लाइव टीवी

काफिर और मूर्तिपूजा करने वाले देशों को खुदा का दिया जवाब है कोरोना वायरस- ISIS

News18Hindi
Updated: March 24, 2020, 4:32 PM IST
काफिर और मूर्तिपूजा करने वाले देशों को खुदा का दिया जवाब है कोरोना वायरस- ISIS
ISIS ने अल-नबा पब्लिकेशन में कोरोना वायरस को लेकर एक लेख प्रकाशित किया है.

इस्लामिक स्टेट (ISIS) की तरफ से एक लेख में कहा गया है कि उन्होंने खुदा से दुआ मांगी है कि वो काफिर और खुदा में भरोसा नहीं करने वाले देशों पर कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर और अधिक बढ़ाएं..

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 24, 2020, 4:32 PM IST
  • Share this:
आतंकवादी संगठन ISIS ने कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर अजीबोगरीब बयान जारी किया है. ISIS की तरफ से कहा गया है कि उन्होंने खुदा से दुआ मांगी है कि वो काफिर और खुदा में भरोसा ना करने वाले देशों में कोरोना वायरस का कहर और बढ़ाएं. ISIS ने दावा किया है कि इस महामारी की वजह से उनके खिलाफ लड़ रहे लोगों को पीछे हटना पड़ेगा.

इस्लामिक स्टेट ने अल-नबा पब्लिकेशन के जरिए एक न्यूज लेटर जारी किया है. इसमें कोरोना वायरस को लेकर उसने कई बातें कही हैं. इसके पहले ISIS ने अपने गुट के आतंकियों को ये जानकारी दी थी कि वो कोरोना वायरस के संक्रमण से कैसे बचें.

एक लेख में ISIS ने मांगी काफिर देशों की बर्बादी की दुआ
अल-नबा में प्रकाशित लेख में ISIS पहले लिखता है कि कोरोना वायरस के जरिए खुदा ने अपनी बनाई दुनिया को भयावह यातना दी है. अल मसदर न्यूज के मुताबिक इसके बाद इस्लामिक स्टेट की तरफ से कहा गया है कि कोरोना वायरस काफिर और मूर्तिपूजा करने वाले देशों को खुदा का दिया जवाब है.



इसके बाद इस्लामिक स्टेट की तरफ से लिखा जाता है कि उन्होंने खुदा से दुआ मांगी है कि वो काफिर और खुदा में भरोसा नहीं करने वाले देशों पर कोरोना वायरस का कहर और अधिक बढ़ाएं और उनमें विश्वास करने वाले लोगों को सुरक्षित रखें.

ISIS लिखता है- 'हमने खुदा से कहा है कि वो काफिरों को और यातना दें और उनमें भरोसा करने वालों की जिंदगी बचाएं.' आतंकवादी संगठन ने लिखा है कि ये बिल्कुल सच है कि जो लोग खुदा से विद्रोह करते हैं, उन्हें वो दंडित करता है और जो उनकी बातों पर चलता है, उनके कहे को मानता है, उन्हें खुदा का रहम हासिल होता है. खुदा उनके साथ हर वक्त खड़ा रहता है.

आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट की तरफ से कहा गया है कि इस महामारी की वजह से आक्रमणकारी देशों को पीछे हटने पर मजबूर होना पड़ेगा. उन्हें अपने देशों में मिलिट्री की मौजूदगी बढ़ानी होगी, ताकि वो वायरस के संक्रमण से निपट सकें.

एक हफ्ते पहले ISIS ने कोरोना वायरस को लेकर जारी किया था गाइडलाइन
हालांकि ISIS ने अपने लेख में कोरोना वायरस का नाम नहीं लिया है. लेकिन वो बीमारी और उसके पूरी दुनिया में जिस तरह के असर की बात कर रहे हैं, उसमें उनका साफ इशारा कोरोना वायरस को लेकर है.
एक हफ्ते पहले ही इस्लामिक स्टेट ने कोरोना वायरस को लेकर एक गाइडलाइन जारी की थी. इसमें उन्होंने अपने आंतकी लड़ाकों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने की सलाह दी थी. उसी न्यूज पेपर में कोरोना वायरस से निपटने की कई धार्मिक विधियों का जिक्र किया गया था.

इस्लामिक स्टेट ने अपने गुट के आतंकवादियों को बीमार लोगों से दूर रहने को कहा था. गाइडलाइन में कहा गया था कि खाने से पहले सभी लोग हाथ अच्छे से धोएं. संक्रमित इलाकों में सफर से बचने की सलाह दी गई थी. साथ ही ये भी कहा था कि खुदा में यकीन रखो और खुद को उनके हवाले छोड़ दो.
ये भी पढ़ें:

कोरोना वायरस फैला तो शराब बनाने वाली ये मशहूर कंपनी बनाने लगी हैंड सैनेटाइजर
मॉस्को में 65 साल से ऊपर होंगे घरों में कैद, 67 साल के पुतिन नियम से बाहर
व्हाइट हाउस के कोरोना वायरस एक्सपर्ट गायब, ट्रंप से हुआ था मतभेद
कोरोना वायरस से बचने के लिए ट्रंप की ‘सलाह’ मानकर मर गया एक शख्स!
कोरोना वायरस: साउथ कोरिया से सीख सकते हैं, संक्रमण पर कैसे पाया जाता है काबू
कोरोना वायरस एक्सपर्ट से बुखार का नाम सुनते ही ट्रंप के छूटे पसीने!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मिडिल ईस्ट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 24, 2020, 4:32 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर