लाइव टीवी

IS सरगना बगदादी रेगिस्‍तान में छिपाकर रखता था करोड़ों डॉलर, चरवाहों से ढूंढवाने पड़े थे 170 करोड़ रुपये

News18Hindi
Updated: October 30, 2019, 2:20 PM IST
IS सरगना बगदादी रेगिस्‍तान में छिपाकर रखता था करोड़ों डॉलर, चरवाहों से ढूंढवाने पड़े थे 170 करोड़ रुपये
दुनिया के सबसे खतरनाक और वांछित आतंकी अबु बकर अल-बगदादी को 26 छापेमार हमलों के बाद ढेर करने में सफलता मिली.

आतंकी संगठन इस्‍लामिक स्‍टेट (IS) सरगना अबु बकर अल-बगदादी (Abu Bakr al-Baghdadi) के बारे में पुख्‍ता जानकारी देने वाले उसके करीबी और रिश्‍तेदार को ढाई करोड़ डॉलर का इनाम दिया जाएगा. उसने न सिर्फ बगदादी के ठिकाने (whereabouts) की पुख्‍ता जानकारी दी बल्कि उसके हर कमरे का ले-आउट (Lay-Out) भी मुहैया कराया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 30, 2019, 2:20 PM IST
  • Share this:
वॉशिंगटन. आतंकी संगठन इस्‍लामिक स्‍टेट (IS) सरगना अबु बकर अल-बगदादी (Abu Bakr al-Baghdadi) जिस तरह खुद को छिपने में माहिर था, ठीक वैसे ही अपने पैसे को भी ऐसी जगह छुपाता था कि कोई ढूंढ नहीं पाए. बगदादी करोड़ों डॉलर को अपने छिपने के ठिकाने के आसपास ही रखता था, लेकिन ये रकम किसी के हाथ नहीं लग पाती थी. बगदादी के एक करीबी ने बताया कि आईएस सरगना (ISIS Leader) ने 170 करोड़ रुपये से ज्‍यादा (25 Million Dollar) इराक के रेगिस्‍तान (Iraqi Desert) में छुपाकर रखे थे. वहीं, बगदादी के बारे में पुख्‍ता जानकारी देने वाले उसके करीबी और रिश्‍तेदार को ढाई करोड़ डॉलर का इनाम दिया जाएगा.

बगदादी को 26 छापेमार हमलों के बाद ढेर करने में मिली सफलता
अमेरिका (US) को बगदादी को मारने में मिली सफलता के पीछे उसके करीबी रिश्‍तेदार (Close Aide) की ओर से मुहैया कराई गई ठोस व सटीक जानकारी की अहम भूमिका रही. उसने न सिर्फ बगदादी के ठिकाने (whereabouts) की पुख्‍ता जानकारी दी बल्कि उसके हर कमरे का ले-आउट (Lay-Out) भी मुहैया कराया. अभियान में शामिल रहे अधिकारियों के मुताबिक, दुनिया के सबसे खतरनाक और वांछित आतंकी (Most Wanted Terrorist) को 26 छापेमार हमलों के बाद ढेर करने में सफलता मिली है. अब उसकी मुखबिरी करने वाले करीबी को घोषित इनाम दिया जाएगा.

चरवाहों की मदद से ढूंढनी पड़ी थी रेगिस्‍तान में दबी रकम

बगदादी के करीबियों में एक ने बताया कि आईएस आतंकवादियों (ISIS Terrorists) ने इराक के अल-अनबर रेगिस्तान में करोड़ों डॉलर दबाकर रखे थे. एक बार ये रकम आईएस आतंकी भी नहीं ढूंढ पाए. तब इसे चरवाहों की मदद से खोजा गया. बगदादी के करीबी ने बताया था कि वो 5 से 6 मीटर की चौड़ाई के साथ 8 मीटर लंबी सुरंग में छिपा है. वहां एक पुस्तकालय, धार्मिक पुस्तकें, कुरान और कई तरह की धार्मिक पुस्तकें रखी थीं. सुरंग में रोशनी और अन्य जरूरी चीजें होने के कारण इसे बगदादी के छिपने की सबसे बेहतर जगह माना जाता था.

पत्‍नी के जरिये बगदादी तक पहुंचने में मिली सफलता
मुखबिर ने बताया कि सीरिया में बगदादी के छुपने की जगह के पास उसके खास आतंकी तंबू लगाकर सुरक्षा में तैनात रहते थे. उसने बगदादी के लिए कूरियर का काम करने वाले और उसकी पत्नी की सूचना दी थी. इसके बाद कूरियर पर नजर रखी गई. बाद में कूरियर को एक छापे के बाद मार दिया गया. उसकी पत्नी को एक अलग स्थान पर रखा गया. पत्नी के जरिये टीम बगदादी तक पहुंचने में कामयाब हुई. इसके बाद इराकी अधिकारियों ने अमेरिकी सेना (US Forces) को इसकी सूचना दे दी. अमेरिका ने योजना बनाकर अपनी स्पेशल फोर्स भेजकर बगदादी को ढेर कर दिया.
Loading...

बगदादी जल्‍द बदलने वाला था आखिरी ठिकाना भी
बगदादी लगातार अपना ठिकाना बदलता रहता था. वह सुरक्षा एजेंसी की जानकारी में आ चुके ठिकाने पर कभी नहीं छिपता था. खतरा भांप कर वह अपना ठिकाना तुरंत बदल लेता था. वह अपने आखिरी ठिकाने को भी जल्‍द ही बदलने वाला था, लेकिन उससे पहले ही उसे घेर लिया गया. इसके बाद उसने खुद को उड़ा लिया. वह हमेशा अपने करीबियों से कहता था कि उसे कोई जिंदा नहीं पकड़ पाएगा. जिंदा पकड़े जाने से बचने के लिए वह अपने शरीर पर विस्फोटक बांधकर रखता था.

ये भी पढ़ें:

PM मोदी ने कहा-गरीबी का सबक किताबों से नहीं सीखा, मैंने इसे जिया है

जमीन विवाद में अब सिग्नेचर की कार्बन कॉपी को भी सबूत मानेगा कोर्ट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 30, 2019, 2:14 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...