होम /न्यूज /दुनिया /

जी20 समिट के मंच से बोले इटली के पीएम मारियो द्राघी- गरीब देशों में कम टीकाकरण नैतिक रूप से अस्वीकार्य है

जी20 समिट के मंच से बोले इटली के पीएम मारियो द्राघी- गरीब देशों में कम टीकाकरण नैतिक रूप से अस्वीकार्य है

इटली के प्रधानमंत्री ने बहुपक्षीय सहयोग को लेकर नए सिरे से प्रतिबद्धता जताने का आग्रह किया. (फाइल फोटो)

इटली के प्रधानमंत्री ने बहुपक्षीय सहयोग को लेकर नए सिरे से प्रतिबद्धता जताने का आग्रह किया. (फाइल फोटो)

G20 Summit, Italy : जी-20 की मेजबानी कर रहे द्राघी (G20 Summit) ने सम्मेलन की शुरुआत में विश्व के कम संपन्न देशों के लिए टीकों (Vaccine) की आपूर्ति बढ़ाने के प्रयासों को भी गति देने का आह्वान किया. द्राघी ने रेखांकित किया कि संपन्न देशों में 70 प्रतिशत लोगों का टीकाकरण (Vaccination) हो चुका है जबकि गरीब देशों में केवल तीन प्रतिशत लोगों को ही कोविड-19 (Covid-19) रोधी टीके की खुराक मिली है. द्राघी ने इसे नैतिक रूप से अस्वीकार्य बताया.

अधिक पढ़ें ...

    रोम: दुनिया की बड़ी अर्थव्यवस्था वाले देशों के नेता कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के बाद से शनिवार को पहली बार प्रत्यक्ष तरीके से आयोजित सम्मेलन में शिरकत कर रहे हैं. इस बार जी-20 शिखर सम्मेलन के एजेंडे में जलवायु परिवर्तन, कोविड-19 के बाद आर्थिक सुधार और वैश्विक न्यूनतम निगमित कर दर है.

    इटली के प्रधानमंत्री मारियो द्राघी ने रोम के नुवोला में जी-20 के शासनाध्यक्षों का स्वागत किया. शनिवार को सम्मेलन के शुरुआती सत्र में वैश्विक स्वास्थ्य और अर्थव्यवस्था पर चर्चा होने की उम्मीद है. ईरान के परमाणु कार्यक्रम पर अगले कदम के लिए सम्मेलन के इतर अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन, जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल, फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुअल मैक्रों और ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन चर्चा करेंगे.

    जी-20 की मेजबानी कर रहे द्राघी ने सम्मेलन की शुरुआत में विश्व के कम संपन्न देशों के लिए टीकों की आपूर्ति बढ़ाने के प्रयासों को भी गति देने का आह्वान किया. द्राघी ने रेखांकित किया कि संपन्न देशों में 70 प्रतिशत लोगों का टीकाकरण हो चुका है जबकि गरीब देशों में केवल तीन प्रतिशत लोगों को ही कोविड-19 रोधी टीके की खुराक मिली है. द्राघी ने इसे नैतिक रूप से अस्वीकार्य बताया.

    यह भी पढ़ें- चीन की वजह से अरुणाचल के कामेंग नदी में एकाएक पानी हुआ काला! हजारों मछलियों की हुई मौत

    इटली के प्रधानमंत्री ने बहुपक्षीय सहयोग को लेकर नए सिरे से प्रतिबद्धता जताने का आग्रह किया. उन्होंने कहा, हम सब जितनी चुनौतियों का सामना कर रहे हैं, उतना ही यह स्पष्ट होता है कि बहुपक्षवाद उन समस्याओं का सबसे अच्छा जवाब है जिनका हम आज सामना कर रहे हैं. कई मायनों में यह एकमात्र संभव उत्तर है.

    संयुक्त राष्ट्र जलवायु सम्मेलन से पहले इटली को उम्मीद है कि जी-20 के देश कार्बन उत्सर्जन में कटौती को लेकर महत्वपूर्ण प्रतिबद्धता जताएंगे. जलवायु सम्मेलन रविवार को ग्लासगो, स्कॉटलैंड में शुरू होगा. जी-20 सम्मेलन खत्म होने के तुरंत बाद कई देशों के प्रमुख ग्लासगो जाएंगे. रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए सम्मेलन से जुड़ेंगे.

    Tags: Coronavirus, Italy, Narendra modi

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर