S-400 मिसाइल प्रणाली से जुड़े भारत के अग्रिम भुगतान का मुद्दा सुलझाया गया

भाषा
Updated: August 30, 2019, 6:24 AM IST
S-400 मिसाइल प्रणाली से जुड़े भारत के अग्रिम भुगतान का मुद्दा सुलझाया गया
एस -400 की आपूर्ति के लिए भारत के अग्रिम भुगतान के मुद्दे को सुलझा लिया है.

अमेरिका (America) ने Missile प्रणाली एस-400 (S-400) सौदे का विरोध किया था. रिपोर्टों में कहा गया है कि रूस पर अमेरिकी प्रतिबंधों के कारण प्रारंभिक भुगतान में देरी हुई है.

  • Share this:
रूसी रक्षा एजेंसी ने गुरुवार को कहा कि रूस (Russia) और भारत (India) ने लंबी दूरी की सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल (Missile) प्रणाली एस -400 (S-400) की आपूर्ति के लिए भारत के अग्रिम भुगतान के मुद्दे को सुलझा लिया है.

भारत ने 2015 में रूस में निर्मित एस-400 मिसाइल प्रणाली हासिल करने के अपने इरादे की घोषणा की थी. पिछले साल रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) की भारत यात्रा के दौरान 5.43 अरब अमेरिकी डॉलर की आपूर्ति के अनुबंध पर हस्ताक्षर किए गए थे.

रूस के फेडरल सर्विस फॉर मिलिट्री एंड टेक्निकल कोआपरेशन के प्रेस कार्यालय ने कहा कि एस-400 के अनुबंध को समझौते और हस्ताक्षरित दस्तावेजों के अनुरूप लागू किया जाएगा. अनुबंध के तहत अग्रिम भुगतान का मुद्दा सुलझा लिया गया है.

अमेरिका ने एस-400 सौदे का विरोध किया था. रिपोर्टों में कहा गया है कि रूस पर अमेरिकी प्रतिबंधों के कारण प्रारंभिक भुगतान में देरी हुई है. ट्रम्प प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने भारत को आगाह किया है कि एस -400 करार की वजह से प्रतिबंध लगाया जा सकता है.

ये भी पढ़ें: 

अमेरिका पहले प्रतिबंध हटाए फिर होगी बातचीत: ईरान
जंग की धमकी के बीच PAK ने किया 'गजनवी' मिसाइल का परीक्षण
Loading...

'ट्रंप कश्मीर पर भारत और पाकिस्तान को ‘धोखा’ दे रहे हैं'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 30, 2019, 6:11 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...