UAE ने बदले कई कानून! लिव इन की दी इजाजत, ऑनर किलिंग की कठोर सजा

UAE ने शरिया से जुड़े सख्त कानूनों में ढील देने का ऐलान किया है.
UAE ने शरिया से जुड़े सख्त कानूनों में ढील देने का ऐलान किया है.

Islamic laws in UAE: वर्ल्ड एक्सपो के मद्देनज़र UAE ने लिव इन रिलेशनशिप, शराब के सेवन और ऑनर किलिंग जैसे मुद्दों से जुड़े सख्त कानूनों में बड़े बदलाव किये हैं. माना जा रहा है कि पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए अब UAE छवि सुधार कर रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 9, 2020, 9:01 AM IST
  • Share this:
दुबई. संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) ने शनिवार को देश के मुस्लिम पर्सनल लॉ (Islamic laws) में सुधार के लिए कई अहम और बड़े बदलावों की घोषणा कर दी है. कानून में किए गए इन बदलावों के बाद अब अविवाहित जोड़ों को साथ रहने (लिव इन) की छूट मिल गयी है. इसके अलावा शराब प्रतिबंधों में भी ढील दी गयी है और 'ऑनर किलिंग' (Honour killing) को अब कानूनन अपराध बना दिया गया है. यूएई ने व्यक्तिगत स्वतंत्रता से जुड़े इस्लामिक कानूनों को शिथिल करने का ऐलान किया है. माना जा रहा है कि संयुक्त अरब अमीरात व‌र्ल्ड एक्सपो की मेजबानी कर रहा है और उसी को ध्यान में रखकर कानूनों में ज़रूरी बदलाव किये गए हैं.

दरअसल, ये बदलाव यूएई के शासकों के विचारों में पिछले कुछ दिनों से आ रहे परिवर्तन को बयां कर रहे हैं. विश्व के अन्य देशों की तरह यूएई के लोग भी व्यक्तिगत स्वतंत्रता चाहते हैं. इसके अलावा अमेरिका की पहल पर यूएई और इजरायल के बीच हुआ समझौता भी एक वजह हो सकती है. समझौते के बाद इजरायल से बड़ी संख्या में पर्यटकों के साथ ही निवेश के आने की संभावना है. इसके अलावा यूएई दुबई समेत देश के तमाम शहरों को पर्यटन स्थल के रूप में भी विकसित करना चाहता है.

देश की छवि में होगा सुधार, बढ़ेगा पर्यटन
सरकारी डब्ल्यूएएम न्यूज एजेंसी और अखबार द नेशनल के जरिये घोषित कानूनी सुधारों के मुताबिक अब 21 साल और उससे अधिक उम्र के लोगों को शराब रखने, उसका सेवन और उसकी बिक्री करने पर किसी तरह का जुर्माना नहीं देना होगा. पहले शराब खरीदने, उसे ले जाने और घर में रखने के लिए लाइसेंस लेना पड़ता था. नए नियम से मुस्लिमों को भी शराब के सेवन की अनुमति मिल जाएगी. पहले मुस्लिमों को लाइसेंस देने पर भी रोक थी. यूएई की सरकारी न्यूज एजेंसी ने नए शाही फरमानों की जानकारी दी है. इसमें कहा गया है कि इन सुधारों का मकसद देश की आर्थिक और सामाजिक प्रतिष्ठा को प्रोत्साहित करना है और दुनिया को यह संदेश देना है कि वह सहिष्णुता के सिद्धांतों को मजबूत कर रहा है.
नए नियम में बिना शादी के भी जोड़ों को साथ रहने की अनुमति दे दी गई है. अभी तक यूएई में ऐसा करना अपराध था. धार्मिक और सांस्कृतिक नियमों के उल्लंघन या उनके अनादर पर महिलाओं की हत्या और उत्पीड़न का बचाव करने वाले नियमों को खत्म कर दिया गया है. सम्मान के नाम पर महिलाओं के उत्पीड़न को अब उनपर अन्य हमलों की तरह ही अपराध बना दिया गया है. ऐसे देश में जहां प्रवासियों की संख्या ज्यादा है, इन सुधारों से विदेशियों को विवाह, तलाक और उत्तराधिकार के मामलों में शरिया अदालतों में जाने की जरूरत नहीं रह जाएगी. ये बदलाव ऐसे समय में किए गए हैं जब संयुक्त अरब अमीरात व‌र्ल्ड एक्सपो की मेजबानी करने वाला है. इस आयोजन ने न सिर्फ व्यावसायिक गतिविधियां बढ़ेंगी, बल्कि ढाई करोड़ से अधिक लोगों का आना-जाना भी होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज