लाइव टीवी
LIVE NOW

अरब के क्राउन प्रिंस सलमान के 2 सहयोगियों समेत 20 को तुर्की ने बताया खशोगी का कातिल

इस मामले में तुर्की ने क्राउन प्रिंस के सहयोगियों के अलावा अठारह अन्य संदिग्धों पर भी इस हत्या का आरोप लगाया गया है. इसमें अक्सर विदेशी दौरों पर शहजादे के साथ जाने वाले खुफिया कर्मी महेर मुतरेब , फॉरेंसिक विशेषज्ञ सलाह अल-तुबैगी और सऊदी शाही गार्ड के सदस्य फहद अल-बालावी शामिल हैं.

Hindi.news18.com | March 26, 2020, 6:17 PM IST
facebook Twitter Linkedin
Last Updated 4 days ago

हाइलाइट्स

इस्तानबुल. तुर्की (Turkey) ने बुधवार को बताया है कि आलोचक जमाल खशोगी (Jamal Khagoshi) की साल 2018 में हुई हत्या के मामले में सऊदी अरब (Saudi Arabia) के शहजादे मोहम्मद बिन सलमान के दो पूर्व शीर्ष सहयोगियों समेत 20 संदिग्धों को हत्या का आरोपी माना है. तुर्की ने सऊदी अरब के उप खुफिया प्रमुख अहमद अल असीरी और शाही अदालत के मीडिया प्रमुख सऊद अल काहतानी पर अभियान का नेतृत्व करने और सऊदी अरब की एक टीम को आदेश देने का भी आरोप लगाया है.

'द वाशिंगटन पोस्ट' में कॉलम लेखक खशोगी (59) को अक्टूबर 2018 में इस्तानबुल में सऊदी वाणिज्य दूतावास में प्रवेश करने के बाद मार दिया गया था. वह तुर्की की अपनी मंगेतर हातिश सेंगिज से शादी के लिए कागजात प्राप्त करने के लिए वहां गए थे. तुर्की ने सऊदी अरब के स्पष्टीकरण से नाखुश होने के बाद इस हत्या मामले में अपनी जांच की. इस्तानबुल अभियोजक कार्यालय ने एक बयान में कहा कि असीरी और काहतानी पर इस हत्या के लिए उकसाने का आरोप लगाया गया है.

क्राउन प्रिंस के सहयोगियों के आलावा 18 और भी हैं आरोपी
इस मामले में तुर्की ने क्राउन प्रिंस के सहयोगियों के अलावा अठारह अन्य संदिग्धों पर भी इस हत्या का आरोप लगाया गया है. इसमें अक्सर विदेशी दौरों पर शहजादे के साथ जाने वाले खुफिया कर्मी महेर मुतरेब , फॉरेंसिक विशेषज्ञ सलाह अल-तुबैगी और सऊदी शाही गार्ड के सदस्य फहद अल-बालावी शामिल हैं. दोषी ठहराये जाने पर उन्हें आजीवन कारावास हो सकती है.

मुतरेब, तुबैगी और बालावी उन 11 व्यक्तियों में शामिल है जिन पर रियाद में मुकदमा चल रहा है. सूत्रों का कहना है कि सुनवायी के दौरान इनमें से कई ने यह कहकर स्वयं का बचाव किया कि वे असीरी के आदेश का पालन कर रहे थे. इन लोगों ने असीरी को इस अभियान का सरगना बताया. तुर्की के अभियोजकों ने कहा कि 20 संदिग्धों के खिलाफ अनुपस्थिति में एक मामला चलाया जाएगा. उन्होंने हालांकि इसके लिए कोई तिथि नहीं दी. अभियोजकों ने संदिग्धों के लिए गिरफ्तारी वारंट जारी किये हैं जो तुर्की में नहीं हैं.

 

ये भी पढ़ें:-

Coronavirus का खौफ: वेंटिलेटर खरीद कर घर में रख रहे हैं रूस के रईस लोग
धर्मस्थलों के पास अकूत संपत्ति, क्या कोरोना से लड़ाई में सरकार लेगी उनसे धन
देश के 30 राज्यों में लॉकडाउन, जानिए जनता को इस दौरान क्या करने की आजादी?
इटली और अमेरिका के हालात खतरनाक, महीनेभर में आंकड़ा दहाई से हजारों में