Home /News /world /

भारत की इस परियोजना में टांग नहीं अड़ाएगा PAK, करने देगा जमीन का इस्तेमाल

भारत की इस परियोजना में टांग नहीं अड़ाएगा PAK, करने देगा जमीन का इस्तेमाल

पाकिस्तान ने तुर्कमेनिस्तान को तापी परियोजना के लिए आश्वासन दिया है (फाइल फोटो)

पाकिस्तान ने तुर्कमेनिस्तान को तापी परियोजना के लिए आश्वासन दिया है (फाइल फोटो)

भारत और पाकिस्तान (Pakistan and India) के बीच कश्मीर (Kashmir) को लेकर उपजे विवाद के बीच इस दस अरब डॉलर की परियोजना के भविष्य पर संदेह जताए जाने लगे थे.

    इस्लामाबाद. पाकिस्तान (Pakistan) ने तुर्कमेनिस्तान (Turkmenistan) को आश्वासन दिया है कि भारत के साथ बढ़ते तनाव का 'तापी' गैस पाइपलाइन परियोजना (Turkmenistan Afghanistan Pakistan India Pipeline Project) पर असर नहीं पड़ेगा. नयी दिल्ली और इस्लामाबाद के बीच कश्मीर (Kashmir) को लेकर उपजे विवाद के बीच इस दस अरब डॉलर की परियोजना के भविष्य पर संदेह जताए जाने लगे थे.

    जिसके बाद रविवार को मीडिया की खबरों में पाकिस्तान की ओर से यह जानकारी दी गई. जिसका मतलब यह है कि भारत के लिए इस परियोजना को पूरा किए जाने में पाकिस्तान कोई समस्या नहीं पैदा करेगा और पूरी होने के बाद भारत को निर्बाध रूप से इसका लाभ मिलेगा.

    पाकिस्तान ने तुर्कमेनिस्तान को दिया है आश्वासन
    जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) का विशेष दर्जा खत्म किए जाने के मद्देनजर भारत और पाकिस्तान के बीच उपजे तनाव के बाद कुछ पाकिस्तानी विशेषज्ञों ने तुर्कमेनिस्तान- अफगानिस्तान- पाकिस्तान- भारत (तापी) गैस पाइपलाइन और अन्य परियोजनाओं के भविष्य पर संदेह जताया था.

    एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने एक सरकारी अधिकारी के हवाले से कहा, 'पाकिस्तान ने तुर्कमेनिस्तान को आश्वासन दिया है कि भारत के साथ बढ़ते तनाव का प्रभाव इस बड़ी परियोजना पर नहीं पड़ेगा.'

    अफगानिस्तान और पाकिस्तान से गुजरकर पहुंचेगी भारत
    तापी परियोजना में दक्षिण और मध्य एशियाई क्षेत्रों को गैस पाइपलाइन के माध्यम से जोड़ने का कार्यक्रम है और इसके माध्यम से दक्षिण एशिया (South Asia) में ऊर्जा की कमी को पूरा करने में मदद करना है.

    तापी परियोजना के तहत गैस पाइपलाइन युद्धग्रस्त अफगानिस्तान और पाकिस्तान से गुजरते हुए भारत पहुंचेगी. यह परियोजना क्षेत्र में आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के साथ शांति एवं स्थिरता सुनिश्चित करेगी.

    पाकिस्तान में 2020 की पहली तिमाही में शुरू होगा निर्माण
    इस परियोजना में पाकिस्तान और अफगानिस्तान दोनों ही क्षेत्रों को सड़क, रेल (Railways) और फाइबर केबल नेटवर्क (Fiber Cable Network) से जोड़े जाने की तैयारी भी है. अधिकारियों ने बताया कि तुर्कमेनिस्तान में निर्माण कार्य पहले ही शुरू हो चुका है और जल्द ही तुर्कमान-अफगान सीमा से हेरात क्षेत्र तक इसके शुरू होने की उम्मीद है. पाकिस्तान में वर्ष 2020 की पहली तिमाही में निर्माण गतिविधियों के शुरू होने की उम्मीद है.

    यह भी पढ़ें: इमरान ने माना- भारत से युद्ध में हार जाएगा पाकिस्तान

    Tags: Afghanistan, Domestic natural gas price, Kashmir, Pakistan, South asia

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर