जो बाइडेन ने शी जिनपिंग से पहली बार की बात, कारोबार के तरीकों को लेकर जताई चिंता

बाइडेन ने ट्वीट के जरिए मुलाकात की जानकारी दी है (फाइल फोटो)

बाइडेन ने ट्वीट के जरिए मुलाकात की जानकारी दी है (फाइल फोटो)

America-China Talks: अमेरिकी राष्ट्रपति के तौर पर जो बाइडेन (Joe Biden) ने चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (XI Jinping) से पहली बार बात की है. फोन पर हुई इस चर्चा के दौरान दोनों लीडर्स के बीच मानवाधिकार समेत कई बड़े मुद्दों पर चर्चा हुई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 12, 2021, 1:24 AM IST
  • Share this:
वॉशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) ने पहली बार फोन पर अपने चीनी समकक्ष शी जिनपिंग से बातचीत की. इस दौरान उन्होंने चीनी राष्ट्रपति के साथ व्यापार और हॉन्गकॉन्ग (Hongkong) में लोकतांत्रिक कार्यकर्ताओं पर पाबंदियों के संबंध में चर्चा की. इस बात की जानकारी खुद बाइडेन ने ट्वीट करके दी है. खास बात यह है कि अमेरिका (America) में बीते साल पूरे हुए चुनाव के बाद से ही दोनों देशों के बीच रिश्तों को लेकर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं.

अमेरिकी राष्ट्रपति ने ट्वीट किया, 'मैंने आज चीनी लोगों को लूनर वर्ष की शुभकामनाएं देने के लिए राष्ट्रपति शी से बात की. साथ ही मैंने बीजिंग के कारोबार, मानवाधिकार उल्लंघन और ताइवान पर हो रही जोर जबरदस्ती को लेकर भी चिंताएं व्यक्त कीं. मैंने उन्हें कहा कि मैं चीन के साथ तब काम करूंगा, जब ये अमेरिकी लोगों को फायदा पहुंचाएगा'. पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कार्यकाल में भी दोनों देशों के बीच संबंध अच्छे नहीं रहे थे.

Youtube Video


व्हाइट हाउस (White House) की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि बाइडेन ने बीजिंग के अनुचित और जबरदस्ती आर्थिक व्यवहारों को लेकर भी चिंताएं जाहिर की हैं.  बाइडेन ने चीन में अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा रणनीतिक की समीक्षा करने पैंटागॉन की टास्क फोर्स के प्लान को लेकर भी घोषणाएं की हैं. इसके बाद ही उन्होंने चीनी राष्ट्रपति से भी चर्चा की. बुधवार को ही उन्होंने म्यांमार में हुए तख्तापलट को लेकर भी घोषणाएं की थीं.
यह भी पढ़ें: म्यांमार: अमेरिका में संपत्तियों का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे सैन्य अधिकारी, बाइडेन ने दिए प्रतिबंध के आदेश

राष्ट्रपति ने म्यांमार के सैन्य अधिकारियों पर कई तरह के प्रतिबंध लगाने की बात भी कही है. वहीं, उन्होंने सेना से सत्ता वापस सौंपने के लिए कहा है. बाइडेन का प्रशासन म्यांमार सरकार को फायदा पहुंचाने वाली अमेरिकी संपत्ति को फ्रीज करेगा. साथ ही निर्यात पर भी नियंत्रण लगाया जाएगा.

हालांकि, इन तमाम प्रतिबंधों के बावजूद अमेरिकी प्रशासन देश के नागरिकों को फायदा पहुंचाने वाली स्वास्थ्य और दूसरी सेवाओं को जारी रखेगा. म्यांमार जाने वाले पहले अमेरिकी राष्ट्रपति बने बराक ओबामा ने 2016 में प्रतिबंधों को हटाया था. ओबामा ने यह फैसला देश में 2011 में शुरू जारी लोकतांत्रिक बदलावों के बाद लिया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज