि रॉकेट एक ट्रक से दागे गए.

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो और ब्रिटेन के विदेश मंत्री डोमिनिक राब ने टेलीफोन पर बातचीत में हमले की निंदा की. अमेरिकी विदेश विभाग ने एक वक्तव्य में कहा कि दोनों नेताओं ने इस बात को रेखांकित किया है कि हमलों के पीछे जिसका भी हाथ होगा उसे जवाब दिया जाएगा.

अब तक हमले की जिम्मेदारी किसी ने नहीं ली है. लेकिन वाशिंगटन ने ईरान से समर्थन प्राप्त इराक के हाशेद अल शाबी के धड़ों को जिम्मेदार ठहराया है. पिछले वर्ष अक्टूबर से इराक में अमेरिकी प्रतिष्ठानों को निशाना बनाकर किया गया यह 22वां हमला है.

सीरियाई ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स ने कहा कि इस हमले के कुछ ही घंटों के भीतर तीन युद्धक विमान जो शायद अमेरिका के नेतृत्व वाले गठबंधन से थे, उनके द्वारा इराक की सीमा से सटे सीरिया के क्षेत्र में हाशेद बल पर बम बरसाए गए. इसमें कम से कम 18 इराकी लड़ाके मारे गए.

ये भी पढ़ें:

कम हुई ट्रंप की मिलिट्री पावर, ईरान पर हमले से पहले लेनी होगी मंजूरी

जहां से फैला कोरोना वायरस, अब वहीं हुए संक्रमण के सबसे कम मामले

क्या ट्रंप के दोबारा राष्ट्रपति चुने जाने में सबसे बड़ा रोड़ा है कोरोना वायरस

कोरोना वायरस पर कॉन्फ्रेंस कोरोना वायरस की वजह से ही कैंसिल
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading