Home /News /world /

ओमिक्रॉन और एड्स वायरस में आखिर क्या है संबंध? विशेषज्ञों ने किया हैरान कर देने वाला बड़ा खुलासा

ओमिक्रॉन और एड्स वायरस में आखिर क्या है संबंध? विशेषज्ञों ने किया हैरान कर देने वाला बड़ा खुलासा

कोविड के नए वेरिएंट को लेकर इस समय दुनियाभर के वैज्ञानिक अध्ययन करने में लगे हुए हैं. (फाइल फोटो)

कोविड के नए वेरिएंट को लेकर इस समय दुनियाभर के वैज्ञानिक अध्ययन करने में लगे हुए हैं. (फाइल फोटो)

Corona Virus Omicron Variant: मैसाचुसेट्स स्थित डेटा एनालिटिक्स फर्म नेफरेंस के कैम्ब्रिज के वेंकी ने कहा ओमिक्रॉन (Omicron Update) एक ऐसा वायरस हो सकता है जो कि फैलता तो तेजी के साथ है लेकिन इसके लक्षण सामान्य होते हैं. फिलहाल अभी ओमिक्रॉन को लेकर वैज्ञानिक को यह पूरी तरह से कंफर्म नहीं हो सका है कि क्या यहा कोविड के दूसरे वेरिएंट की तुलना में अधिक संक्रामक है या नहीं. क्या यह नया वेरिएंट गंभीर बीमारी का कारण बन सकता है या नहीं

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली: ओमिक्रॉन (Omicron) को लेकर विश्व भर में दहशत का माहौल है. एक बार फिर से क्वारंटीन  (Quarantine)और कोविड जांच को यात्रा नियमों (Travel Guideline) के तौर पर लागू किया गया है. ओमिक्रॉन को लेकर अभी तक ज्यादा कुछ भी सामने नहीं आया है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के पास भी कोविड के इस नए वेरिएंट (Corona Virus Omicron New Variant) के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है. ओमिक्रॉन को लेकर शोधकर्ता अध्ययन करने में लगे हुए हैं. इस बीच वैज्ञानिकों का मनना है कि ओमिक्रॉन एक सामान्य सर्द वायरस हो सकता है और यह दूसरे वायरस के आनुवांशिक उत्परिवर्तन की वजह से उत्पन्न हुआ हो. अब इस वायरस को लेकर वैज्ञानिकों ने एक हैरान करने वाला खुलास किया है.

    वैज्ञानिकों ने कहा कि दक्षिण अफ्रीका, जहां पहली बार ओमिक्रॉन की पहचान की गई है वहां एचआईवी की दुनिया की उच्चतम दर है, एचआईवी वायरस भी तेजी से व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर करती है और सामान्य सर्दी वायरस और अन्य रोगजनकों के संक्रमण के लिए एक व्यक्ति की भेद्यता को बढ़ाती है.

    ओमिक्रॉन पर चल रहे शोध पर वैज्ञानिको ने कहा कि यह आनुवंशिक अनुक्रम कोरोनवायरस के किसी भी पुराने संस्करण में प्रकट नहीं होता है, जिसे SARS-CoV-2 कहा जाता है, लेकिन कई अन्य वायरस में आनुवांशिक अनुक्रम सर्वव्यापी है, जिनमें सामान्य सर्दी और मानव जीनोम भी शामिल हैं.

    मैसाचुसेट्स स्थित डेटा एनालिटिक्स फर्म नेफरेंस के कैम्ब्रिज के वेंकी ने कहा ओमिक्रॉन एक ऐसा वायरस हो सकता है जो कि फैलता तो तेजी के साथ है लेकिन इसके लक्षण सामान्य होते हैं. फिलहाल अभी ओमिक्रॉन को लेकर वैज्ञानिक को यह पूरी तरह से कंफर्म नहीं हो सका है कि क्या यहा कोविड के दूसरे वेरिएंट की तुलना में अधिक संक्रामक है या नहीं. क्या यह नया वेरिएंट गंभीर बीमारी का कारण बन सकता है या नहीं या फिर क्या यह वेरिएंट अभी के सभी वेरिएंट में सबसे आगे निकल सकता है यान हीं? वैज्ञानिकों को इन सभी सावालों के जबाव तलाशने में अभी कई हफ्तों का वक्त लग सकता है.

    कोविड को लेकर पहले के अध्ययनों के अनुसार वायरस से ग्रसित व्यक्ति को फेफड़े और सांस लेने वाली प्रणाली में समस्या होती है और सर्दी जुकाम के लक्षण के साथ कोरनविर्यूज को एक साथ बंद कर देती है. संक्रमण की इस प्रक्रिया में दो अलग अलग वायरस की स्वयं के दो अलग अलग रूप को उत्पन्न करते हैं. इन नए उत्पन्न वायरस में माता और पिता दोनों के आनुवांशिक लक्षण हो सकते हैं.

    वेंकी के सहयोगी सुंदरराजन ने कहा कि आनुवंशिक अनुक्रम कई बार एक ही कोरोनावायरस में दिखाई देते हैं. इसकी वजह से व्यक्ति में सर्दी और जुकाम के लक्षण सामने आते हैं. इसे HCoV-229E के तौर पर जाना जाता है.  वैज्ञानिकों ने कहा कि कोई भी वायरस एक दूसरे वायरस के संपर्क में आकर एक नए वायरस का निर्माण कर सकता है.

    Tags: Covid-19 Case, Omicron variant

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर