अमेरिका: कोर्ट ने सजा के तौर पर सिख धर्म के बारे में पढ़ने का आदेश दिया

न्यायाधीश ने कहा, 'कट्टरता अज्ञानता का परिणाम है. हम सब अपने समुदाय की संस्कृतियों से सीखने और लाभान्वित होने की क्षमता रखते हैं'

News18Hindi
Updated: May 25, 2019, 4:15 PM IST
अमेरिका: कोर्ट ने सजा के तौर पर सिख धर्म के बारे में पढ़ने का आदेश दिया
सांकेतिक तस्वीर
News18Hindi
Updated: May 25, 2019, 4:15 PM IST
अमेरिका में एक कोर्ट ने एक बेहद ही दिलचस्प फैसला सुनाया है. न्यायाधीश ने सिख समुदाय के एक व्यक्ति पर हमला करने के जुर्म में सजा के तौर पर सिख धर्म का अध्ययन करने और उस पर एक रिपोर्ट पेश करने को कहा है.

अमेरिका में सिख नागरिक अधिकारों के सबसे बड़े संगठन ‘द सिख कोलिशन’ के मुताबिक दोषी एंड्र्यू रामसे ने 14 जनवरी को हरविंदर सिंह डोड को धमकाने और उन पर हमला करने का जुर्म कबूल किया. गवाहों के अनुसार डोड ने बिना पहचानपत्र दिखाए रामसे को सिगरेट बेचने से मना कर दिया था. इसके बाद रामसे ने डोड की दाढ़ी खींची, उन्हें मुक्का मारा और जमीन पर गिरा दिया. वहां मौजूद लोगों ने पुलिस आने तक रामसे को पकड़ कर रखा.



डोड भारत से अमेरिका आए हैं और यहां उनकी एक दुकान है. उन्होंने अदालत को दिए एक लिखित बयान में कहा कि अमेरिका में घृणा अपराध तेजी से बढ़ रहे हैं. एफबीआई का भी कहना है कि ओरेगन में 2016 की तुलना में 2017 में घृणा अपराध 40 फीसदी तक बढ़ गए हैं.

डोड ने कहा, ‘‘उसने मुझे इंसान नहीं समझा. उसने मुझे इस लिए मारा कि मैं कैसा दिख रहा हूं. मेरी पगड़ी और दाढ़ी के लिए मारा-ये मेरी धार्मिक आस्था से जुड़ी चीजें हैं.’’

पुलिस ने कहा कि रामसे ने डोड पर जूता भी फेंका और उनकी पगड़ी छीन ली.‘द स्टेट्समेन जर्नल’ ने अपनी एक खबर में कहा कि मारिऑन काउंटी के जज लिंडसे पाट्रिड्ज ने रामसे को समेल में जून में सालाना सिख परेड में शामिल होने के आदेश दिया साथ ही कहा कि वो अदालत को बताए की उसने सिख समुदाय और उनकी संस्कृति के बारे में क्या जाना.

न्यायाधीश ने कहा, ‘‘कट्टरता अज्ञानता का परिणाम है. हम सब अपने समुदाय की संस्कृतियों से सीखने और लाभान्वित होने की क्षमता रखते हैं.’’ न्यूज़पेपर ने लिखा कि न्यायाधीश ने रामसे को तीन साल की निगरानी और 180 दिन की कैद की सजा सुनाई है. इसमें अब तक की जेल अवधि को भी शामिल किया गया है. न्यायाधीश ने कहा कि रामसे के लिए मादक पदार्थ, शराब और उसके मानसिक स्वास्थ्य का उपचार कराया जाना सबसे बढ़िया विकल्प है. रामसे को पहले भी घरेलू हिंसा, चोरी और मादक पदार्थ रखने का दोषी ठहराया जा चुका है.

रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि रामसे ने अदालत से कहा कि उसे हमेशा से मानसिक समस्या रही है और वो मदद स्वीकार करने के लिए तैयार है.
Loading...

ये भी पढ़ें:

'सोनिया से मिले अपमान' का जगन रेड्डी ने लिया बदला!

सूरत: कोचिंग सेंटर में लगी भयानक आग, देखें दर्दनाक तस्वीरें

28 जून को जापान पहुंचेंगे मोदी, ट्रंप से होगी मुलाकात
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...