Home /News /world /

अमेरिका में 9/11 हमले और कोरोना का है कोई संबंध? जानें क्या कहती है कॉन्सपिरेसी थ्योरी

अमेरिका में 9/11 हमले और कोरोना का है कोई संबंध? जानें क्या कहती है कॉन्सपिरेसी थ्योरी

अमेरिका में 9/11 हमले की एक फाइल फोटो

अमेरिका में 9/11 हमले की एक फाइल फोटो

कुछ लोगों का एक समूह मानने को तैयार नहीं है कि 9/11 हमला अल क़ायदा का किया धरा है, बल्कि वह इसके लिए अमेरिकी सरकार को जिम्मेदार मानते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    वॉशिंगटन. हेथर बउर के लिए 9/11 का हमला (9/11 Attack), ट्विन टावर और पेंटागन के गिरने और पेनसिल्वेनिया में एक हवाई जहाज के गिरने तक सीमित नहीं है. वह ये मानने को तैयार नहीं हैं कि यह हमला अल क़ायदा का किया धरा है, बल्कि वह इसके लिए अमेरिकी सरकार को जिम्मेदार मानती हैं. ये ऐसे कई झूठ में से एक है जो 11 सितंबर को इस हादसे के 20वें साल के मौके पर फैलाए जा रहे हैं. बउर कहती हैं ‘अब मैं हर बात पर सवाल करती हूं और सोचती हूं कि इतिहास में हमें जो बताया गया वो कितना सही है.’ यहां तक कि वह कोविड 19 पर भी यकीन नहीं करती. बउर घर संभालती हैं और 9/11 हमले के वक्त वह 14 साल की थी. इस हमले में 3000 लोगों की जान गई थी.

    सालों तक वह सरकार के कहे पर यकीन करती रही. लेकिन साज़िश संबंधित सिद्धांत जानने के बाद अब उन्हें लगता है कि यह हमला दरअसल अमेरिकी सरकार की सोची समझी साजिश थी जिसे उसने 2003 में किए जाने वाले हमले को सही ठहराने के उद्देश्य से रचा था. वह इस सिद्धांत में यकीन करने वाले अन्य सदस्यों की ही तरह मानती हैं कि ट्विन टावर को ढहाने की तकनीक के जरिए गिराया गया है. उन्हें यकीन है कि किसी ने टावर में विस्फोटक लगाए थे जिससे वो इतनी सीधे ढंग से नीचे गिरी है, जिस सफाई से वो टावर नीचे ढहे हैं, वो सिर्फ किसी प्लेन के टकरा जाने से संभव नहीं है.

    खुद को सच जानने से जुड़ा समुदाय बताने वाले ये सदस्य अब कोरोना वायरस और वैक्सीन की उत्पत्ति पर भी चर्चा कर रहे हैं. ‘9/11 ट्रूथ फिल्म फेस्टिवल’ के 17वें संस्करण में महामारी से जुड़े दो वृत्तचित्र भी दिखाए गए हैं जिसमें वायरस से जुड़े दावों का जायज़ा लिया गया है. अमेरिका में साजिश के सिद्धांतों पर चर्चा नई बात नहीं है. जॉन एफ कैनेडी की हत्या और चांद पर उतरने को भी इसी तरह शक की निगाह से देखा जा चुका है. इस विषय पर किताब लिख चुके पत्रकार गैरेट ग्राफ कहते हैं – अमेरिका अनोखी साजिशों से संबंधित बात करने वाला देश है.

    कोरोना का इस हमले से कोई रिश्ता?
    इस समुदाय के लोगों को यकीन है कि पुराने सिद्धांतों के मुकाबले इंटरनेट के आने से 9/11 से घिरे सिद्धांतों को ज्यादा लोगों तक पहुंचने में मदद मिल सकेगी. ग्राफ कहते हैं कि 9/11 से जुड़े साजिशों के सिद्धांत ठीक उस वक्त आए जब यूट्यूब जैसे मंच ऊपर उठ रहे थे जिसकी वजह से इस तरह की बातों का ज्यादा बड़े तरीके से प्रचार-प्रसार किया जा सका. जल्द ही 9/11 के मौके पर एक बैठक होने जा रही है जिसका नाम – From 9/11-Anthrax to the Pandemic रखा गया है.

    इसमें सितंबर 2001 में कई हफ्तों तक पत्रकारों और राजनेताओं को चिट्ठी के जरिए जहरीले पदार्थ भेजे जाने की घटना पर भी बात होगी और एंथ्रैक्स के जीवाणु भेजे गए थे. ऐसा माना जा रहा है कि 2001 के एंथैक्स और कोविड के बीच किसी तरह का संबंध है. बउर जैसे लोग इस तरह की शिनाख्त को अपना कर्तव्य मानते हैं और कहते हैं कि इसके जरिए सरकार को और लोकतांत्रिक, पारदर्शी और जवाबदेह बनाया जा सकता है.

    Tags: America, Washington, World news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर