काबुल यूनिवर्सिटी अटैक के मुख्य साजिशकर्ता को होगी फांसी, 22 लोगों की हुई थी मौत

काबुल यूनिवर्सिटी हमले के मुख्य साजिशकर्ता को सुप्रीम कोर्ट ने मौत की सजा सुनाई है. प्रतीकात्मक फोटो: AP

Kabul University Attack: अफगानिस्तान में काबुल यूनिवर्सिटी अटैक (Kabul University Attackers) के मुख्य साजिशकर्ता मोहम्मद आदिल (Mohhamad Adil) को देश की सुप्रीम कोर्ट ने मौत की सजा (Punsihed To Death) सुनाई है. इस जानकारी के मुताबिक इस हमले में पांच दूसरे लोगों को देशद्रोह, विस्फोटक पहुंचाने और आईएसआईएस की मदद करने के मामले में अलग-अलग जेल की सजा सुनाई गई है.

  • Share this:
    काबुल. अफगानिस्तान में काबुल यूनिवर्सिटी अटैक (Kabul University Attackers) के मुख्य साजिशकर्ता मोहम्मद आदिल (Mohhamad Adil) को देश की सुप्रीम कोर्ट ने मौत की सजा (Punsihed To Death) सुनाई है. यह जानकारी अफगानिस्तान के गृह मंत्रालय ने दी है. इस जानकारी के मुताबिक इस हमले में पांच दूसरे लोगों को देशद्रोह, विस्फोटक पहुंचाने और आईएसआईएस की मदद करने के मामले में अलग-अलग जेल की सजा सुनाई गई है. ​बीते साल 2 नवंबर को काबुल यूनिवर्सिटी में दो बंदूकधारियों ने हमला बोल दिया था. हमलावरों की अंधाधुंध फायिंग में 22 लोग मारे गए थे जबकि 40 के करीब घायल हुए थे. इस घटना में मरने वाले अधिकांश छात्र थे जिनकी उम्र 20 से 26 साल के बीच थी.

    घटनाओं में 10 छात्राएं मारी गई थीं

    अफगानिस्तान के टीवी चैनल तोलो न्यूज के मुताबिक हमलावर मिलिट्री वर्दी पहनकर कैंपस में घुसे थे और ताबड़तोड़ तरीके से गोलियां चलानी शुरू कर दी थी. इस घटना में मारे गए लोगों में से 18 छात्र थे. इनमें 16 छात्र एक ही विभाग लोक प्रशासन में पढ़ाई करने वाले थे. वहीं, जबकि 2 छात्र लॉ की पढ़ाई करने वाले थे. इस घटना में कुछ 10 छात्राएं मारी गईं थीं.

    ये भी पढ़ें: पाकिस्तान पीएम इमरान खान के ड्राइवर ने सऊदी अरब की अमीर महिला व्यापारी से रचाई शादी?

    सऊदी अरब की महिला अधिकार कार्यकर्ता को करीब छह साल जेल की सजा सुनाई गई

    अफगानिस्तान के पहले उपराष्ट्रपति अब्दुल्ला सालेह ने हमले के लिए तालिबान की आलोचना की थी लेकिन तालिबान ने हमले में अपना हाथ होने से इनकार किया था. इस घटना की बाद में आईएस ने इस क्रूर हमले की जिम्मेदारी ली थी.

    हमले में मारे गए थे 15 बच्‍चे

    अफगानिस्तान में आए दिन आतंकवादी हमलों में लोग मारे जा रहे हैं. दिसंबर मध्य में एक हमले में 15 बच्चे मारे गए थे. किसी भी समूह ने हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है, वहीं तालिबान ने भी इस हमले में किसी भी तरह की भागीदारी से इनकार किया है.